यूपी में दो बहनों का बलात्कार और हत्या

  • 27 मार्च 2017
इमेज कॉपीरइट Thinkstock

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी ज़िले में दो नाबालिग बहनों की बलात्कार के बाद हत्या कर दी गई है. पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद बलात्कार की पुष्टि की है.

पुलिस के अनुसार दोनों बच्चियों के शव एक गन्ने के खेत में आस-पास पड़े हुए मिले थे.

लखीमपुर खीरी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक दीपेंद्र नाथ चौबे ने बीबीसी को बताया, "दोनों बच्चियों का पोस्टमॉर्टम मेडिकल बोर्ड से कराया गया. पोस्टमॉर्टम में बलात्कार के बाद हत्या की पुष्टि हुई है."

चौबे के मुताबिक अभी तक पुलिस ने किसी को गिरफ़्तार नहीं किया है. उनका कहना है कि घटना हमीरपुर थाना क्षेत्र की है और दो लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है.

'यहां बलात्कार की ख़बरें आम हैं, नया क्या है?'

ट्रांसजेंडर बलात्कारी को महिला जेल भेजा गया

इमेज कॉपीरइट AFP

पुलिस का कहना है कि दोनों बच्चियों की उम्र लगभग 11-12 साल है और ये सगी बहनें हैं.

पुलिस के मुताबिक दोनों लड़कियां शनिवार को घर से गेहूं की बालियां बीनने जंगल गईं थीं और शाम होने तक घर नहीं लौटीं.

अगली सुबह उनके शव गांव से लगभग एक किलोमीटर दूर एक गन्ने के खेत में आसपास पड़े हुए मिले.

निर्भया कांड के बाद बढ़े फ़र्जी बलात्कार के मामले?

एक बलात्कारी को कोर्ट ने क्यों छोड़ दिया

उत्तर प्रदेश के नए मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी ने प्रदेश को लड़कियों के लिए सुरक्षित बनाने का वादा किया है.

इमेज कॉपीरइट AP

मुख्यमंत्री बनने के बाद गोरखपुर में दिए अपने पहले सार्वजनिक भाषण में योगी ने कहा था, "हम प्रदेश का माहौल ऐसा सुरक्षित बनाएंगे कि लड़कियां रात के दस-बारह बजे भी घर से अकेले निकलने में सुरक्षित महसूस करें."

गोरखपुर में ही भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए भी आदित्यनाथ योगी ने महिलाओं की सुरक्षा पर ज़ोर दिया था.

यूपी पुलिस छेड़खानी की वारदातें रोकने के लिए एंटी-रोमियो अभियान चला रही है जिसके लिए विशेष दस्ते का गठन भी किया गया है.

उत्तर प्रदेश में महिला सुरक्षा एक बड़ा मुद्दा है. समाजवादी पार्टी की पिछली सरकार पर भी गुंडागर्दी और बलात्कार की घटनाओं पर गंभीरता नहीं बरतने और नरमी के आरोप लगते रहे थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे