'बीफ़ कारोबारी' भाजपा नेता को गौरक्षकों ने पीटा

इमेज कॉपीरइट AFP

उत्तर प्रदेश पुलिस का कहना है कि गोरक्षा दल के लोगों ने उत्तर प्रदेश के मेरठ में भारतीय जनता पार्टी के नेता राहुल ठाकुर को बुरी तरह पीटा है.

मेरठ के भावनपुर के पुलिस अधिकारी सत्येंद्र सिंह ने बीबीसी से कहा, "गोरक्षा दल के कार्यकर्ताओं ने राहुल ठाकुर को बुरी तरह पीटा. इस मामले में हमने कुछ लोगों को गिरफ़्तार किया है."

कहीं बीफ़ पर पाबंदी है, कहीं लोग ख़ुद छोड़ रहे हैं..

क्या कहते हैं बूचड़खानों के हिंदू मालिक?

'बूचड़ख़ाने बंद हुए तो हिंदू-मुसलमान दोनों का जाएगा रोज़गार'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सत्येंद्र सिंह ने कहा कि कुछ लोगों ने पुलिस को शिकायत की कि एक बंद पड़े बीफ़ स्टोर से बदबू आ रही है.

पुलिस ने वहां छापा मार कर मांस बरामद किया और उसके नमूने जांच के लिए भेज दिए हैं.

सत्येंद्र सिंह के मुताबिक़, यह स्टोर रॉयल फ़ूड कॉरपोरेशन का था.

बंटवारे की लड़ाई

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मेरठ विश्वविद्यालय के प्रोफ़ेसर सतीश प्रकाश ने कहा, "जो लोग जानवर बचाने की बात करते थे, आज उन पर ही बीफ़ व्यवसाय से जुड़े होने का आरोप लग रहा है."

प्रोफ़ेसर प्रकाश ने बीफ़ व्यवसाय और चमड़ा उद्योग पर काफ़ी शोध किया है.

उन्होंने हाल के दिनों में ग़ैरक़ानूनी बूचड़खानों को बंद कराने के राज्य सरकार की मुहिम की मंशा पर सवालिया निशान लगाया है.

उन्होंने कहा, "यह पशुधन बचाने का संघर्ष नहीं है, यह सिर्फ़ फ़ायदे के बंटवारे की लड़ाई है."

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

वे कहते हैं कि केंद्र सरकार बीफ़ निर्यात पर प्रतिबंध लगा दे. बीफ़ कारोबार का बड़ा हिस्सा निर्यात होता है, उस पर प्रतिबंध लग जाए तो इस पर काफ़ी हद तक रोक लग जाएगी.

रॉयल फ़ूड कॉरपोरेशन के प्रबंधक अजय राघव ने भी मेरठ में हमला होने और मारपीट करने की पुष्टि की है. लेकिन उन्होंने कहा कि यह उनके यहां नहीं हुआ है.

राहुल ठाकुर से संपर्क करने की तमाम कोशिशें नाकाम रहीं.

रॉयल फ़ूड कॉरपोरेशन मेरठ के जागृति विहार में है. इस कंपनी में लगभग पांच सौ लोग काम करते हैं और इसका सालाना कारोबार लगभग 50 करोड़ रुपए का है.

कंपनी नेपाल और भूटान को बीफ़, मुर्गी और बकरे का मांस निर्यात करती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे