नज़रिया: 'कश्मीर में फ़ौज किसी को भी मारे कोई सवाल नहीं करता'

इमेज कॉपीरइट Abid Bhat

भारत प्रशासित कश्मीर में बदतर होते हालात के बीच एक कश्मीरी छात्र क्या सोचता है ?

ऐसे ही एक कश्मीरी छात्र से जब बीबीसी ने बात की तो उसने अपनी राय हमसे साझा की. नाम नहीं बताने की शर्त पर उन्होंने अपनी बातें साझा की.

पढ़िए कश्मीरी छात्र की डायरी

ऐसा क्यों होता है कि हमेशा कि हम कश्मीरी छात्र कश्मीर में ही सुरक्षित नहीं है. करीब नौ सालों से मैं यही सब देख रहा हूं. साल 2008 के बाद से हमेशा मैंने यही संकट देखा है. बचपन से ये सब देखते रहने से दिमाग में यही चलता रहता है कि ऐसा क्यों हो रहा है.

'कश्मीरियों पर अत्याचार के वीडियो देख गुस्सा नहीं आता'

'मानव ढाल' वीडियो मामले में सेना पर एफ़आईआर

ऐसे हालात बन गए है कि नौजवान अपने घरों से नहीं निकल सकते हैं. छात्र अपनी बातों को लेकर विरोध-प्रदशर्न नहीं कर सकते हैं. फ़ौज स्कूल-कॉलेजों तक में घुस जाती है. ऐसे हालात भारते के दूसरे राज्यों में नहीं है तो फिर कश्मीर में क्यों?"

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
एक कश्मीरी छात्र की आवाज़

फ़ौज को किसी को भी मारने का हक़ है लेकिन कोई सवाल नहीं खड़ा कर सकता. आख़िर क्यों? हम कश्मीर में शांति चाहते हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

यहां सब को भविष्य की चिंता है लेकिन घर से बाहर निकलते तक में हमें डर लगता है. यहां कोई आ जाए उसे डर महसूस होगा

हमें किसी ने यह करने को नहीं कहा है. छात्र ख़ुद से सड़कों पर निकल रहे हैं.

और जहाँ तक इंटरनेट के पाबंदी की बात है तो कहीं और ऐसी पाबंदी क्यों नहीं है ?

कश्मीर और हिंदुस्तान का रिश्ता होगा बहाल?

इमेज कॉपीरइट AFP

नई दिल्ली में तो कोई बिना इंटरनेट के रह भी नहीं पाएगा. यह भी एक बड़ा कारण है. स्कूल-कॉलेज खुले रहते तो कोई समस्या नहीं होती. स्कूल-कॉलेज बंद करने से नौजवानों में अधिक कौतूहलता पैदा होती है.

प्रदर्शन को रोकने के लिए प्रशासन की ओर से उठाए जाने वाले कदमों से छात्रों को और परेशानी हो रही है.

सरकार नौजवानों को लेकर कैसे चलती है, इसपर निर्भर करता है कि शांति कायम रहती है या नहीं.

( हाल में कश्मीर में कई वीडियो सामने आए हैं . एक वीडियो में दिखाया गया है कि 24 साल के एक युवक फारूक़ अहमद डार को आर्मी की जीप के बोनेट से बांध कर गांव में घुमाया जा रहा है. इस मामले में जम्‍मू कश्‍मीर पुलिस ने सेना के ख़िलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे