जो बाप का न हुआ किसी और का क्या होगा: मुलायम

  • 1 अप्रैल 2017
समाजवादी पार्टी इमेज कॉपीरइट facebook

मैनपुरी में उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने अपने बेटे अखिलेश यादव पर सार्वजनिक रूप से ग़ुस्सा निकाला है.

मुलायम सिंह ने शनिवार को कहा कि उनके बेटे ने उन्हें अपमानित किया और जनता को यह बात समझ में आ गई कि जो अपने बाप का नहीं हुआ वो किसी और का क्या होगा. मुलायम सिंह ने कहा कि इसीलिए समाजवादी पार्टी की बुरी तरह से हार हुई.

मुलायम सिंह ने कहा कि नई पार्टी बनाने पर अभी कोई फ़ैसला नहीं हुआ है. उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में हार के बाद मुलायम सिंह पहली बार ग़ुस्से में दिखे.

मुलायम सिंह यादव अब क्या करेंगे?

समाजवादी पार्टी ने अखिलेश यादव के नेतृत्व में चुनाव लड़ा था. चाचा शिवपाल यादव से विवाद और कलह के बाद अखिलेश ने पार्टी की कमान अपने पिता से झटक ख़ुद के पास ले ली थी.

मुलायम की पत्नी क्यों आईं मीडिया के सामने?

इमेज कॉपीरइट Reuters

मुलायम सिंह ने कहा, ''मुझे बुरी तरह से अपमानित किया गया. मैंने ऐसा अपमान जीवन में कभी नहीं देखा था. फिर भी मैंने इसे सहन किया. भारतीय राजनीति में अपने जीवनकाल में किसी पिता ने अपने बेटे को मुख्यमंत्री नहीं बनाया पर मैंने अखिलेश को उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाया.''

समाजवादी पार्टी को उत्तर प्रदेश की 403 सीटों में सिर्फ़ 47 सीटों पर जीत मिली है.

अखिलेश ने समाजवादी पार्टी में चुनाव से ठीक पहले ख़ुद को पार्टी प्रमुख बना लिया था. मुलायम ने ख़ुद को चुनाव प्रचार से अलग रखा था. उन्होंने केवल शिवपाल यादव के लिए दो जनसभाएं की थीं. मुलायम सिंह कांग्रेस से गठबंधन के पक्ष में नहीं थे.

नज़रिया: 'अखिलेश पार्टी को संकट से निकाल पाएंगे या.....'

इमेज कॉपीरइट ASHOK NATH DEY

दिलचस्प है कि मुलायम सिंह ने उत्तर प्रदेश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कन्नौज में दिए भाषण को याद किया.

इस रैली में पीएम ने अखिलेश के बारे में कहा था कि जो अपने पिता का नहीं हुआ वो किसी और का क्या होगा. मुलायम सिंह ने शनिवार को कहा कि लोगों ने प्रधानमंत्री के बयान को गंभीरता से लिया.

उन्होंने कहा कि अखिलेश के अपमानजनक व्यवहार के कारण उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की हार हुई. मुलायम सिंह ने मैनपुरी में एक होटल के उद्घाटन के दौरान पार्टी के कार्यकर्ताओं से यह बात कही.

मुलायम सिंह ने यह भी कहा कि परिवार में कलह के कारण भी चुनाव में हार का सामना करना पड़ा. मुलायम सिंह ने कहा कि अखिलेश ने अपने चाचा को कैबिनेट से बर्खास्त कर दिया था. उन्होंने कहा कि जो सबसे कड़ी मेहनत करता था उसे भी अपमानित किया.

इमेज कॉपीरइट Reuters

नई पार्टी बनाने को लेकर मुलायम सिंह ने कहा, ''इस पर अभी कोई फ़ैसला नहीं लिया गया है. व्यापक विचार-विमर्श के बाद ही फ़ैसला लिया जाएगा.'' राम जन्मभूमि विवाद पर मुलायम ने कहा कि उन्होंने इसे बातचीत के ज़रिए सुलझाने की कोशिश की थी लेकिन सफलता नहीं मिली.

इमेज कॉपीरइट samajwadiparty.in

हाल ही में संपन्न हुए उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने जबर्दस्त जीत हासिल की थी. बीजेपी को 312 सीटों पर जीत मिली थी. कांग्रेस सात सीटों पर ही सिमट कर रह गई. मायावती के नेतृत्व वाली बहुजन समाज पार्टी भी 19 सीटें ही जीत पाई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे