आख़िर दलाई लामा से इतना क्यों चिढ़ता है चीन?

दलाई लामा इमेज कॉपीरइट AFP

चीन ने 14वें दलाई लामा की अरुणाचल प्रदेश यात्रा पर भारत से कड़ी नाराज़गी जताई है.

हालांकि भारत ने कहा कि चीन को भारत के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए और दलाई लामा अरुणाचल प्रदेश गए. इसके बाद चीन ने भारतीय राजदूत वीके गोखले को समन भेज कड़ा विरोध जताया.

चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा, ''इस यात्रा का भारत और चीन के संबंधों पर ज़रूर असर पड़ेगा. इससे भारत को कई फ़ायदा नहीं होने वाला है.''

दलाई लामा की अरुणाचल यात्रा से चीन-भारत रिश्तों को नुकसान हुआ: चीन

दलाई लामा 81 साल के तिब्बती आध्यात्मिक नेता है. चीन तिब्बत पर अपना दावा पेश करता है. आख़िर 81 साल के इस बुज़ुर्ग से चीन इतना चिढ़ा क्यों रहता है? जिस देश में भी दलाई लामा जाते हैं वहां की सरकारों से चीन आधिकारिक तौर पर आपत्ति जताता है. आख़िर ऐसा क्यों है?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

चीन दलाई लामा को अलगाववादी मानता है. वह सोचता है कि दलाई लामा उसके लिए समस्या हैं.

दलाई लामा अमरीका भी जाते हैं तो चीन के कान खड़े हो जाते हैं. हालांकि 2010 में तत्कालीन अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने चीन के विरोध के बावजूद दलाई लामा से मुलाक़ात की थी.

उल्फ़ा की चेतावनी, 'असम में चीन के ख़िलाफ़ कुछ ना बोलें दलाई लामा'

चीन और दलाई लामा का इतिहास ही चीन और तिब्बत का इतिहास है.

1409 में जे सिखांपा ने जेलग स्कूल की स्थापना की थी. इस स्कूल के माध्यम से बौद्ध धर्म का प्रचार किया जाता था.

यह जगह भारत और चीन के बीच थी जिसे तिब्बत नाम से जाना जाता है. इसी स्कूल के सबसे चर्चिच छात्र थे गेंदुन द्रुप. गेंदुन आगे चलकर पहले दलाई लामा बने.

इमेज कॉपीरइट PETE SOUZA / THE WHITE HOUSE

बौद्ध धर्म के अनुयायी दलाई लामा को एक रूपक की तरह देखते हैं. इन्हें करुणा के प्रतीक के रूप में देखा जाता है.

दूसरी तरफ इनके समर्थक अपने नेता के रूप में भी देखते हैं. दलाई लामा को मुख्य रूप से शिक्षक के तौर पर देखा जाता है. लामा का मतलब गुरु होता है. लामा अपने लोगों को सही रास्ते पर चलने की प्रेरणा देते हैं.

तिब्बती बौद्ध धर्म के नेता दुनिया भर के सभी बौद्धों का मार्गदर्शन करते हैं.

1630 के दशक में तिब्बत के एकीकरण के वक़्त से ही बौद्धों और तिब्बती नेतृत्व के बीच लड़ाई है. मान्चु, मंगोल और ओइरात के गुटों में यहां सत्ता के लिए लड़ाई होती रही है. अंततः पांचवें दलाई लामा तिब्बत को एक करने में कामयाब रहे थे.

इसके साथ ही तिब्बत सांस्कृतिक रूप से संपन्न बनकर उभरा था. तिब्बत के एकीकरण के साथ ही यहां बौद्ध धर्म में संपन्नता आई. जेलग बौद्धों ने 14वें दलाई लामा को भी मान्यता दी.

चीन और दलाई लामा के बीच समकालीन संबंध

दलाई लामा के चुनावी प्रक्रिया को लेकर ही विवाद रहा है. 13वें दलाई लामा ने 1912 में तिब्बत को स्वतंत्र घोषित कर दिया था.

करीब 40 सालों के बाद चीन के लोगों ने तिब्बत पर आक्रमण किया. चीन का यह आक्रमण तब हुआ जब वहां 14वें दलाई लामा के चुनने की प्रक्रिया चल रही थी. तिब्बत को इस लड़ाई में हार का सामना करना पड़ा.

कुछ सालों बाद तिब्बत के लोगों ने चीनी शासन के ख़िलाफ़ विद्रोह कर दिया. ये अपनी संप्रभुता की मांग करने लगे. हालांकि विद्रोहियों को इसमें सफलता नहीं मिली.

दलाई लामा को लगा कि वह बुरी तरह से चीनी चंगुल में फंस जाएंगे. इसी दौरान उन्होंने भारत का रुख किया. दलाई लामा के साथ भारी संख्या में तिब्बती भी भारत आए थे. यह साल 1959 का था.

चीन को भारत में दलाई लामा को शरण मिलना अच्छा नहीं लगा. तब चीन में माओत्से तुंग का शासन था.

दलाई लामा और चीन के कम्युनिस्ट शासन के बीच तनाव बढ़ता गया. दलाई लामा को दुनिया भर से सहानुभूति मिली लेकिन अब तक वह निर्वासन की ही ज़िंदगी जी रहे हैं.

दलाई लामा की छवि शांति के प्रतीक के रूप में बनी

1989 में दलाई लामा को शांति का नोबेल सम्मान मिला. दलाई लामा का अब कहना है कि वह चीन से आज़ादी नहीं चाहते हैं, लेकिन स्वायतता चाहते हैं.

1950 के दशक से दलाई लामा और चीन के बीच शुरू हुआ विवाद अभी ख़त्म नहीं हुआ है. दलाई लामा के भारत में रहने से चीन से रिश्ते अक्सर ख़राब रहते हैं.

दोनों देशों के बीच एक युद्ध भी हो चुका है. भारत का रुख भी तिब्बत को लेकर बदलता रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे