किराए के घर के लिए भटके पूर्व मुख्यमंत्री

इमेज कॉपीरइट Getty Images

10 मार्च तक उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रहे हरीश रावत को देहरादून में मकान ढूंढने में नाकों चने चबाने पड़े.

हरीश रावत ने कहा कि उन्हें कुछ इस क़दर परेशानियों का सामना करना प़ड़ा कि वो 'बेहद दुखी हो गए.'

रावत ने बीबीसी हिंदी से कहा, "मकान के मामले में नेताओं की प्रतिष्ठा बहुत ही ख़राब है. मैं तो बहुत ही दुखी हो गया."

सुप्रीम कोर्ट के हुक्म के बाद पूर्व मुख्यमंत्रियों को मिलने वाली सरकारी मकान की सुविधा ख़त्म हो गई है.

क्या भाजपा का 'कांग्रेसीकरण' हो रहा है?

रावत ने दो सीटों से चुनाव लड़ा था लेकिन वो हार गए. और सूबे की राजधानी में रहने के लिए उन्हें मकान की ज़रूरत है.

इमेज कॉपीरइट Rajesh dobriyal
Image caption सांसद और पूर्व मुख्यमंत्री भगत सिंह कोश्यारी को भी देहरादून स्थित सरकारी बंगला खाली करने के बाद राजधानी में किराए का मकान लेना पड़ा.

हाल तक शहर के गढ़ी कैंट इलाक़े में मौजूद बीजापुर गेस्ट हाउस में पांच कमरों में रहने वाले पूर्व मुख्यमंत्री को मकान तो मिला है लेकिन देहरादून शहर के तक़रीबन बाहर.

वो कहते हैं कि लोग नेताओं को मकान देना ही नहीं चाहते.

वो बताते हैं, "लोग सुबह हां बोलते और शाम को मना कर देते. कोई कहता मेरा लड़का आ रहा है, कोई कहता लड़की आ रही है. जब चार-पांच जगह से मना हो गया तो हम समझ गए कि लोग हमें मकान देना ही नहीं चाहते."

इमेज कॉपीरइट Rajesh dobriyal

एक दूसरे पूर्व मुख्यमंत्री और सांसद डॉक्टर रमेश पोखरियाल निशंक हालांकि नेताओं की छवि की बात से बहुत सहमत नहीं दिखते हैं लेकिन मानते हैं कि सार्वजनिक जीवन में रहने वालों को इस तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ता है.

हालांकि निशंक का देहरादून में अपना मकान है लेकिन इसके बावजूद उन्हें ऑफ़िस के लिए एक अलग मकान किराए पर लेना पड़ा.

वह कहते हैं, "जब एक ही दिन में कभी सौ, कभी पांच सौ लोग आ जाएंगे तो आप क्या करेंगे. उन्हें कहां बैठाएंगे. फिर गाड़ियों से गली में जाम लग जाता है. मेरे पड़ोसी भी परेशान होने लगे थे तो हमें ऑफ़िस के लिए किराए का मकान लेना पड़ा."

वह पूर्व मुख्यमंत्रियों को आवास की सुविधा को इससे जोड़कर देखने की बात करते हैं.

इमेज कॉपीरइट Rajesh dobriyal
Image caption राकेश रावत

वह कहते हैं कि जनता के काम से ही उन्हें जनता से मिलने की ज़रूरत पड़ती है और सरकारी बंगला होने से आम आदमी को परेशानी भी नहीं होती थी.

प्रॉपर्टी कंसलटेंट फ़र्म प्रोलाइफ़ मार्केटिंग प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक राकेश रावत कहते हैं, "मशहूर लोगों को या राजनेताओं को मकान मिलने में दिक्कत तो आती ही है क्योंकि इनसे मिलने-जुलने वाले बहुत होते हैं उससे आस-पास के लोगों को परेशानी होती है. फिर सुरक्षा की भावना भी एक मुद्दा होती है. अक्सर लोग अपनी पूरी ज़िंदगी की कमाई लगाकर मकान बनाते हैं और उन्हें उसे नेताओं को सौंपने में थोड़ा डर लगता है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे