नज़रिया: 'अब आडवाणी-जोशी के लिए राष्ट्रपति पद के बारे में सोचना भी मुश्किल'

  • 19 अप्रैल 2017
लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

करम गति टारे नाहीं टरे.

हिंदू धर्म में कर्म फल का सिद्धांत अटल माना जाता है. इससे कोई बचाव नहीं है.

भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी और कुछ अन्य को एक बार फिर लखनऊ की विशेष अदालत में मुलज़िम की तरह कठघरे में खड़े होना पड़ेगा, जबकि देश में राष्ट्रपति चुनाव की गहमागहमी चल रही होगी.

पच्चीस साल पुराने इस मामले को लोग लगभग भूल गए थे, क्योंकि यह अदालती प्रक्रिया की भूलभुलैया में खो सा गया था.

लेकिन अब सुप्रीम कोर्ट ने तमाम तकनीकी अड़चनें दूर करते हुए आदेश सुनाया है कि विवादित बाबरी मस्जिद गिराने से सम्बंधित दोनों मामले एक साथ चलाए जाएं.

जो भी किया खुल्लम खुल्ला किया है: उमा भारती

जिन पर चलेगा बाबरी केस में मुकदमा

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

रायबरेली कोर्ट

इसका परिणाम यह होगा कि अब लालकृष्ण आडवाणी और जोशी समेत अन्य लोगों पर रायबरेली में केवल भड़काऊ भाषण देने का नहीं, बल्कि एक धार्मिक पूजा स्थल को गिराने के षडयंत्र समेत अन्य सभी धाराओं में मुकदमा चलेगा.

छह दिसम्बर 1992 को विवादित बाबरी मस्जिद गिरने के बाद दो आपराधिक मुक़दमे क़ायम किए गए थे.

एक लाखों अज्ञात कारसेवकों के ख़िलाफ़ और दूसरा नामज़द मामला आडवाणी समेत आठ बड़े नेताओं के ख़िलाफ़. इन दो के अलावा 47 और मुक़दमे पत्रकारों के साथ मारपीट और लूट आदि के भी लिखाए गए थे.

पुलिस ने दूसरे मामले में नामज़द अभियुक्तों की तत्काल गिरफ़्तारी करके जेल भेज दिया. इस मामले में चार्जशीट दाख़िल हो गई और अयोध्या में बवाल की आशंका से रायबरेली की विशेष अदालत में मुक़दमा शुरू हो गया.

बाबरी मामले में आडवाणी समेत भाजपा नेताओं पर चलेगा केस

'अयोध्या में कई राम जन्म स्थान हैं, पहले वो अपना विवाद हल करें'

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

हाई कोर्ट में चुनौती

बाद में सारे मुक़दमों की जाँच सीबीआई को दी गई. सीबीआई ने दोनों मामलों की संयुक्त चार्जशीट फाइल की.

इसके लिए हाईकोर्ट की सलाह पर लखनऊ में अयोध्या मामलों के लिए एक नई विशेष अदालत गठित हुई. लेकिन उसकी अधिसूचना में दूसरे वाले मुक़दमे का ज़िक्र नहीं था.

विशेष अदालत ने आरोप निर्धारण के लिए अपने आदेश में कहा कि चूँकि सभी मामले एक ही कृत्य से जुड़े हैं, इसलिए सभी मामलों में संयुक्त मुक़दमा चलाने का पर्याप्त आधार बनता है.

लेकिन आडवाणी समेत अनेक अभियुक्तों ने इस आदेश को हाई कोर्ट में चुनौती दे दी.

12 फ़रवरी 2001 को हाई कोर्ट ने सभी मामलों की संयुक्त चार्जशीट को तो सही माना लेकिन साथ में यह भी कहा कि लखनऊ विशेष अदालत को आठ नामज़द अभियुक्तों वाला दूसरा केस सुनने का अधिकार नही है, क्योंकि उसके गठन की अधिसूचना में वह केस नम्बर शामिल नहीं था.

बाबरी मस्जिद: केस जो अब भी अदालत में हैं

'अयोध्या विवाद में न्याय बिना समझौता कैसे होगा?'

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

स्पेशल कोर्ट

जस्टिस भल्ला ने आदेश में कहा कि राज्य सरकार चाहे तो अधिसूचना की तकनीकी त्रुटि दूर कर सकती है.

अब सुप्रीम कोर्ट ने जिस तरह तकनीकी त्रुटि को दरकिनार कर दोनों मामलों की संयुक्त सुनवाई का आदेश दिया है, उसके बाद कहा जा सकता है कि न्याय हित में हाईकोर्ट स्वयं यह काम कर सकता था.

हाईकोर्ट के इस आदेश के बाद स्पेशल कोर्ट ने दोनो मामले अलग करके न केवल रायबरेली मामले के आठ बल्कि 21 अभियुक्तों के ख़िलाफ़ आरोप रद्द कर दिए.

उस समय आडवाणी दिल्ली में गृहमंत्री थे और लखनऊ में राजनाथ सिंह मुख्यमंत्री. इसके बाद बीजेपी के समर्थन से मायावती और फिर कुछ समय बाद मुलायम सिंह मुख्यमंत्री बने.

मगर सब ने विशेष अदालत के गठन में हुई तकनीकी त्रुटि दूर करने से इनकार कर दिया. इसलिए रायबरेली और लखनऊ में अलग अलग मुक़दमे चले.

हो क्या रहा है अयोध्या की 'राम मंदिर कार्यशाला' में

तेलंगाना: सिर कलम करने की धमकी देने वाले बीजेपी विधायक पर केस

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

भड़काऊ भाषण

इस वजह से आडवाणी आदि पर केवल भड़काऊ भाषण देने का मुक़दमा चला, जबकि बाबरी मस्जिद विध्वंस के आपराधिक षडयंत्र के आरोप से वह बच गए.

इतना ही नहीं विडम्बना यह भी है कल्याण सिंह समेत 13 अभियुक्तों के ख़िलाफ़ कहीं केस नहीं चला.

सीबीआई और कुछ अन्य लोगों ने इस मामले में हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया, लेकिन दोनों ने हस्तक्षेप से इनकार कर दिया.

सीबीआई का तर्क था की अगर भड़काऊ भाषण देने का मामला अलग हो तो भी लाखों कारसेवकों के ख़िलाफ़ बाबरी मस्जिद तोड़ने का जो मुख्य मुक़दमा है उसमें भी आडवाणी, कल्याण सिंह और जोशी आदि बाल ठाकरे के साथ षड्यंत्र में शामिल थे.

इसलिए उन पर रायबरेली के अलावा लखनऊ में भी मुकदमा चलना चाहिए.

मुख्य बिंदु यह है कि मुक़दमे का ट्रायल होने के बाद अभियुक्त बरी हो जाएं तो वह अलग बात है, लेकिन तकनीकी कारणों से मुक़दमा चले ही न यह अलग बात.

राम मंदिर के लिए जान लेने और देने को तैयार: भाजपा विधायक राजा सिंह

37 साल की हुई बीजेपी, जानें 10 अहम तथ्य

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images
Image caption उमा भारती ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा है कि उस दिन अयोध्या में कोई षड्यंत्र नहीं हुआ

अंतिम अपील

हर अभियुक्त कोशिश करता है कि मुक़दमा टलता रहे, लेकिन इस मामले में देरी के लिए अदालतें ही ज़िम्मेदार रही हैं. बेहतर होगा सुप्रीम कोर्ट इस देरी की ज़िम्मेदारी भी तय करे.

सुप्रीम कोर्ट: दोनों पक्ष राम मंदिर का मसला आपस में सुलझाएँ

राम मंदिर:'अदालत का काम समझौता कराना नहीं'

सीबीआई की अपील छह सालों से सुप्रीम कोर्ट में लम्बित थी.

इतने सालों से ख़ामोश सीबीआई अचानक दो हफ़्ते पहले सक्रिय हुई और उसने अदालत से कहा कि इन बड़े नेताओं के ख़िलाफ़ षड्यंत्र का मुक़दमा चलना चाहिए.

हो सकता है कि इन पच्चीस सालों में यह मुक़दमा सामान्य गति से चलता तो अब तक निबटारा हो जाता.

यह भी सम्भव है कि ट्रायल के बाद बहुत से अभियुक्त निचली अदालत या अपील में हाईकोर्ट अथवा सुप्रीम कोर्ट से बरी हो जाते.

लेकिन इस दरम्यान अनेक अभियुक्त और गवाह इस दुनिया में ही नही रहे.

आगे भी ट्रायल और अंतिम अपील का निस्तारण होने तक कितने जीवित रहेंगे कहना मुश्किल है.

राहुल अयोध्या में, मिले महंत से

राम मंदिर:'अदालत का काम समझौता कराना नहीं'

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images
Image caption कल्याण सिंह समेत 13 अभियुक्तों के ख़िलाफ़ कहीं केस नहीं चला

राष्ट्रपति पद

लेकिन यह तय है कि समय के जिस मोड़ पर सुप्रीम कोर्ट का आदेश आया है अब आडवाणी और जोशी दोनो के लिए राष्ट्रपति पद के बारे में सोचना भी मुश्किल हो जाएगा.

हांलांकि ये भी तथ्य है कि इन दोनों नेताओं ने खुलकर कभी किसी सार्वजनीकि मंच से इस तरह की इच्छा व्यक्त नहीं की है और न ही पार्टी ने फ़िलहाल इस तरह की कोई पेशकश इनके सामने रखी है.

सीबीआई जिस तरह से केंद्र सरकार के अधीन काम करती है, उसे देखते हुए सत्तारूढ़ भारतीय जनता के अंदर भी कलह बढ़ सकती है.

उमा भारती ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा है कि उस दिन अयोध्या में कोई षड्यंत्र नहीं हुआ, सब कुछ खुल्लमखुल्ला था.

काश उमा भारती और उनके सह अभियुक्तों में कोर्ट के अंदर भी यही बात कहने का नैतिक साहस होता.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे