बिहारः लालू पर बीजेपी ने साधा निशाना

इमेज कॉपीरइट Getty Images

लालू प्रसाद का परिवार एक बार फिर विवादों के घेरे में है. भारतीय जनता पार्टी ने उनके परिवार पर घोटाले का आरोप लगाया है.

विपक्ष के नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने दावा किया है कि लालू प्रसाद और उनके परिवार पर 90 लाख रुपये का मिट्टी घोटाला कर सरकारी खजाने को चूना लगाया है.

हालांकि लालू प्रसाद ने इन आरोपों से खंडन किया है और कहा है, वे 'डेढ़ साल से पटना चिड़ियाघर को मुफ़्त में गोबर मुहैया करा रहे हैं. मिट्टी बेचने का सवाल ही नहीं उठता.'

उन्होंने कहा कि वो किसी भी जांच के लिए तैयार हैं.

'लालू की साख पर कोई ज़्यादा असर नहीं'

ट्विटर पर एक साथ दिखे लालू और आलू

इमेज कॉपीरइट Getty Images

क्या है मिट्टी घोटाला

बीजेपी का आरोप है कि पटना चिड़ियाघर में ट्रैक बनाने के लिए बिना टेंडर दिए 90 लाख की मिट्टी ख़रीदी गई.

उसके अनुसार, जिस डिलाइट मार्केटिंग प्राइवेट लिमिटेड कंपनी से मिट्टी ख़रीदी गयी उसके निदेशक मंडल में लालू प्रसाद के बड़े बेटे और स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव और छोटे बेटे तथा उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव भी शामिल हैं.

डिलाइट कंपनी की ज़मीन पर बिहार का सबसे बड़ा मॉल बनाया जा रहा है, जिसका निर्माण लालू प्रसाद की पार्टी (राजद) के विधायक सैयद अबु दोजाना की कंपनी मेरीडियन कंस्ट्रक्शन कंपनी कर रही है.

बीजेपी नेता सुशील मोदी का दावा है कि इसी निर्माणाधीन मॉल के दो अंडरग्राउंड फ्लोर की मिट्टी को 90 लाख रुपये में पटना चिड़ियाघर को बेच दिया गया.

पटना चिड़ियाघर पर्यावरण एवं वन विभाग के अंतर्गत आता है, जिसके मंत्री तेज प्रताप यादव हैं.

इमेज कॉपीरइट Pti

चिड़ियाघर अधिकारियों का पक्ष

दूसरी तरफ पटना चिड़ियाघर के निदेशक नंदकिशोर ने कहा कि उद्यान में जॉगिंग ट्रैक बनाने के लिए मिट्टी एमएस इंटरप्राइजेज द्वारा गिराई जा रही है, डिलाइट कंपनी से नहीं.

उन्होंने दावा किया कि इसका चयन टेंडर के माध्यम से हुआ है.

हालांकि मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने इस पूरे मामले की फ़ाइल अपने पास मंगाई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे