दिल्ली- भैंसें ले जा रहे तीन लोगों के साथ 'मारपीट,' एफआईआर दर्ज

इमेज कॉपीरइट Sourabh Gupta, PFA

दिल्ली में कालकाजी के पास भैंसों को ग़ाज़ीपुर ले जा रहे तीन लोगों के साथ शनिवार को मारपीट होने की ख़बरें हैं.

दक्षिण पूर्वी दिल्ली के डिप्टी कमीश्नर रोनिल बानिया ने बीबीसी की मानसी दाश को बताया कि मामला जानवरों को ग़ैर-क़ानूनी तरीके से बूचड़खानों में ले जाने से जुड़ा है.

उनके मुताबिक इस मामले में दो एफ़आईआर दर्ज की गई हैं- एक अमानवीय हालात में जानवरों को ले जाने का है और दूसरा इन लोगों के साथ मारपीट का मामला है.

लोग कैसे जमा हुए?

उधर जानवरों के अधिकारों के लिए काम करने वाली संस्था पीपल फॉर एनिमल्स से जुड़े गौरव गुप्ता ने बीबीसी को बताया कि संस्था से जुड़ी एक महिला ने सबसे पहले कालकाजी के पास ट्रक को देखा था और रोकने की केशिश की थी.

वो बताते हैं, "उनकी कोशिशों के बावजूद ट्रक नहीं रुका. बाद में वहां मौजूद लोगों ने ट्रक को रोका और जानवर ले जा रहे लोगों के साथ मारपीट की."

कार्टून: बैंक में 13 का पहाड़ा और गाय पर निबंध

'1857 में भी लगा था गोहत्या पर प्रतिबंध'

गौरव गुप्ता कहते हैं कि उस महिला के जानकारी देने के बाद पुलिस कंट्रोल रूम को फ़ोन किया गया.

उन्होंने पुलिस से मदद भेजने की गुज़ारिश की और उन्हें बताया कि 'एक ट्रक पकड़ा गया है और पब्लिक लोगों को बुरी तरह मार रही है, जल्दी पुलिस भेजिए कहीं ऐसा न हो कि कोई मर जाए.'

गौरव कहते हैं, "जब हम वहां पहुंचे तो वहां भारी भीड़ जमा थी और लोग पुलिस के ख़िलाफ़ नारेबाज़ी कर रहे थे."

उनका आरोप है कि जानवरों की हालत खराब थी और कई लोग जानवरों को पानी पिला रहे थे.

"मोदी घर-घर गाय का नारा क्यों नहीं लगा सकते"

गोरक्षा पर बीबीसी विशेष

कहासुनी और धक्कामुक्की हुई

इमेज कॉपीरइट AFP

दक्षिण पूर्वी दिल्ली के डिप्टी कमीश्नर रोनिल बानिया कहते हैं, "हमारे पास पीपल फॉर एनिमल से जुड़े एक व्यक्ति का फ़ोन आया था जिन्होंने अमानवीय हालात में जानवरों को ले कर जाने वाली गाड़ी के बारे में बताया था. हमारे पहुंचने से पहले वहां भैंसें ले जा रहे तीन लोगों के साथ कहासुनी हुई थी और धक्कामुक्की भी हुई थी."

रोनिल बानिया बताते हैं, "धक्कामुक्की की वजह से तीन लोगों को चोटें आई हैं जिन्हें अस्पताल ले जाया गया है और पुलिस उनका बयान ले रही है."

वो बताते हैं कि उत्तर प्रदेश और हरियाणा से इन भैंसों को लाया जा रहा था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे