पीपीएफ सहित कई स्कीम की ब्याज दरों में कटौती

  • 31 मार्च 2017
ब्याज दर इमेज कॉपीरइट Reuters

सरकार ने छोटे बचत स्कीमों की ब्याज दरों में कटौती कर दी है. ये स्कीम हैं- पीपीएफ (पब्लिक प्रोविडेंट फंड), किसान विकास पत्र, सुकन्या समृद्धि खाता और वरिष्ठ नागरिक बचत.

वित्त मंत्रालय की अधिसूचना के मुताबिक़ अप्रैल-जून तिमाही से इन स्कीमों की ब्याज दरों में 0.1 फ़ीसदी की कटौती की गई है.

सुकन्या समृद्धि स्कीम बच्चियों के लिए है, जिस पर 8.4 फ़ीसदी वार्षिक ब्याज दर है. वित्त मंत्रालय ने कहा है कि नई ब्याज दर 2016-17 की चौथी तिमाही के लिए है जो एक अप्रैल 2017 से शुरू होगा.

वित्त मंत्री जेटली के आम बजट की मुख्य बातें

इसी तरह किसान विकास पत्र पर ब्याज दर 7.6 फ़ीसदी हो जाएगी. पांच वर्षीय वरिष्ठ नागरिक बचत योजना पर 8.4 फ़ीसदी और पांच वर्षीय नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट पर ब्याज दर 7.9 फ़ीसदी हो जाएगी.

इमेज कॉपीरइट Reuters

हालांकि बचत खाता पर ब्याज दर सालाना 4 फ़ीसदी ही है. एक से पांच साल के लिए सावधि जमा योजना पर ब्याज दर 6.9-7.7 फ़ीसदी हो गई है. इसका भुगतान तिमाही में होगा. पांच वर्षीय आरडी पर ब्याज दर कम करके 7.2 फ़ीसदी कर दी गई है.

नीलेकणी की पीठ ठोक कर फँस गए जेटली

वित्तीय व्यवस्था में ब्याज दरों में कमी आने के बाद इन स्कीमों की ब्याज दरों में कटौती की गई है. इससे पहले इपीएफओ ने पीएफ में ब्याज दरों में कटौती का फ़ैसला किया था. 2015-16 में पीएफ पर ब्याज दर को 8.8 फ़ीसदी से 8.65 फ़ीसदी कर दिया गया था.

पिछले साल अप्रैल से सभी छोटी बचत स्कीमों की ब्याज दरों में तिमाही आधार पर बदलाव किया गया था. ब्याज दरों को सरकारी बॉन्डों के मुनाफे से जोड़ दिया गया है. श्यामला गोपीनाथ पैनल ने सिफारिश की थी कि ब्याज दरों को प्रत्येक तिमाही आधार बदलाव किया जाना चाहिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे