प्रेस रिव्यू: 'भाजपा सांसदों पर ख़फ़ा हुए नरेंद्र मोदी'

  • 22 मार्च 2017
इमेज कॉपीरइट Reuters

हिंदुस्तान टाइम्स समेत कई अख़बारों ने पहने पन्ने पर ख़बर छापी है कि संसद में ग़ैर मौजूदगी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अपनी ही पार्टी के सांसदों से ख़फ़ा हैं. हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक़ प्रधानमंत्री ने भाजपा सांसदों को निर्देश दिए हैं कि वो सदन में उपस्थित रहें.

अख़बार कहता है कि भाजपा संसदीय दल को संबोधित करते हुए नरेंद्र मोदी बोले कि संसद की कार्यवाही में हिस्सा लेना आप लोगों की ज़िम्मेदारी है, मैं आप लोगों की तरफ़ से हिस्सा नहीं ले सकता.

इमेज कॉपीरइट EPA

साथ ही अख़बार ने उत्तर प्रदेश के नए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के उस बयान को भी पहले पन्ने पर जगह दी है जिसमें उन्होंने कहा है कि उत्तर प्रदेश को वो भ्रष्टाचार मुक्त बनाएंगे और राज्य में कोई सांप्रदायिक हिंसा नहीं होने देंगे.

द टाइम्स ऑफ़ इंडिया में छपी ख़बर के मुताबिक़ सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से पूछा है कि क्या वो ऐसे नागरिकों को 500 और हज़ार रुपए के पुराने नोटों को बदलने का एक मौक़ा और देगी जो किसी ज़रूरी वजह से ऐसा नहीं कर पाए.

अदालत ने सरकार से 11 अप्रैल तक इसका जवाब मांगा है. सरकार के नियम के मुताबिक़ जो लोग नोटबंदी के दौरान देश से बाहर थे वो 31 मार्च तक रिज़र्व बैंक से पुराने नोट बदलवा सकते हैं. लेकिन अब भी आरबीआई की कुछ शाखाओं के बाहर लोगों की बहत भीड़ लग रही है.

इमेज कॉपीरइट EPA

हिंदुस्तान हिंदी ने पहले पन्ने पर ख़बर छापी है कि रेलवे अब हर दो घंटे पर ताज़ा भोजन मुहैया कराएगा. इसके मुताबिक़ खानपान की शिकायतों की वजह से रेलवे की छवि लगातार ख़राब हो रही है इसलिए रेलवे ने ये क़दम उठाया है.

अमर उजाला के पहले पन्ने पर ख़बर छपी है कि केंद्र सरकार ने देश भर के विश्वविद्यालयों और राज्यों को रैगिंग से निपटने के सख्त निर्देश दिए हैं जिसके तहत अब रैंगिग को रोकने के नियम और कड़े बनाए जा रहे हैं. अख़बार के मुताबिक़ अब जूनियर को घूरना और किसी लड़की को ज़बरदस्ती दोस्ती का प्रस्ताव देना भी रैंगिग की श्रेणी में आएगा.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे