कश्मीर में चुनाव के दौरान हिंसा पर भड़के पाकिस्तानी अख़बार

  • 10 अप्रैल 2017
कश्मीर में तैनात सुरक्षाबल इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत प्रशासित कश्मीर में लोकसभा उप चुनाव के दौरान हुई हिंसा को पाकिस्तानी अख़बारों ने प्रमुखता से जगह दी है.

पाकिस्तानी टीवी चैनल 'एआरवाई न्यूज' और 'डॉन न्यूज़' ने अपनी सुबह की ख़बरों में कश्मीर में हुई हिंसा को जगह दी है.

पाकिस्तान के प्रमुख उर्दू और अंग्रेजी अख़बारों में भी कश्मीर में हिंसा की चर्चा है.

अंग्रेज़ी अख़बार डॉन ने अपनी ख़बर को 'कश्मीरियों ने भारतीय चुनाव को नज़रअंदाज़ किया, 8 जानों के साथ चुकाई क़ीमत' हेडलाइन के साथ प्रकाशित किया है.

क्या मोदी राज में गहरा रहा है कश्मीर संकट?

क्यों सुलग रही है कश्मीर घाटी?

इमेज कॉपीरइट AFP

इसमें सुरक्षाबलों की कार्रवाई को 'हिंसात्मक सैन्य कार्रवाई' कहा गया है.

मीडिया ख़बरों में कश्मीर में उप-चुनाव के दौरान सबसे कम मतदान प्रतिशत को भी महत्व दिया गया है.

पाकिस्तान के एक अंग्रेज़ी अख़बार पाकिस्तान ऑब्जर्वर ने लिखा है, "भारतीय सेना ने भारत के कब्ज़े वाले कश्मीर में 8 युवकों की हत्या की. चुनावी ड्रामा पूरी तरह फ्लॉप साबित हुआ है."

'द नेशन' ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के सलाहकार सरताज़ अज़ीज़ के बयान को तरजीह दी है जिसमें उन्होंने कश्मीर में सुरक्षाबलों की कार्रवाई की 'निंदा' की है.

इमेज कॉपीरइट AFP

अज़ीज़ ने कहा है कि भारतीय बर्बरता कश्मीरियों की पीड़ा का कारण है और दुनिया भर में मानवाधिकारों के प्रति सम्मान के मामले में एक कलंक है.

इससे पहले पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता नफ़ीस जकारिया ने भी भारत प्रशासित कश्मीर में नागरिकों की मौत की निंदा की है.

उन्होंने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से अपील की है कि 'घाटी में मानवता विरोधी कार्रवाई में लिप्त भारतीय सुरक्षाबलों को रोका जाए.'

(बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की ख़बरें ट्विटर और फेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे