नज़रिया- 'योगी आदित्यनाथ को ख़ास इमेज में क़ैद रखने की कोशिश'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बारे में मीडिया में इतनी बातें होने से एक फ़ायदा यह हुआ कि पत्रकार गोरखपुर जाकर यह देखने लगे कि वाकई में गोरखनाथ राक्षसों का अड्डा है क्या? और, जो उन लोगों ने उनके बारे में पाया है, वो एकदम उलट है.

योगी आदित्यनाथ को इतना मुस्लिम विरोधी दिखाया जा रहा है कि उनके दूसरे कामों को लोग देख ही नहीं रहे हैं.

सालों से उनके यहां लगने वाले जनता दरबार में हर जाति और धर्म के लोग अपनी समस्या लेकर आते हैं. और जायज़ शिकायत होने पर बिना किसी भेदभाव के वो उस पर सुनवाई करते हैं. निजी तौर पर उनके मुसलमानों के साथ अच्छे रिश्ते हैं.

इन मुकदमों में योगी आदित्यनाथ का क्या होगा?

वो ख़ुद भी एक बात कहते रहे हैं कि उत्तर प्रदेश में हर कहीं दंगे हुए हैं लेकिन गोरखपुर में नहीं हुए हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

अवैध बूचड़खाने बंद करने के फ़ैसले की ही सिर्फ़ चारों तरफ चर्चा हो रही है, जैसे कोई दूसरा काम वो कर ही नहीं रहे हैं.

ये बूचड़खाने भी अपनी मनमर्जी से नहीं बंद किए जा रहे हैं. नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के आदेश पर ये फ़ैसला लिया गया है.

जहां तक उनके दूसरे आदेशों की बात है, तो उन्होंने अपने मंत्रियों को अपनी संपत्ति का ब्यौरा 15 दिनों के अंदर लिखित में देने को कहा है.

उन्होंने एक तरह से अपने मंत्रियों और अफ़सरों पर नकेल कसी है.

जब योगी आदित्यनाथ को एबीवीपी का टिकट न मिला..

इसके अलावा जो एक अहम कदम उन्होंने उठाया है, वो है सरकारी दफ्तरों में पान मसाला पर रोक लगाना. इसकी भी कोई चर्चा नहीं कर रहा है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अच्छी बात है कि वो हर चीज़ की शुरुआत सरकारी दफ़्तरों से कर रहे हैं.

अधूरे विकास कार्य जिन पर हज़ारों करोड़ खर्च हुए हैं, उनकी भी वो समीक्षा कर रहे हैं.

24 घंटे बिजली देने का उनका वादा भी कोई छोटी-मोटा वादा नहीं है.

एंटी-रोमियो मुहिम: मोहब्बत करने कहां जाएं रोमियो-जूलियट?

उत्तर प्रदेश में उद्योग-धंधे का विकास बिजली की कमी की वजह से आज तक नहीं हो पाया है.

उन्होंने ऑनलाइन भर्ती जैसे अहम कदम उठाने की भी बात कही है ताकि चयन प्रक्रिया में पारदर्शिता आ सके.

उन्होंने विश्वविद्यालय खोलने की बात कही है और इस बाबत और बात होनी चाहिए ताकि ये पता चले कि ये कैसे हो पाएगा.

इमेज कॉपीरइट ROSHAN JAISWAL

लेकिन इतने अहम फ़ैसलों के बावजूद क्यों सिर्फ़ एंटी रोमियो स्कवॉड की ही बात की जा रही है?

इस फ़ैसले से उत्तर प्रदेश की महिलाएं ख़ुश हैं. इससे सिर्फ़ दिल्ली में बैठे कुछ बुद्धिजीवी, धर्मनिरपेक्ष और वामपंथियों के पेट में ही दर्द हो रहा है.

(बीबीसी संवाददाता निखिल रंजन से बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे