क्या विदेशों में भी है वीआईपी कल्चर?

  • 21 अप्रैल 2017
इमेज कॉपीरइट AFP

जब भारत सरकार ने ऐलान किया कि लाल बत्ती के वीआईपी कल्चर को तत्काल प्रभाव से समाप्त किया जा रहा है, तो इसका पूरे भारत में ज़बरदस्त स्वागत हुआ.

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने तो मंत्रिमंडल बैठक समाप्त होते ही अपनी गाड़ी से लाल बत्ती हटवा दी. लेकिन बहुत से लोगों को पता नहीं है कि नीदरलैंड्स के प्रधानमंत्री मार्क रेते सालों से अपने घर से दफ़्तर साइकिल से जाते रहे हैं.

केंद्रीय मंत्रियों की लाल बत्ती होगी गुल

'मोदी जी दफ्तर बस में आएँ तो मानें'

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption मार्क रेते

नीदरलैंड्स की गिनती दुनिया के सबसे अमीर देशों में होती है और कुल घरेलू उत्पाद में उसका स्थान दुनिया में 16वाँ है. ये काम रेते अपने देश में ही नहीं करते हैं बल्कि विदेशी दौरों में भी उनकी पूरी कोशिश होती है कि वो साइकिल पर चलने की ये परंपरा जारी रखें.

उमा भारती 'लाल बत्ती हटाने' को ग़लत मानती हैं

पिछले साल जब वो इसराइल के दौरे पर गए तो लोग ये देख कर दंग रह गए जब वो अपने होटल से वार्तास्थल तक साइकिल से पहुंचे. और तो और चार साल पहले जब हालैंड के नए राजा विलेम एलेक्ज़ैंडर ने कार्यभार संभाला तो शाही दंपत्ति को कई बार औपचारिक समारोहों में साइकिल पर जाते देखा गया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption स्वीडन के प्रधानमंत्री ओलेफ़ पाम

एक और यूरोपीय देश स्वीडन के प्रधानमंत्री ओलेफ़ पाम की उस समय हत्या कर दी गई थी जब वो फ़रवरी, 1986 में सिनेमा हॉल से एक पिक्चर देख कर पैदल वापस अपने घर लौट रहे थे.

इस घटना के 17 साल बाद, 11 सितंबर 2003 को, स्वीडन की विदेश मंत्री अना लिंड को भी एक डिपार्टमेंटल स्टोर में ख़रीदारी करते हुए एक शख्स ने चाकू मार दिया था. लेकिन इसके बाद भी महत्वपूर्ण व्यक्तियों की सुरक्षा को लेकर वहाँ कोई जुनून नहीं देखा जाता.

कार्टून: लालबत्ती का प्रेम

दुनिया के सबसे ताकतवर समझे जाने वाले देश अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपने कार्यकाल के दौरान कई बार वाशिंगटन और दूसरे शहरों के प्रमुख रेस्तराओं में खाना खाया है. वो कई बार वाशिंगटन के 'बेंस चिली बोल' में अपने परिवार के साथ खाना खाते देखे गए हैं.

अपनी वियतनाम की सरकारी यात्रा के दौरान ओबामा ने अपनी गाड़ियों का काफ़िला रुकवा कर हनोई के एक मामूली रेस्तराँ में प्लास्टिक के स्टूल पर बैठ कर वहाँ के मशहूर व्यंजन 'बन शा' का आनंद लिया था.

क्या इस बात की कल्पना भी की जा सकती है कि भारत के राष्ट्रपति या प्रधानमंत्री कनाट प्लेस के किसी रेस्तरां में खाना खाएंगे ?

इमेज कॉपीरइट AFP

लेकिन ऐसा नहीं हैं कि भारत में हमेशा से वीआईपी कल्चर रहा हो. भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के साथ कोई लाव-लश्कर नहीं चलता था. सिर्फ मोटर साइकिल पर सवार होकर एक सुरक्षाकर्मी पायलट के तौर पर चला करता था.

नेहरू के बाद इंदिरा गाँधी की कार के साथ भी सिर्फ़ एक अतिरिक्त कार चलती थी और सड़क पर चलने वालों के लिए ये देखना आम बात होती थी कि भारत की प्रधानमंत्री अपनी कार में फ़ाइलों को पढ़ती हुई चली जा रही है.

कुलदीप नैयर अपनी आत्मकथा 'बियॉन्ड द लाइंस' में लिखते हैं कि एक बार भारत के तत्कालीन गृह मंत्री लाल बहादुर शास्त्री ने अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के पास अपनी गाड़ी रुकवा कर गन्ने का रस पिया था.

लाल बत्ती पर सुप्रीम कोर्ट सख़्तदी

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इंदिरा गांधी की हत्या के बाद प्रधानमंत्री बने राजीव गाँधी के ज़माने में सुरक्षा व्यवस्था बहुत मज़बूत कर दी गई थी. लेकिन इसके बावजूद जब राजीव के निवास पर एक बैठक आधी रात तक खिंच गई तो उन्होंने गृह सचिव आर डी प्रधान को अपनी जीप पर बैठाया और खुद ड्राइव करने लगे.

आर डी प्रधान अपनी किताब 'वर्किंग विद राजीव गांधी' में लिखते हैं, "मैं समझा कि राजीव मुझे गेट तक छोड़ने जा रहे हैं. लेकिन उन्होंने कार गेट से बाहर निकाल कर पूछा, बताइए आपका घर किस तरफ़ हैं? मैंने उनके दोनों हाथ पकड़ लिये और कहा कि आप अगर एक इंच भी आगे बढ़े तो मैं चलती जीप से कूद जाउंगा. तब जा कर राजीव गांधी माने."

सपा ने गुल की 36 मंत्रियों की लाल बत्तीदी

'हम साइकिल नहीं छोड़ेंगे' वाले ये मंत्रीदी

लेकिन इसके बाद तो हालात बदलते चले गए. एक अनुमान के अनुसार इस समय भारत में कुल वीआईपी की संख्या पाँच लाख 79 हज़ार से ऊपर है जबकि ब्रिटेन में सिर्फ़ 84, फ़्रांस में 109 और चीन में मात्र 425 वीआईपी हैं.

भारत में राजनेताओं के अलावा नौकरशाह, जज, सैनिक अधिकारी और यहाँ तक कि फ़िल्म कलाकार भी वीआईपी स्टेटस पाने की होड़ में शामिल हैं. सेना के अफ़सरों की देखादेखी अब पुलिस अधिकारी भी अपनी कार पर स्टार लगाने लगे हैं. सेना में ब्रिगेडियर स्तर का अधिकारी भी एस्कॉर्ट कार के साथ चल रहा है.

इमेज कॉपीरइट AFP

बहुत दिन नहीं हुए जब मैंने खुद अपनी आँखों से ब्रिटेन के तत्कालीन प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर की कार को लंदन की ट्रैफ़िक लाइट पर रुक कर बत्ती हरी होने का इंतज़ार करते देखा है.

मुझे याद है जब उनका प्रधानमंत्री के रूप में पहला दिन था तो एक शख्स ने सुबह-सुबह उनके निवास स्थान 10 डाउनिंग स्ट्रीट की घंटी बजाई थी और ब्लेयर की पत्नी चेरी ब्लेयर ने जम्हाई लेते हुए ख़ुद दरवाज़ा खोला था और वहाँ मौजूद सैकड़ों टेलिविज़न कैमरों ने वो दृश्य कैद किया था.

अभी ज्यादा दिन नहीं हुए जब पूर्व ब्रिटिश प्रधानमंत्री डेविड कैमरन अपने प्रधानमंत्रित्व काल के आख़िरी दिन खुद अपने हाथों से ट्रक पर अपना टेलीविज़न लादते देखे गए थे.

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी कई विदेशी राष्ट्राध्यक्षों के साथ मेट्रो पर सवारी करते देखे गए है लेकिन उसको ज़्यादा से ज़्यादा एक फ़ोटो अपॉरचुनिटी ही कहा जा सकता है. लेकिन ब्रिटेन के प्रधानमंत्री और मंत्री अक्सर मेट्रो पर सवारी कर अपने दफ़्तर पहुंचते हैं.

तीसरी बार पीेएम नहीं बनूंगा- डेविड कैमरन दी

डेविड कैमरन, ट्विटर और एस्कॉर्टदी

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption भारत यात्रा के दौरान दिल्ली मेट्रो में सफर करते डेविड कैमरन.

एक बार तो हद ही हो गई जब डेविड कैमरन ने मेट्रो पर उनके साथ सफ़र कर रही एक महिला के बच्चे की तारीफ़ कर दी.

वो महिला उन्हें पहचान नहीं पाई और अपने पति से पूछ बैठी कि ये शख़्स कौन हैं जो मेरे बेटे की इतनी फ़राग़दिली से तारीफ़ कर रहा है. जब उसके पति ने कहा कि ये ब्रिटेन के प्रधानमंत्री हैं तो वो बहुत शर्मिंदा हुई और उसने कैमरन से माफ़ी मांगी.

पिछले साल जब कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने चुनाव जीता तो उन्होंने मॉन्ट्रियल के एक मेट्रो स्टेशन पर जा कर आम लोगों का अभिवादन किया था.

भारत में इस तरह की चीज़ों को आने में अभी समय लगेगा. लाल बत्ती का हमेशा के लिए जाना अच्छी शुरुआत है लेकिन अभी इस दिशा में बहुत कुछ होना बाकी है.

ऐसा प्रधानमंत्री जिनकी दीवानी हैं महिलाएं

कनाडाः बदले जाएंगे राष्ट्रगान के बोल - BBC हिंदी

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे