तो सिर्फ़ रुस्तम ने नहीं दिलाया अक्षय को अवॉर्ड

प्रियदर्शन और अक्षय कुमार इमेज कॉपीरइट TWITTER

नेशनल फ़िल्म अवॉर्ड में फीचर फ़िल्म सेक्शन के अध्यक्ष फ़िल्मकार प्रियदर्शन ने कहा है कि वह इस बात को नहीं समझ पा रहे हैं कि लोग अक्षय कुमार के बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड जीतने पर सवाल क्यों खड़ा कर रहे हैं.

प्रियदर्शन ने अक्षय कुमार के साथ कई फ़िल्में बनाई हैं. ये फ़िल्में हैं- हेरा फेरी, गरम मसाला, भागम भाग, भूल भुल्लैया, दे दना दन और खट्टा मीठा.

सोशल मीडिया पर लोग अक्षय कुमार को बेस्ट एक्टर का नेशनल अवॉर्ड दिए जाने पर प्रियदर्शन से करीबी संबंधों का ज़िक्र कर रहे हैं. हालांकि प्रियदर्शन इन आरोपों को सिरे से ख़ारिज कर रहे हैं.

'अक्षय को नेशनल नहीं नेशनलिज्म अवॉर्ड मिला'

'एयरलिफ़्ट': अक्षय का शिंडलर जैसा किरदार

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK

उन्होंने कहा कि पिछले साल जूरी प्रमुख रमेश शिप्पी थे और किसी ने शक नहीं किया कि क्या अमिताभ बच्चन को बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड दोनों के बीची दोस्ती के कारण दिया गया.

प्रियदर्शन ने कहा, ''मैंने सारी बातें सुनी हैं और सबका जवाब बड़ी आसानी से दिया जा सकता है. जब रमेश सिप्पी के हाथ कमान थी तब अमिताभ को मिला. जब प्रकाश झा के हाथ में कमान थी तब अजय देवगन को मिला. उस वक़्त तो किसी ने सवाल नहीं किया. इस तरह के सवाल आज ही क्यों किए जा रहे हैं.'' प्रियदर्शन ने यह बात समाचार एजेंसी पीटीआई से कही है.

इमेज कॉपीरइट TWITTER

फ़िल्मकार प्रियदर्शन ने कहा कि फ़िल्मों को चुनने के दौरान रुस्तम और एयरलिफ़्ट दोनों पर जूरी ने विचार किया. हालांकि एक ही फ़िल्म का ज़िक्र किया जा सकता है. रुस्तम एक कोर्टरूम ड्रामा फ़िल्म है.

प्रियदर्शन ने कहा, ''अक्षय कुमार को दो फ़िल्म- एयरलिफ़्ट और रुस्तम में प्रदर्शन के आधार पर बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड दिया गया है.''

उन्होंने कहा, ''यह जूरी का फ़ैसला था. उनका एक प्रदर्शन नाटकीय था और दूसरा वास्तविक. हालांकि नियमों के मुताबिक केवल एक फ़िल्म का श्रेय दिया जा सकता है और इसीलिए सूची में रुस्तम को रखा गया, लेकिन अवॉर्ड दोनों फ़िल्मों में प्रदर्शन के आधार पर दिया गया है.''

इमेज कॉपीरइट TWITTER

इस साल के नेशनल अवॉर्ड में क्षेत्रीय फ़िल्मों का दबदबा रहा. मराठी फ़िल्म कसाव को बेस्ट फीचर फ़िल्म का अवॉर्ड दिया गया है. मराठी फ़िल्म वेंटिलेटर के लिए सुरभि सीएम को सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री और राजेश मपुष्कर को सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का अवॉर्ड दिया गया है.

पिंक को सामाजिक मुद्दों पर बनी बेस्ट फ़िल्म का अवॉर्ड मिला. धनक को बेस्ट बाल फ़िल्म और नीरजा को बेस्ट हिन्दी फ़िल्म का अवॉर्ड मिला. प्रियदर्शन ने कहा कि क्षेत्रीय सिनेमा का उद्देश्य 100 करोड़ की कमाई करना नहीं होता है. उन्होंने कहा कि ये फ़िल्में दिल से बनाई जाती हैं.

प्रियदर्शन ने कहा, ''हमें ऐसी फ़िल्मों को प्रोत्साहित करना चाहिए ताकि हमारी भारतीय संस्कृति की झलक सामने आए. क्षेत्रीय सिनेमा में बेहतरीन काम हो रहा है. ये असली सामाजिक मुद्दों को उठा रहे हैं.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे