ईवीएम पर्ची मामले में भिंड के डीएम, एसपी को हटाया गया

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मध्य प्रदेश में भिंड ज़िले के अटेर में ईवीएम मशीन के डेमो के दौरान किसी भी बटन को दबाने पर वोट भाजपा को मिलने के आरोप के बाद कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक को हटा दिया गया है.

इस मामले में कार्रवाई करते हुए शनिवार रात भिंड के कलेक्टर इलैया राजा टी और एसपी अनिल सिंह कुशवाह को हटाया गया है.

मध्य प्रदेश की मुख्य निर्वाचन अधिकारी सलिना सिंह ने दो विधानसभाओं के लिए 9 अप्रैल को होने वाले उपचुनाव में इस्तेमाल होने वाली मशीनों का डेमॉन्सट्रेशन रखा था.

डेमॉन्सट्रेशन के दौरान अलग-अलग बटन दबाने पर भाजपा के चुनाव निशान कमल की ही पर्ची निकली थी.

इस ख़बर के सामने आने के बाद सियासी आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया.

क्या है वीवीपैट

क्या ईवीएम के साथ छेड़छाड़ हो सकती है?

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव ने भी चुनाव आयोग को चिट्ठी लिख कर प्रदेश में इस्तेमाल होने वाली ईवीएम में गड़बड़ी होने की आशंका जताते हुए मतपत्रों से चुनाव कराने की मांग की है. वहीं आम आदमी पार्टी ने मुख्य चुनाव अधिकारी के दफ्तर के बाहर प्रदर्शन कर उन्हें हटाने की मांग की है.

चुनाव आयोग ने भोपाल से इस मामले की रिपोर्ट मांगी थी जिसके बाद देर रात दोनों अधिकारियों का ट्रांसफर कर दिया गया.

इमेज कॉपीरइट EPA

अटेर में पहली बार वीवीपैट से चुनाव होने है. इसके ज़रिये मतदाता को ये पता चल जाता है कि उसने जो वोट डाला है वो किस पार्टी को गया है.

पर्ची सिर्फ़ सात सेकंड तक रहती है और उसके बाद वो डिब्बे में चली जाती है. किसी भी किस्म की आपत्ति होने पर मतदाता इसकी शिकायत तुरंत कर सकता है.

सीईओ: ईवीएम की हैकिंग या रीप्रोग्रामिंग नहीं की जा सकती

अफ़सर की सफ़ाई

इस पूरे प्रकरण पर जब बीबीसी ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सलीना सिंह से बात की तो उन्होंने कहा कि अटेर में हुआ डेमो सिर्फ़ पत्रकारों को नई व्यवस्था समझाने के लिए था.

उन्होंने सफ़ाई दी कि मशीनें ठीक से कैलिब्रेट नहीं की गई थीं, केवल प्रेस के लोगों की जिज्ञासा शांत करने के लिए दिखाया गया था.

चुनाव आयोग ने इस घटना का संज्ञान लेते हुए मुख्य चुनाव अधिकारी को तलब किया है. सलीना सिंह ने बताया कि उन्होंने पूरी जानकारी चुनाव आयोग को भेज दी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे