प्रेस रिव्यू: 'कश्मीर में प्लास्टिक की गोलियों का इस्तेमाल'

इमेज कॉपीरइट EPA

हिंदुस्तान टाइम्स में ख़बर छपी है कि कश्मीर में प्रदर्शनकारियों को क़ाबू में करने के लिए सैन्य बल अब प्लास्टिक की गोलियों का इस्तेमाल करेंगे.

अख़बार ने गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी के हवाले से कहा कि कुछ हज़ार प्लास्टिक की गोलियां प्रयोगात्मक तौर पर कश्मीर में तैनात सैन्य बलों को भेज दी गई हैं और सेना से कहा गया है कि वो पैलेट गन का इस्तेमाल करने से पहले इन गोलियों का इस्तेमाल करे.

कश्मीर में पिछले कई महीनों से विरोध प्रदर्शन जारी है और प्रदर्शनकारियों से निपटने में सेना के तरीकों की लगातार आलोचना होती रही है.

द टाइम्स ऑफ़ इंडिया में छपी ख़बर के मुताबिक़ अगर एक संसदीय समिति की अनुशंसाएं लागू कर दी जाती हैं तो भविष्य में राष्ट्रपति और केंद्र और राज्य सरकारों के मंत्रियों को अपने आधिकारिक भाषण हिंदी में ही देने होंगे.

इस समिति की कुछ सिफ़ारिशों को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने मंज़ूर कर लिया है. इन सिफ़ारिशों के मुताबिक़ वो सभी मंत्री जो हिंदी में लिख और पढ़ सकते हैं उनसे अनुरोध किया जाएगा कि वो अपने आधिकारिक भाषण और बयान हिंदी में ही दें.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption सुब्रत रॉय (फ़ाइल फ़ोटो)

द हिंदू के पहले पन्ने पर ख़बर छपी है कि सुप्रीम कोर्ट ने सहारा समूह के रेज़िडेंशियल प्रोजेक्ट एंबे वैली की नीलामी के आदेश दिए हैं. अदालत ने आदेश दिया है कि इस प्रोजेक्ट का मूल्यांकन करके 10 दिन में उसे रिपोर्ट सौंपी जाए. अदालत के लगातार आदेश के बावजूद सहारा समूह ने अब तक सेबी को 5 हज़ार करोड़ रुपए से ज़्यादा की राशि नहीं चुकाई है इस वजह से अदालत ने ये आदेश जारी किया.

द हिंदू में ही छपी रिपोर्ट के मुताबिक़ सर्वोच्च अदालत ने बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष एन श्रीनिवासन के बोर्ड का प्रतिनिधित्व करने पर रोक लगा दी है.

अदालत के आदेश के मुताबिक़ श्रीनिवासन 24 अप्रैल को होने वाली अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट काउंसिल यानी आईसीसी की बैठक में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड का प्रतिनिधित्व नहीं कर सकते.

पंजाब केसरी के मुताबिक़ नियंत्रण रेखा पर भारतीय और पाकिस्तान फौजों के बीच हुई गोलीबारी में पाकिस्तान के आठ सैनिकों की मौत हो गई.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे