प्रेस रिव्यू: 'जांच के नाम पर मूक बधिर छात्राओं के साथ बदसलूकी'

  • 14 अप्रैल 2017
इमेज कॉपीरइट Getty Images

दैनिक जागरण ने लिखा है कि दिल्ली के आंध्र एजुकेशन सोसायटी परीक्षा केंद्र में प्रवेश जांच और परीक्षा के दौरान 12वीं की मूक बधिर छात्राओं से बदसलूकी का मामला सामने आया है.

आरोप है कि परीक्षा में प्रवेश के दौरानर छात्राओं का दुपट्टा खींचा गया, सलवार उठाकर जांच की गई और और उनके साथ मारपीट की गई.

बुधवार को दिल्ली गेट स्थित राजकीय लेडी नॉयल उच्चतर माध्यमिक मूक बधिर विद्यालय के छात्र-छात्राएं सीबीएससी की शारीरिक विषय की परीक्षा देने गए थे.

छात्राओं का आरोप है कि उनसे परीक्षा केंद्र में प्रवेश के समय जांच के नाम पर बदसलूकी की गई. विरोध करने पर पिटाई की गई. अभिभावकों ने इसकी शिकायत आईपी एस्टेट थाने में भी की है.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

अमर उजाला ने पहले पन्ने पर लिखा है कि अब शादी या तलाक के बाद महिलाओं को उपनाम बदलने की ज़रूरत नहीं होगी.ये अहम घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की है. उन्होंने कहा कि मैं चाहता हूं कि महिलाएं विकास की योजना का केंद्र बनें. पासपोर्ट नियमों में महत्वपूर्ण बदलाव किया गया है. अब महिलाओं को पासपोर्ट के लिए अपनी शादी या तलाक के प्रमाणपत्र को दिखाने की ज़रूरत नहीं होगी.

इमेज कॉपीरइट OTHERS

जनसत्ता ने लिखा है कि कुलभूषण जाधव को लेकर भारत और पाकिस्तान में कड़वाहट बढ़ने से सिंधु जल संधि पर सचिवस्तरीय भारत-पाकिस्तान की वार्ता टल गई है. अमरीका की मध्यस्थता में दोनों देशों के बीच होने वाली सचिवस्तर की वार्ता टाल दी गई है. ये वार्ता वॉशिंगटन में 11 से 13 अप्रैल के बीच होने वाली थी लेकिन जाधव को फांसी की सज़ा सुनाए जाने का ऐलान होते ही भारत ने अपनी ओर से वार्ता रद्द कर दी.

इमेज कॉपीरइट Reuters

हिन्दुस्तान टाइम्स ने लिखा है कि मोदी इंस्टाग्राम पर सबसे ज़्यादा फॉलो किए जाने वाले नेता हैं. पिछले साल बड़े नेताओं के 325 अकाउंट्स में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सबसे ज़्यादा 70 लाख लोगों ने फॉलो किया. अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप को फॉलो करने वालों की संख्या 64 लाख रही. पोप फ्रंसिस को फॉलो करने वाले 37 लाख लोग हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे