सीमा की निगरानी करती 'फौलादी' महिलाएं

इमेज कॉपीरइट Shib Shankar Chatterjee

भारत की अंतरराष्ट्रीय सीमा की सुरक्षा करने वाले दस्ते सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने जून, 2008 में अपना महिला विंग शुरू किया था.

इमेज कॉपीरइट Shib Shankar Chatterjee

पहली बार महिला विंग के जवानों की तैनाती अप्रैल, 2009 में पाकिस्तान से लगी सीमा रेखा पर हुई.

इमेज कॉपीरइट Shib Shankar Chatterjee

मौजूदा समय में बीएसएफ की 3084 से ज़्यादा महिला जवान पाकिस्तान और बांग्लादेश से लगी सीमा रेखा की निगरानी करती हैं. इनमें सबसे ज़्यादा पश्चिम बंगाल में 1215 महिला बीएसएफ जवान तैनात हैं.

इमेज कॉपीरइट Shib Shankar Chatterjee

इन जवानों की तैनाती त्रिपुरा, असम, मेघालय, मिज़ोरम, पश्चिम बंगाल, राजस्थान, गुजरात, पंजाब और जम्मू कश्मीर की सीमा रेखा में होती है.

इमेज कॉपीरइट Shib Shankar Chatterjee

हालांकि इनकी तैनाती दिन की रोशनी में होती है, आठ घंटे के लिए. इनकी ज़िम्मेदारियों में मानव तस्करी और ड्रग्स स्मगलिंग पर नज़र रखना शामिल है.

इमेज कॉपीरइट Shib Shankar Chatterjee

लेकिन अभी तक इन्हें रात के समय निगरानी पर तैनात नहीं किया जाता है. ऊपर की तस्वीरों में भारत और बांग्लादेश की अंतरराष्ट्रीय सीमा पर तैनात महिला बीएसएफ जवानों की है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे