कुलभूषण मामला: 'नहीं दिया पाकिस्तान ने जवाब'

  • 17 अप्रैल 2017
इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत सरकार ने कहा है कि उसने पाकिस्तान से कुलभूषण जाधव के ख़िलाफ़ दायर आरोप पत्र और उन्हें मौत की सज़ा सुनाने वाली सैन्य अदालत के आदेश की कॉपी मांगी थी जिसपर उसने अब तक कोई जवाब नहीं दिया है.

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने रविवार को पत्रकारों को बताया कि पाकिस्तान में भारत के उच्चायुक्त गौतम बंबावाले ने शुक्रवार को पाकिस्तान की विदेश सचिव से इस्लामाबाद में मुलाक़ात के दौरान इन दोनों दस्तावेज़ों की मांग की थी.

भारत सरकार पहले ही कह चुकी है कि वो जासूसी के आरोप में पाकिस्तान में भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को मौत की सज़ा सुनाए जाने के फ़ैसले को चुनौती देगी.

भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा है कि अगर कुलभूषण को फांसी दी जाती है तो 'ये जानबूझकर की गई हत्या माना जाएगा.'

'कुलभूषण को बचाने के लिए भारत कुछ भी करेगा'

'कच्ची गोलियां खेलने वालों ने जासूसी कहानी गढ़ी'

इमेज कॉपीरइट PTI

पाकिस्तान तैयार कर रहा है नई फ़ाइल

इस बीच समाचार एजेंसी पीटीआई ने ख़बर दी है कि पाकिस्तानी मीडिया में ऐसा बताया जा रहा है कि पाकिस्तान कुलभूषण जाधव की कथित चरमपंथी गतिविधियों के बारे में एक नई फ़ाइल या डॉज़िए तैयार कर रहा है जिसे वो संयुक्त राष्ट्र और पाकिस्तान में तैनात विदेशी दूतावासों के साथ साझा करेगा.

रिपोर्टों के अनुसार नई फ़ाइल कुलभूषण जाधव के शुरूआती बयानों पर आधारित होगी जो उन्होंने सैनिक अदालत के समक्ष अपनी सुनवाई के दौरान दिए थे.

कुलभूषण यादव पर पाकिस्तान की सैन्य अदालत - फ़ील्ड जेनरल कोर्ट मार्शल - में मुक़दमा चला था जिसने उन्हें मौत की सज़ा सुनाई.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा है कि कुलभूषण को फांसी 'जानबूझकर की गई हत्या' होगी

अलग अलग दावे

पाकिस्तान दावा करता है कि उसके सुरक्षाबलों ने कुलभूषण जाधव को पिछले साल तीन मार्च (3 मार्च, 2016) को बलोचिस्तान में गिरफ़्तार किया था. उसका कहना है कि कुलभूषण ने ईरान के रास्ते पाकिस्तान में प्रवेश किया.

पाकिस्तान ये भी दावा करता है कि कुलभूषण "भारतीय नौसेना के एक अधिकारी" हैं.

भारत सरकार ये तो मानती है कि कुलभूषण जाधव नौसेना से जुड़े थे मगर वो उनका सरकार के साथ किसी तरह का संबंध होने की बात से इनकार करती है.

कुलभूषण जाधव के परिवार का कहना है कि उन्होंने नौसेना छोड़कर अपना कारोबार शुरू किया था और वो ईरान के चाबहार बंदरगाह से काम कर रहे थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे