उत्तर प्रदेश: पुलिस से मारपीट, 14 हिंदूवादी कार्यकर्ता गिरफ़्तार

  • 23 अप्रैल 2017
आगरा में प्रदर्शन इमेज कॉपीरइट Laxmikant
Image caption आगरा में पुलिस के ख़िलाफ़ प्रदर्शन करते हिंदूवादी कार्यकर्ता

उत्तर प्रदेश के आगरा में पुलिस ने हिंदूवादी संगठनों से जुड़े चौदह लोगों को गिरफ़्तार किया है. इन पर पुलिस के साथ बदसलूकी और आगजनी के आरोप हैं.

आगरा के पुलिस अधीक्षक प्रीतिंदर सिंह ने बीबीसी को बताया, "पुलिसकर्मियों के साथ बदसलूकी और थाने के बाहर प्रदर्शन के मामले में एफ़आईआर दर्ज कर ली गई है. अब तक चौदह लोग गिरफ्तार किए जा चुके हैं और बाकी की पहचान की जा रही है."

शनिवार को आगरा के फ़तेहपुर सीकरी में हिंदूवादी संगठनों ने मुस्लिम व्यापारियों के साथ मारपीट के आरोप में हिरासत में लिए गए कार्यकर्ताओं को छुड़ाने के लिए पुलिस के ख़िलाफ़ प्रदर्शन किए थे.

आरोप है कि इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने पुलिसकर्मियों के साथ बहस और बदसलूकी भी की.

वहीं स्थानीय बीजेपी विधायक उदयभान सिंह का कहना है कि कार्यकर्ताओं को मुस्लिम व्यापारियों से मारपीट के झूठे आरोपों में हिरासत में लिया गया था जिसका विरोध किया गया.

'एसएसपी के मकान पर हमला, पुलिस के मनोबल का क्या'

नज़रिया: महीने भर में क्या साबित कर पाए हैं योगी

इमेज कॉपीरइट Laxmikant

हिंदूवादी कार्यकर्ता

उदयनभान सिंह ने बीबीसी से कहा, "मुस्लिम बाइक सवार सांड से टकराकर घायल हुए थे और उन्हें चोट सड़क पर गिरने से लगी थी न कि उनके साथ मारपीट की गई थी."

स्थानीय मीडिया की रिपोर्टों के मुताबिक अल्पसंख्यक समुदाय से जुड़े दो लोगों के साथ मारपीट के मामले में पुलिस ने पांच हिंदूवादी कार्यकर्ताओं को गिरफ़्तार किया था.

इन्हें छुड़ाने के लिए बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद के सदस्यों ने फ़तेहपुर सीकरी थाने के बाहर प्रदर्शन किया था.

आरोप है कि इस दौरान पुलिस के साथ बदसलूकी और अभियुक्तों को हिरासत से छुड़ाने की कोशिश की गई.

कैसे तैयार हुई उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की टीम?

ब्लॉग: गुजरात के बाद उत्तर प्रदेश हिंदुत्व की दूसरी प्रयोगशाला

इमेज कॉपीरइट Laxmikant

'बदले की भावना'

पुलिस अधीक्षक प्रीतिंदर सिंह का कहना है, "मारपीट के अभियुक्त गिरफ़्तार हैं. पुलिस के साथ बदसलूकी करने वालों के ख़िलाफ़ अलग से मामला दर्ज किया गया है."

वहीं स्थानीय भाजपा विधायक उदयभान सिंह का कहना है कि पुलिस बदले की भावना से कार्रवाई कर रही है.

बीबीसी से बात करते हुए उदयभान सिंह ने कहा, "मैं स्वयं थाने में मौजूद था और एसएसपी और ज़िलाधिकारी से बात कर मामला निपटा दिया था, लेकिन मेरे थाने से जाते ही पांचों अभियुक्तों को बुरी तरह से पीटा गया."

उन्होंने कहा, "जानकारी मिलने पर हमने अभियुक्तों को आगरा ट्रांसफ़र करने की मांग की थी जिसे मान लिया गया. सदर थाने के बाहर जो हुआ वो ग़लत है."

उत्तर प्रदेश में बीजेपी सरकार का मुस्लिम चेहरा बने मोहसिन रज़ा

क्या शौचालय को लेकर महिला की हत्या हुई?

इमेज कॉपीरइट laxmikant

स्थानीय मीडिया की रिपोर्टों के मुताबिक प्रदर्शनकारियों ने आगरा के सदर थाने के बाहर पुलिसकर्मी की बाइक में आग लगा दी.

विधायक उदयभान सिंह का कहना है, "इसकी भी जांच की जानी चाहिए की पुलिस की बाइक में किसने आग लगाई."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे