कश्मीर: 'मानव ढाल' वीडियो मामले में सेना पर एफ़आईआर

इमेज कॉपीरइट TWITTER

भारत प्रशासित कश्‍मीर में एक व्यक्ति एक व्यक्ति को मानव ढाल के रूप में इस्‍तेमाल किए जाने के मामले में जम्‍मू कश्‍मीर पुलिस ने सेना के ख़िलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है.

श्रीनगर संसदीय सीट पर 9 अप्रैल को उपचुनाव हुए थे और उसी दिन से कई वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किए जा रहे हैं.

पुलिस ने भारतीय सेना की 53वीं राष्ट्रीय रायफल्स के ख़िलाफ एफ़आर्ईआर दर्ज कर ली है. पुलिस ने सेना पर बडगाम ज़िले के 26 साल के फ़ारूक़ डार को 'प्रताड़ित करने और गलत तरीके से कैद करने' के आरोप में मामला दर्ज कराया है.

मध्य कश्मीर के पुलिस उप महानिरीक्षक गुलाम हसन भट ने कहा है कि अभी वीडियो की प्रामाणिकता की पुष्टि नहीं हो सकी है. उन्होंने कहा, "हम जाँच कर रहे हैं कि क्या वीडियो प्रामाणिक है."

शेयर किए जा रहे इस वीडियो में फ़ारूक़ सेना की जीप के आगे बंधे हुए नज़र आ रहे हैं. सेना ने कहा है कि वीडियो की जांच की जा रही है.

'पीटा, जीप से बांधा और 18 किमी तक घुमाते रहे'

सोशल: 'कश्मीरियों पर अत्याचार के वीडियो देख गुस्सा नहीं आता'

इमेज कॉपीरइट AMNESTY INTERNATIONAL INDIA

इस वीडियो के सामने आने के बाद राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने सेना प्रमुख बिपिन रावत से मुलाक़ात की थी और मामले की जल्द जाँच की मांग की थी. इसके अलावा महबूबा ने पुलिस से इस मामले की विस्तृत रिपोर्ट देने को कहा था.

इस बीच, कश्मीर पुलिस के आला अधिकारियों ने पुलिसकर्मियों से फिलहाल घर न जाने की सलाह दी है.

ये सलाह उन घटनाओं के बाद दी गई है जिनमें संदिग्ध चरमपंथियों ने कम से कम एक दर्जन पुलिस अधिकारियों के घरों को लूट लिया है. लूट की ये घटनाएं दक्षिण कश्मीर में हुई हैं.

इमेज कॉपीरइट AMNESTY INTERNATIONAL INDIA

एक शीर्ष पुलिस अधिकारी ने बीबीसी को बताया, "हमने ये एडवाइजरी इसलिए जारी की है क्योंकि आतंकवादियों ने हमारे कर्मचारियों के परिवारों को निशाना बनाना शुरू कर दिया था."

दक्षिण कश्मीर की अनंतनाग लोकसभा सीट के लिए उपचुनाव पहले ही टाल दिया गया है, लेकिन इन चार ज़िलों में हालात तनावपूर्ण बने हुए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे