बाबरी मामले में आडवाणी समेत भाजपा नेताओं पर चलेगा केस

  • 19 अप्रैल 2017
इमेज कॉपीरइट Pti

बाबरी मस्जिद मामले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि विवादित बाबरी मस्जिद को तोड़ने की साज़िश के आरोप में 13 भाजपा नेताओं पर केस चलेगा.

इसमें भाजपा नेता लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, कल्याण सिंह और केंद्रीय मंत्री उमा भारती शामिल हैं.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि इस मामले में रोज़ सुनवाई होगी और इस दौरान किसी जज का ट्रांसफ़र नहीं होगा.

आडवाणी : न ख़ुदा मिला न विसाले सनम

बाबरी मस्जिद: केस जो अब भी अदालत में हैं

जैन हवाला कांड से कैसे 'बेदाग़' छूटे आडवाणी?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सुप्रीम कोर्ट के जज पीसी घोष और रोहिंटन नरीमन के पीठ ने सीबीआई की अपील पर यह फैसला सुनाया.

सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि इस मामले में लखनऊ और रायबरेली की अदालतों में ये मुकदमें अब एक साथ चलेंगे.

इसके साथ ही शीर्ष अदालत ने इस मामले की सुनवाई दिन प्रतिदिन के आधार पर करने को कहा है.

इस मुकदमे की सुनवाई कर रहे किसी भी जज का तबादला सुनवाई के दौरान नहीं किया जाएगा.

फैसला सुनाते हुए अदालत ने कहा कि आडवानी, जोशी और अन्य के खिलाफ अतिरिक्त आरोप चार हफ्ते में तय किए जाएं.

इस मामले में सीबीआई ने आडवानी और 20 अन्य के खिलाफ धारा 153ए, 153बी 505 के तहत आरोप पत्र दाखिल किया था.

इन लोगों पर धारा 120 बी के तहत आपराधिक षडयंत्र का भी आरोप लगाया गया था जिसे सीबीआई की एक विशेष अदालत ने हटा दिया था. इसका इलाहाबाद हाई कोर्ट ने भी समर्थन किया था.

यह आरोप इसलिए हटाए गए क्योंकि अदालत की स्थापना सरकारी अधिसूचना के ज़रिए नही की गई थी.

इस मामले के प्रमुख आरोपियों में निम्न लोग शामिल हैं.

अयोध्या में छह दिसंबर 1992 को विवादित राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद इमारत को तोड़ने के कथित षड्यंत्र, भडकाऊ भाषण और पत्रकारों पर हमलों के कई मुकदमे वर्षों से कानूनी दांव पेंच में उलझे हुए हैं.

अयोध्या में कई राम जन्म स्थान हैं, पहले वो अपना विवाद हल करें

इनमें से कई मामले क्तों पर लखनऊ में और आठ पर रायबरेली में मुकदमे चल रहे हैं. मगर नौ ऐसे भी अभियुक्त हैं, जिन पर कहीं मुकदमा चल ही नही रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)