संसद में भाजपा नेता तरुण विजय के ख़िलाफ़ नारेबाज़ी

  • 10 अप्रैल 2017
बीजेपी नेता तरुण विजय इमेज कॉपीरइट Twitter @Tarunvijay

सोमवार को लोकसभा में तरुण विजय के मुद्दे पर जबरदस्त हंगामा हुआ.

विपक्ष ने तरुण विजय के बयान पर सख़्त कार्रवाई की मांग की तो सरकार की तरफ से गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने भरोसा दिलाया कि जाति, नस्ल, धर्म और रंग के आधार पर किसी तरह का भेदभाव बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

शुक्रवार को भाजपा नेता तरुण विजय ने कथित तौर पर कहा था कि भारतीयों को नस्लभेदी नहीं कहा जा सकता, क्योंकि वे देश के दक्षिणी राज्यों में रहने वाले लोगों के साथ रहते हैं.

हालांकि तरुण विजय ने अपने बयान पर माफ़ी मांग ली है और कहा है कि उनके बयान का बचाव नहीं किया जा सकता है.

सोशल मीडिया: 'तरुण विजय को दक्षिण भारत में घुसने ना दें'

मोदी एक महानायक के रूप में उभरे हैं: तरुण विजय

दलितों के साथ मंदिर प्रवेश पर पिटे बीजेपी सांसद

इमेज कॉपीरइट MONEY SHARMA/AFP/Getty Images

लोकसभा में क्या-क्या हुआ

  • विपक्ष ने तरुण विजय पर राजद्रोह के मामले में एफ़आईआर दर्ज करने की मांग की.
  • दक्षिण भारतीयों पर तरुण विजय की कथित विवादास्पद टिप्पणी को लेकर सुबह में कांग्रेस ने लोकसभा में कार्यस्थगन प्रस्ताव रखा.
  • सदन की कार्यवाही शुरू होते ही तरुण विजय के मुद्दे पर हंगामा.
  • कांग्रेस के कार्यस्थगन प्रस्ताव का मतलब ये था कि लोकसभा सारे काम रोक कर इस मुद्दे पर बहस करे.
  • सदन में तरुण विजय के खिलाफ नारेबाजी.
  • लोकसभा में मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, "हम जानना चाहते हैं कि हम भारतीय हैं या नहीं, क्या दक्षिण भारतीय भारतीय नहीं हैं? बीजेपी इस बारे में अपना रुख साफ करे."
  • वे देश को बांटना चाहते हैं, सरकार इस तरह की विचारधारा को समर्थन दे रही है. हम जानना चाहते हैं कि उनके ख़िलाफ़ क्या कार्रवाई की जा रही है- लोकसभा में खड़गे

पूर्व राज्यसभा सांसद तरुण विजय इंडिया-अफ्रीका पार्लियामेंट्री फ्रेंडशिप ग्रुप के अध्यक्ष भी हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे