मध्य प्रदेश: बच्चों की शादी करने का पंचायत का 'फ़रमान'

बाल विवाह, सांकेतिक तस्वीर इमेज कॉपीरइट EPA

मध्यप्रदेश के गुना जिले में एक पंचायत ने एक अजीबोग़रीब फ़रमान सुनाया है. इसके तहत 5 साल की लड़की की शादी 8 साल के लड़के से करने को कहा गया है.

बच्ची को यह सज़ा इसलिए मिल रही है क्यों कि उसके पिता पर आरोप है कि उसने एक बछड़े को पत्थर मारा था जिससे उसकी मौत हो गई थी.

पंचायत ने यह फरमान तब जारी किया जब इस तरह की अफ़वाहें फैलाई गईं कि उस हादसे के बाद गांव में कुछ भी अच्छा नही हो रहा.

गुना के अपर कलेक्टर नियाज़ अहमद खान ने बीबीसी को बताया, "प्रशासन इस मामले पर पूरी नज़र रखे हुए है. हमारी पूरी टीम गांव में गई थी और पंचायत के दो लोगों से हमने बॉन्ड भरवाया (लिखित में वादा) है जो इस मामलें में दो लोगों पर दबाव बना रहे थे."

वहीं विदिशा जिले के लटेरी तहसील के उस परिवार से भी बॉन्ड भरवाया गया जिनके लड़के से इस लड़की की शादी की बात कही गई थी.

बाल विवाह के ख़िलाफ़ उठती आवाज़

जिस रेप केस ने बदला भारत का क़ानून

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मामला 3 साल पहले का है जब गुना जिले के आरोन ब्लॉक के तारपुर गांव की लड़की के पिता जगदीश बंजारा ने उनके खेत में चर रहे बछड़े को पत्थर मारा था.

उसके बाद उसकी मौत हो गई थी. इस मामलें के बाद जगदीश बंजारा के परिवार को सामाजिक बहिष्कार का सामना करना पड़ा.

इसके बाद परिवार ने न सिर्फ गंगा नहाया बल्कि गांव वालों को खाना भी बांटा.

लेकिन परिवार को प्रताड़ित किया जाता रहा और आख़िरकार लड़की की मां ने मामले की शिकायत सब डिविजनल मजिस्ट्रेट से की.

हाल में 15 अप्रैल को पंचायत की बैठक बुलाई गई जहाँ जगदीश बंजारा का परिवार भी मौजूद था और फिर पूरी पंचायत ने बच्चों के विवाह का फ़रमान सुना दिया.

उसके बाद प्रशासन भी हरक़त में आया और पूरे गांव को चेतावनी दी गई कि अगर वो नहीं माने तो पूरे गांव पर मामला दर्ज किया जाएगा.

ये किशोरवय बच्चियां क्यों डरती हैं होली से?

बाल विवाह के विरोध पर 16 लाख का जुर्माना

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे