क्या शराबबंदी के लिए अभी तैयार नहीं है बिहार?

शराब भट्ठी के ख़िलाफ़ कार्रवाई इमेज कॉपीरइट Ranjeet Kumar

पटना के कंकड़बाग इलाके में केंद्रीय विद्यालय की चारदीवारी के पास की झोपड़ी में रहने वाली खतीजा ख़ातून शराबबंदी से बेहद ख़ुश हैं.

उन्होंने बीबीसी से कहा, ''पहले लोग दारू पीता था. पियांक होता था. केकरो मार दिया, केकरो पीट दिया. अब शांति है. घरो भी, बाहरो भी.''

अब बाहर भी शराब नहीं पी सकते बिहार के सरकारी कर्मचारी

अब छत्तीसगढ़ की सरकार ही बेचेगी शराब

वो देश जहां टीनएजर ना शराब पीते हैं ना सिगरेट

वहीं नाला रोड की गीता देवी कहती हैं, ''लड़ाई-झगड़ा, गाली-गलौच कुछ नहीं होता है अब. जो दू पैसा कमा के लाता है, वह खिलाता-पिलाता है. अब शांति है.''

आज बिहार में शराबबंदी लागू हुए एक साल पूरे हो गए. सूबे में एक अप्रैल, 2016 को शराबबंदी के पहले चरण की शुरुआत हुई थी. इसके पांचवें दिन ही अचानक सूबे में पूर्ण शराबबंदी की घोषणा कर दी गई थी.

इमेज कॉपीरइट Manish Shandilya

महिला संगठन और आम लोग सरकार के इस दावे से सहमत हैं कि शराबबंदी से घरेलू हिंसा कम हुई है. पारिवारिक-सामाजिक माहौल भी बेहतर हुआ है.

मीनू तिवारी अखिल भारतीय प्रगतिशील महिला असोसिएशन यानी एपवा की राष्ट्रीय महासचिव हैं.

वो कहती हैं, ''कुछ गांवों की महिलाओं ने हमें बताया कि शाम के समय सार्वजनिक जगहों पर जो हंगामा होता था, वह शराबबंदी के शुरुआती दौर में कम हो गया था.''

इमेज कॉपीरइट Manish Shandilya

लेकिन सरकार के ही दूसरे आंकड़े कुछ अलग कहानी बयां करते हैं.

बीते साल भर में शराबबंदी क़ानून के तहत 43,000 से अधिक लोग जेल भेजे जा चुके हैं. जेल भेजे गए इन लोगों में से हज़ारों ज़मानत पर रिहा भी हुए हैं.

शराबबंदी के बाद अब तक सवा दो लाख लीटर से अधिक देसी और करीब साढ़े चार लाख लीटर विदेशी शराब ज़ब्त की गई है.

समाजशास्त्री और सामाजिक कार्यकर्ता मानते रहे हैं कि शराबबंदी या नशामुक्ति प्रशासनिक से ज़्यादा सामाजिक मुद्दा है.

बिहार में शराबबंदी के लिए समाज को तैयार करना इस कारण भी ज़रूरी है कि यह चारों ओर से ऐसे राज्यों और देश से घिरा है, जहां शराबबंदी नहीं है.

इमेज कॉपीरइट Ranjeet Kumar

ऐसे में क्या ये गिरफ़्तारियां इस ओर भी इशारा करती हैं कि समाज को शराबबंदी के लिए पूरी तरह जागरूक किए बगैर ही सूबे में शराब पर रोक लगा दी गई?

सरकारी महकमा जन शिक्षा निदेशालय ने शराबबंदी लागू होने से पहले करीब तीन महीनों तक सघन अभियान चलाया था.

इस कड़ी में बिहार सरकार की पहल पर शराबबंदी के समर्थन में इस साल जनवरी में दुनिया की सबसे बड़ी मानव श्रृंखला बनाने का दावा किया गया.

मीनू तिवारी कहती हैं, ''मानव जंजीर बना देने से समाज में जागरूकता नहीं आएगी. रोज़गार के पर्याप्त मौके पैदा किए बग़ैर, खेल-कूद को बढ़ावा दिए बिना, सांस्कृतिक और मनोरंजक केंद्रों का इंतजाम किए बग़ैर यह जागरण नहीं लाया जा सकता.''

इमेज कॉपीरइट biharpictures.com

मीनू के मुताबिक़, सरकार जागरुकता पैदा करने करने के बजाय लोगों को डरा कर शराब बंद करवाना चाह रही है.

शराबबंदी क़ानून के कुछ प्रावधान महिला विरोधी भी हैं, मसलन, घर में शराब मिलने पर महिलाओं की भी गिरफ़्तारी हो सकती है.

वहीं समाजशास्त्री और एएन सिन्हा इंस्टिट्यूट ऑफ़ सोशल साइंस के पूर्व निदेशक डॉ डीएम दिवाकर का मानना है कि बिहार के शराबबंदी के फ़ैसले से समाज, राज्य और देश में अच्छा संदेश गया है.

इमेज कॉपीरइट MANISH SHANDILYA

शराबबंदी के तहत हुई हज़ारों लोगों की गिरफ़्तारी पर उनका कहना है कि ये गिरफ़्तारियां डर पैदा कर शराबबंदी लागू करने का एक तरीक़ा हो सकती है. लेकिन वास्तविक तरीका लोगों के बीच जागरूकता बढ़ाना ही है.

दिवाकर कहते हैं, ''शराबबंदी के बाद समाज से अधिक सहयोग मिला है, समाज की तैयारी भी है. सरकार मजबूती दिखाए तो यह बिहार ही नहीं, सूबे के बाहर भी कई राज्यों में प्रभावी हो सकता है.''

शराबबंदी का दूसरा पहलू यह है कि इससे सरकार को सैकड़ों करोड़ रुपए के राजस्व का नुक़सान भी हुआ है. इस संबंध में दिवाकर दो बिल्कुल अलग पक्ष सामने रखते हैं.

इमेज कॉपीरइट PRASHANT RAVI

पहला यह कि जो क़रीब आठ हज़ार करोड़ का नुक़सान हुआ है, वह समाज को हुए फ़ायदे के सामने बेमानी है.

सीएजी रिपोर्ट कर हवाला देते हुए वे दूसरी बात यह कहते है कि समाज के विकास के लिए हमारे पास जो साधन है बिहार सरकार उसे ही पूरी तरह खर्च नहीं कर पा रही है.

सरकार के आंकड़े हैं कि पंचायत को मिली 66 फ़ीसद राशि खर्च ही नहीं हुई.

दिवाकर कहते हैं, ''बिहार में शराबबंदी से राजस्व की हानि से बड़ा मुद्दा उपलब्ध राजस्व के गुणात्मक इस्तेमाल का है.''

इमेज कॉपीरइट biharpictures.com

शराबबंदी के एक साल के सामाजिक-आर्थिक असर पर सत्तारूढ़ जदयू के प्रवक्ता नीरज कुमार का कहना है, ''राजस्व की क्षति हुई, राज्य के खजाने को पांच हज़ार करोड़ का नुक़सान हुआ है तो सरकार का अनुमान है आम लोगों के जेब में 10 हज़ार करोड़ गए हैं.''

वहीं जागरूकता के सवाल पर वे कहते हैं, ''शराबबंदी को लेकर जागरूकता केवल सरकार के भरोसे नहीं लाई जा सकती. तमाम राजनीतिक दलों, महिला संगठनों, सिविल सोसायटी को अपनी पूरी सांगठनिक ताक़त से इसमें अहम भूमिका निभानी होगी.''

इस साल जनवरी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शराबबंदी के फ़ैसले के लिए सार्वजनिक रुप से बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की तरीफ़ की थी.

इस तारीफ़ के बहाने नीरज मांग करते हैं, ''भाजपा शासित हमारे पड़ोसी राज्य अगर शराबबंदी लागू कर दें तो शराबबंदी और प्रभावी ढंग से लागू हो पाएगा.'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे