'मिट्टी घोटाला' में लालू परिवार को क्लीन चिट, सुशील मोदी ने लगाए नए आरोप

  • 22 अप्रैल 2017
सुशील मोदी इमेज कॉपीरइट Getty Images

बिहार के मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने कहा है कि सूबे में कोई मिट्टी घोटाला नहीं हुआ है.

बिहार के पूर्व उप-मुख्यमंत्री और बिहार भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने चार अप्रैल को राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव और उनके परिवार पर अस्सी लाख रुपए का मिट्टी घोटाला करने का आरोप लगाया था.

तब पटना में बन रहे एक मॉल की मिट्टी को संजय गांधी जैविक उद्यान यानी पटना ज़ू को सप्लाई करने के आरोप सुशील मोदी ने लगाए थे.

इमेज कॉपीरइट Twitter

गौरतलब है कि पटना ज़ू वन एवं पर्यावरण विभाग के मातहत काम करता है और इस विभाग के मंत्री लालू यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव हैं.

आरोपों के बाद मुख्य सचिव ने इसकी जांच की बात कही थी.

इस संबंध में उन्होंने शनिवार को बीबीसी को फ़ोन पर बताया, ''मैंने इस मिट्टी ख़रीद के संबंध में वन विभाग से फ़ाइल मंगाई थी. इसमें यह तथ्य सामने आया है कि केवल नौ लाख की मिट्टी की खरीद की गई है. मिट्टी की ढुलाई और इससे जुड़ी मजूदरी पर कुल मिलाकर चालीस लाख रुपये खर्च हुए हैं. इस खरीद में पूरी तरह से विभागीय प्रक्रियाओं का पालन किया गया. फ़ाइल के तथ्यों के हिसाब से अस्सी लाख रुपये के घोटाले जैसी कोई बात सामने नहीं आई है.''

अंजनी कुमार ने आगे बताया, ''मैंने इन तथ्यों के बाद दो चीजें देखने को कहा है. पहला ये कि सही क्वालिटी की मिट्टी की सप्लाई की गई या नहीं और दूसरा यह कि ठेकेदार ने जिन जगहों की मिट्टी देने की बात कही है, वे सही हैं या नहीं.''

इमेज कॉपीरइट Twiiter

बीबीसी के सवाल पर अंजनी कुमार सिंह ने यह साफ किया कि मिट्टी उस निर्माणाधीन मॉल से नहीं खरीदी गई, जिसके बारे में सुशील मोदी ने आरोप लगाए थे.

इस महीने के शुरू में मिट्टी घोटाले के आरापों के बाद लालू यादव ने भी प्रेस-कांफ्रेंस कर इन आरोपों को खारिज किया था.

मुख्य सचिव के इस 'क्लीन-चिट' पर सुशील मोदी ने आज कोई प्रतिक्रिया देने से इंकार किया. बल्कि उन्होंने प्रेस-कांफ्रेंस कर लालू परिवार पर एक नया आरोप लगाया.

इमेज कॉपीरइट Twitter

सुशील कुमार मोदी ने कहा कि लालू परिवार दिल्ली के पॉश इलाके न्यू फ्रैंड्स कॉलोनी में कथित तौर पर 115 करोड़ की संपत्ति का मालिक है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)