महिलाएं शराब की दुकानों पर गुस्सा क्यों उतार रही हैं?

  • 5 अप्रैल 2017
इमेज कॉपीरइट Rohit Ghosh

कानपुर में शराब की दुकानों के खिलाफ जो विरोध शनिवार से शुरू हुआ है वो थमने का नाम नहीं ले रहा है.

अब सिर्फ कानपुर ही नहीं उत्तर प्रदेश के दूसरे ज़िलों में भी शराब की दुकानें स्थानीय लोगों के निशाने पर आ रही हैं.

कानपुर में मंगलवार को शहर के बीचोंबीच स्थित बजरिया मोहल्ले में तीन शराब की दुकानों पर लोगों ने हल्ला बोल दिया.

हाल ही में भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने राष्ट्रीय और स्टेट हाइवे के 500 मीटर के दायरे में कहीं भी - दुकान, होटल या बार, में शराब की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया है.

इमेज कॉपीरइट Rohit Ghosh

जो दुकानें इस दायरे में आ रही थीं, वह अब स्थानांतरित होकर घनी आबादी वाले मोहल्लों में खुल रही हैं. इसके ख़िलाफ़ लोगों ने खासकर महिलाओं ने मोर्चा खोल दिया है.

मधुशाला पर ताले, राजस्व के पड़े लाले

सोशलः 'तुम मुझे शराब दो, मैं तुम्हें कबाब दूंगा'

'कोई घर बर्बाद नहीं होने देंगे'

बजरिया में शराब की तीन दुकानें सुबह खुली ही थीं कि लोगों के एक हुजूम ने दुकानों पर पथराव शुरू कर दिया. दुकानवाले जैसे-तैसे दुकानों को बंद करके भाग खड़े हुए.

बजरिया की एक स्थानीय महिला इंदुमति ने कहा, "लोग शराब की दुकानों में आते हैं, शराब पीतें हैं. महिलाओं का निकलना मुश्किल हो जाता है."

इमेज कॉपीरइट Rohit Ghosh

वो कहती हैं, "महिलाओं पर फब्तियां भी कस्ते हैं. हम लोगों ने शिकायत भी की है, पर उसका कोई असर नहीं हुआ. इसलिए हम लोग अब आवाज़ उठा रहे हैं."

छत्तीसगढ़ सरकार खुद से ही बेचेगी शराब

बहुत महंगा पड़ेगा शराब पीकर गाड़ी चलाना

आत्मदाह की कोशिश

इमेज कॉपीरइट Rohit ghosh

सोमवार को कानपुर में शराब बिकने के विरोध में कुक्कू नाम के एक व्यक्ति ने खुद पर मिट्टी का तेल डाल कर आत्मदाह करने की कोशिश की.

कुक्कू ने कहा, "शराब की दुकान बंद कराने को लेकर हमने पहले भी प्रदर्शन किया था. पर उसकी कोई सुनवाई नहीं हुई.

उन्होंने कहा- "हमारे इलाके में कई घर बर्बाद हो चुके हैं. अब महिलाओं ने बीड़ा उठाया है की ये दुकान हमारे क्षेत्र में न रहे. हम और कोई घर बर्बाद होने नहीं देना चाहते हैं."

महिलाएं जिनके डर से नशा हो जाता है हिरन

वो देश जहां टीनएजर ना शराब पीते हैं ना सिगरेट

'ये बोतलें सरकार की हैं'

इमेज कॉपीरइट Rohit Ghosh

कानपुर में जो भी हो रहा है उससे शराब व्यापारी चिंतित हैं. उनका कहना है की वो जो कर रहे हैं क़ानून के दायरे में ही कर रहे हैं.

शराब की दुकान चलाने वाले राम नगीना सिंह कहते हैं, "सरकार ने शराब की दुकानों को लाइसेंस दिया है. उसके बाद अगर कोई भी दुकान में बाधा देता है तो वह राजस्व की हानि है. दुकान में जो शराब की बोतलें रखी हैं वो सरकार की हैं."

शराब की दुकानों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन की खबरें वाराणसी, बलिया, आजमगढ़, जौनपुर, हाथरस से भी आ रही हैं. पर अभी तक न तो पुलिस-प्रशासन ने कुछ कहा है और न ही एक्साइज़ विभाग ने.

शराब और सिगार से लुभाया जाता था अमरीकी वोटर को

अब बिहार से बाहर शराब पीने पर भी सज़ा

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे