नज़रिया: कश्मीर और हिंदुस्तान का रिश्ता होगा बहाल?

कश्मीरी युवक इमेज कॉपीरइट Abid Bhat

वह एक खूबसूरत जवान था. हँसता हुआ नूरानी चेहरा. मुझ अजनबी से हँसते हुए ही हाथ मिलाया. नाम मुदस्सर मान लें.

'कश्मीरी हूँ, दरियागंज में रहता हूँ .कमरा खोज रहा था विजय नगर में जिससे यूनिवर्सिटी के करीब रह सकूं, लेकिन...' .

एक तो मुसलमान, दूसरे कश्मीरी, आगे का हिस्सा मैंने पूरा किया.

'जी हाँ! फिर जो हालात हैं, सोचा, हिफाजत जहाँ हो सके, वही जगह मुनासिब है. दिल्ली विश्वविद्यालय के समाज कार्य विभाग में पढ़ाई की. एक एक्टिविटी के दौरान एक सहपाठी ने पीछे पाकिस्तानी का बिल्ला चिपका दिया .'

मुदस्सर जब यह कह रहा था, हँसी एक क्षण के लिए भी कहीं गई नहीं थी.

क्या यह अपने हाल पे थी या हिंदुस्तानियों पर जिन्हें कश्मीर चाहिए लेकिन कश्मीरियों से खाली?

कश्मीर और हिंदुस्तान का रिश्ता वापस बहाल हो सकता है, आज यह सोचना नामुमकिन है.

सरकारी रवैया जो हो, अगर हिंदुस्तानी अवाम के दिल में कोई लगाव नहीं कश्मीरी के लिए तो फिर कश्मीर खुद को क्यों जोड़े हमारे साथ!

इमेज कॉपीरइट Twitter

'कश्मीर की घाटी डूब रही है' यह लिखा है प्रताप भानु मेहता ने.

डूब रही कश्मीर की घाटी

उसका नमूना है वह वीडियो जिसमें फौज की गाड़ी के आगे एक कश्मीरी को बांधकर बारह किलोमीटर का रास्ता पार किया गया.

12 साल का मृत बच्चा बना कश्मीर समस्या का चेहरा ...

'पीटा, जीप से बांधा और 18 किमी तक घुमाते रहे'

दलील फौज की तरफ से पेश कर रहे हैं भारत के पढ़े लिखे लोग,पत्रकार और संपादक. कहा जा रहा है कि पत्थरबाजी रोकने का यह सबसे कम खर्चीला तरीका है!

छर्रे भी नहीं चलाने पड़ेंगे. कश्मीरी नौजवान की ढाल लिए चलती बहादुर भारतीय फौज इस तरह पूरे कश्मीर पर अपना झंडा गाड़ आएगी.

इमेज कॉपीरइट AFP

इसके पहले वह वीडियो सामने आया था जिसमें चुनाव के काम पर लगे सुरक्षा बल को कश्मीरी धकिया रहे हैं और मार रहे हैं.

जिस बात पर सुरक्षा बल के इन सदस्यों को शाबाशी देनी चाहिए. वहां भारत के लोग इस संयम की जगह कश्मीरियों को सबक सिखा देने की मांग करने लगे और अगले ही दिन कश्मीरी नौजवान को आगे बांधे फौजी गाड़ी की तस्वीर सामने आ गई .

कश्मीर के प्रसंग में हमारी भाषा कब्जे और दबदबे की है.

कब्जे और दबदबे की भाषा

हम कश्मीरियों को 'नमकहराम' मानते हैं जिनपर भारत का इतना पैसा खर्च होता है लेकिन जो अहसान नहीं मानते. ऐसे लोगों के साथ यही सलूक होना चाहिए. यह ज़्यादातर हिंदुस्तानियों का ख्याल है.

क्या मोदी राज में गहरा रहा है कश्मीर संकट?

कश्मीर में वायरल होते वीडियो: क्या मालूम है और क्या नहीं

इमेज कॉपीरइट PIB

भारतीय जनता पार्टी ने भी कश्मीर में सरकार बनाने के बाद अपने भारतीय समर्थकों को समझाया कि देखो कैसे हम पीडीपी को भी अपने पाले में ले आए. मुझे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के एक बौद्धिक की वह डींग याद है कि हमने चतुराई से पीडीपी को 'को-ऑप्ट'कर लिया है.

सरकार बनने के बाद जम्मू के तकनीकी संस्थान में कश्मीरी छात्रों के खिलाफ अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् के आंदोलन को भी याद करें.

आज़ादी का हासिल?

अभी हाल में फिर राष्ट्र गान के अपमान के आरोप में कश्मीरी छात्रों पर कार्रवाई की मांग को भी न भूलें. भारत के अलग-अलग हिस्सों में कश्मीरी छात्र हमेशा शक के दायरे में रहने को मजबूर हैं.

भारतीय आज़ादी के जज्बे के खिंचाव को भूल गए हैं,इसलिए उन्हें कश्मीरी इतने अतार्किक मालूम पड़ते हैं. हमें लगता है कि जब उनकी सारी दुनियावी ज़रूरतें पूरी हो रही हैं तो फिर वे आज़ाद होकर आखिर क्या हासिल करेंगे! लेकिन आज़ादी अपने आप में अपना हासिल है!

इमेज कॉपीरइट EPA

अंग्रेजों को भी हैरानी थी कि दुनिया के सबसे सभ्य क़ानून के राज्य में रहने के बाद हिंदुस्तानी अपनी लस्टम पस्टम आज़ादी क्यों कर मांग रहे हैं. अक्सर वे कहा करते थे कि पिछड़ेपन,जातिगत और सांप्रदायिक बंटवारेवाले इस मुल्क को कैसे एक अशिक्षित जनता संभाल पाएगी.

गाँधी ने उनसे कहा कि हमारी फिक्र आप न करें और हमें हमारे हाल पर छोड़ दें! यह तार्किक उत्तर न था! हम इस आज़ादी की शक्ल पर बहस कर सकते हैं. इस पर भी कि यह आजादी खुद अपने अल्पसंख्यकों को कितना आज़ाद रखेगी.

भारत का नुकसान

यह बहस आज की दुनिया में प्रासंगिक है. लेकिन इनके उत्तर मिल जाने तक हम उस घेरेबंदी की किसी भी तरह वकालत नहीं कर सकते जो भारत ने फौजी तरीके से कश्मीर की कर रखी है.

कश्मीर के हालात कैसे सुधारेगी सरकार?

नरेंद्र मोदी ने कहा- 'घाटी के युवा चुनें, टूरिज़्म या टेररिज़्म'

पिछले तीन वर्षों में जम्मू और कश्मीर में जो खाई थी, वह और खतरनाक तरीके से चौड़ी और गहरी हुई है.

जम्मू के व्यापारियों की रोहिंग्या शरणार्थियों की निशानदेही कर उन्हें मारने की धमकी एक और मुस्लिम विरोधी घृणा का नमूना है.

कश्मीर की विडंबना यह है कि भारत के साथ उसके नेताओं के मेल जोल ने उन्हें अपनी जनता की निगाह में अविश्वसनीय बना दिया है.

इसका नुकसान भी भारत को ही होगा. क्योंकि अब उससे बात करने को कोई प्रामाणिक कश्मीरी न होगा .

इमेज कॉपीरइट AFP

कश्मीरी जनता के गुस्से को बिकाऊ कहकर पहले ही भारत की सरकार रही सही जगह गंवा चुकी है.

भारत सरकार की नीयत?

याद कीजिए,नोट रद्द करने के पीछे यह तर्क दिया गया था कि चूंकि कश्मीरी पैसे लेकर पत्थर चलाते हैं, नोट न रहने से पत्थर चलने बंद हो जाएंगे.

उसके बाद क्या हुआ? आज तक जो न देखा गया था,वह हो रहा है. कश्मीरी खुद अब खुद-ब-खुद फौजी कार्रवाई की जगह उसे रोकने जमा हो रहे हैं.

वे मारे जा रहे हैं लेकिन यह सिलसिला रुक नहीं रहा है. तो कश्मीरी क्या पैसे के बदले सड़क पर निकल रहे थे?

भारतीय सरकार की भाषा ज़मींदार की है. प्रधानमंत्री जब वहां के नौजवानों को टेररिज्म या टूरिज्म में चुनने को कहते हैं तो यह कश्मीरी कानों को घटिया तुकबंदी की तरह सुनाई देता है.

ज़रूरत एक ईमानदार, इंसानी जुबान की है लेकिन वह कहां है ?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे