ऐसे काम कर रहा है एंटी रोमियो दस्ता

  • 23 मार्च 2017
इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL

उत्तर प्रदेश में आदित्यनाथ के नेतृत्व में बनी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार ने संकल्प पत्र पर अमल शुरू कर दिया है. संकल्प पत्र में भाजपा ने महिलाओं के साथ छेड़खानी रोकने के लिए रोमियो दस्ता बनाने की बात कही थी.

योगी आदित्यनाथ सीएम हैं कोई ख़ुदा नहीं- असदुद्दीन ओवैसी

क्या है योगी आदित्यनाथ की हिंदू युवा वाहिनी

पुलिस के ज़िम्मे अब नया काम रोमियो यानि कि मनचलों को पकड़ने का आ गया है. अधिकारियों ने ज़िले के हर थाने में ''एंटी रोमियो स्क्वॉड'' बनाने का आदेश दिया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के चेतगंज थाना में आने वाले आर्य महिला कालेज में पुलिस ने रोमियो यानि मनचलों को पकड़ने का अभियान चलाया.

हालाँकि कोई हाथ नहीं आया, लेकिन इससे वहां अफ़रा-तफ़री ज़रूर मच गई.

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL
Image caption पुलिस डीएसपी अनुराग आर्य

चेतगंज क्षेत्र के क्षेत्राधिकारी अनुराग आर्य ने बीबीसी हिंदी को बताया कि सिगरा शहीद पार्क और आर्य महिला कालेज में ''एंटी रोमियो स्क्वॉड'' ने अभियान चलाया. लेकिन फ़िलहाल कोई पकड़ा नहीं गया है.

जब योगी आदित्यनाथ को एबीवीपी का टिकट न मिला..

नज़रिया: योगी आदित्यनाथ को संघ ने बनवाया मुख्यमंत्री

उन्होंने बताया कि पार्क, भीड़-भाड़ वाली जगह और स्कूल-कालेज के बाहर ये अभियान चलाया जा रहा है.

उन्होंने बताया कि शासन की ओर से अभी इसका प्रोफार्मा और गाइड लाइन नहीं आई है. लेकिन अभी थाना स्तर से ये ''एंटी रोमियो स्क्वॉड'' की टीम गठित कर दी गई है.

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL
Image caption छात्रा ऐश्वर्या

आर्य महिला कालेज की छात्रा ऐश्वर्य ने बीबीसी हिंदी को बताया कि इस तरह की नई चीज़ें बनती तो हैं लेकिन उसे अमल में भी लाया जाए.

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL
Image caption नैन्सी वर्मा

एक अन्य छात्रा नैन्सी वर्मा ने बताया कि पिछली सरकार ने महिलाओं की मदद के लिए 1090 नंबर डायल करने की सुविधा भी शुरू की थी, लेकिन जागरूकता की कमी और लड़कियों के उनके अभिभावकों द्वारा मोबाइल का इस्तेमाल नहीं करने देने से ये कारगर नहीं हो पाया.

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL
Image caption प्रेरणा श्रीवास्तव

एक अन्य छात्रा प्रेरणा श्रीवास्तव ने बताया कि सरकार का ये कदम अच्छा है. इसे ठीक से अमल में लाया जाना चाहिए.

उन्होंने कहा कि चीज़ें शुरू तो होती हैं. लेकिन एक-दो महीने में मामला ठंडा पड़ जाता है. उन्होंने कहा कि जागरूकता भी काफ़ी ज़रूरी है. कभी-कभी इस तरह के नियमों के शिकार परिवार के सदस्य हो जाते हैं, जो साथ में रहते हैं. इसपर ध्यान देने की जरूरत है.

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL
Image caption वर्षा सिंह

वर्षा सिंह ने बताया कि रोज़मर्रा के जीवन में सड़क पर चलने से लेकर ऑटोरिक्शा और बसों में बैठना तक मुश्किल हो चुका है.

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL
Image caption ज्योति भूषण

कॉलेज में पुलिस के ''एंटी रोमियो स्क्वाड'' टीम के अभियान के दौरान कालेज परिसर में ही एक बैंक का एटीएम इस्तेमाल करने आए पेशे से कंप्यूटर टीचर ज्योति भूषण काफ़ी घबरा गए.

उन्होंने कहा कि इस महिला कालेज के परिसर में स्थित एक बैंक में उनका एकाउंट है, लेकिन अब अगली बार यहां आने से पहले सोचना पड़ेगा. उन्होंने कहा कि पुलिस को मनचलों और आम लोगों में फ़र्क करना चाहिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)