उपचुनावों के नतीजे क्या कहते हैं ?

  • 14 अप्रैल 2017
इमेज कॉपीरइट TWITTER/ AMIT SHAH

सात राज्यों की नौ विधानसभा सीटों के लिए रविवार को हुए उपचुनावों के गुरुवार को प्राप्त हुए परिणामों का बारीकी से विश्लेषण किया जाए तो देश की भविष्य की राजनीति के संकेत मिल सकते हैं.

उपचुनाव परिणामों का सबसे बड़ा संकेत यह है कि भाजपा को न सिर्फ उन्हीं राज्यों में सफलता मिली है जहाँ वर्तमान में उसकी सरकारें हैं, पार्टी ने अन्य स्थानों पर भी अपनी प्रभावकारी उपस्थिति दर्ज कराई है , मसलन दिल्ली और पश्चिम बंगाल में.

भाजपा ने सबसे बड़ा उलटफेर देश की राजधानी दिल्ली में आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार की ज़मानत ज़ब्त करवा कर किया है.

भाजपा के साथ-साथ कांग्रेस भी उत्साहित है कि उसका प्रत्याशी कम-से-कम दूसरे स्थान पर तो पहुँच गया.

नजरिया: भारत का अगला राष्ट्रपति कौन होगा?

राजौरी गार्डन उपचुनाव में बीजेपी जीती, तीसरे नंबर पर रही आप

37 साल की हुई बीजेपी, जानें 10 अहम तथ्य

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पंजाब और गोवा विधानसभा चुनावों में शिकस्त मिलने के बाद दिल्ली में राजौरी गार्डन की पराजय अरविंद केजरीवाल की राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं को एक बड़ा धक्का देने वाली साबित हो सकती है.

आम आदमी पार्टी का आगे चलकर क्या भविष्य बनेगा इसका पता आने वाले दिनों में एमसीडी के लिए होने वाले चुनावों के बाद पूरी तरह से चल जाएगा.

नज़रिया: दिल्ली के स्थानीय चुनाव, केजरीवाल का इम्तेहान?

उपचुनावों का दूसरा महत्वपूर्ण संकेत यह है कि दक्षिण भारत के राज्यों में अपनी जगह बनाने में भाजपा को अभी वक्त लग सकता है.

इमेज कॉपीरइट TWITTER

कर्नाटक की दोनों सीटों पर कांग्रेस की जीत ने भाजपा के लिए येदुरप्पा की उपयोगिता पर सवाल खड़ा कर दिया है.

कर्नाटक में भाजपा की वापसी आसान नज़र नहीं आती. वहां अगले वर्ष के अंत में चुनाव होने वाले हैं. मध्य प्रदेश,राजस्थान,छत्तीसगढ़ और मिज़ोरम में भी कर्नाटक के साथ ही चुनाव होंगे.

उपचुनाव परिणामों की तीसरी विशेषता पश्चिम बंगाल में भाजपा उम्मीदवार का तृणमूल कांग्रेस को कड़ी टक्कर देते हुए दूसरे स्थान पर आना और वामपंथी और कांग्रेस उम्मीदवारों की ज़मानतों का ज़ब्त होना है.

पिछले साल हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा को जिस सीट पर सिर्फ़ 15,000 वोट मिले थे उसी पर इस उपचुनाव में बढ़कर 52,843 हो गए. यह बताता है कि भाजपा पश्चिम बंगाल में ममता को किस तरह की चुनौती देने की तैयारी में है.

इमेज कॉपीरइट PM TIWARI

भाजपा को अपनी सरकारों की उपस्थिति के बावजूद दो सीटों पर पराजय का सामना भी करना पड़ा है. ये सीटें मध्य प्रदेश और झारखंड की हैं.

अपनी समूची ताक़त झोंक दिए जाने के बावजूद शिवराज सिंह मध्य प्रदेश में भिंड जिले की अटेर सीट को कांग्रेस के हाथों में जाने से रोक नहीं सके. एक तरह से यह भाजपा के लिए ठीक भी हुआ. कारण कि इसी सीट से इवीएम की विश्वसनीयता को लेकर देश भर में बहस छिड़ी थी.

मध्य प्रदेश की तरह ही झारखंड में भी भाजपा के मुख्यमंत्री रघुबरदास लिट्टीपारा सीट को झारखंड मुक्ति मोर्चा के हाथों में जाने से रोक नहीं सके.

इसी साल के अंत तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गृहराज्य गुजरात के साथ ही हिमाचल,त्रिपुरा, नागालैंड और मेघालय की विधानसभाओं के चुनाव होने वाले हैं.

गुजरात में बीजेपीः चुनाव दूर, पर चुनौतियाँ कम नहीं

इमेज कॉपीरइट PTI

उत्तर प्रदेश के उत्साहजनक चुनाव परिणामों के बाद उपचुनावों ताजा के नतीजे भी भाजपा की ताकत को बढ़ाने वाले साबित हो सकते हैं.

ममता बनर्जी और केजरीवाल के लिए शायद भाजपा और प्रधानमंत्री के प्रति अपनी राजनीति और रणनीति पर फिर से विचार करने का वक्त आ गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे