53 घंटे में एक हज़ार व्यंजन बनाने का दावा

इमेज कॉपीरइट Sanjay Ramakant Tiwari

नागपुर के इंस्टीट्यूट ऑफ़ इंजीनियर्स के हॉल में ख़ास तौर पर एक विशाल रसोई बनाई गई जिसमें कई गैस स्टोव और चिमनियां लगाई गईं. इसके बाद शुरू हुआ लगातार घंटों तक खाना बनाने का सिलसिला.

शेफ़ विष्णु मनोहर ने 12 कैमरों के सामने 53 घंटे में एक हज़ार शाकाहारी व्यंजन बनाकर एक बड़ा रिकॉर्ड बनाने का दावा पेश किया है. उन्होंने हर आठ घंटे में 40 मिनट का एक ब्रेक भी लिया.

मराठी रेडियो और टीवी के जाने-माने नाम विष्णु मनोहर कई चैनलों पर कुकरी शो कर चुके हैं. विष्णु देश का सबसे बड़ा पराठा और कबाब बनाने का दावा कर चुके हैं और इस बार उनकी नज़र गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड पर है.

दीदी का ढाबा जहां एक बार खाएं, बार-बार आएं

चखे हैं नवरोज़ के पारसी पकवान?

इमेज कॉपीरइट Sanjay Ramakant Tiwari

ताना मारा तो रिकॉर्ड बनाने का फ़ैसला

दरअसल विष्णु ने तीन दिन और दो रातें लगातार कुल 53 घंटे तक किचन में बिताए और एक हज़ार से भी ज़्यादा शाकाहारी व्यंजन बनाए.

विष्णु ने बीबीसी को बताया कि यह नया रिकॉर्ड बनाने का ख़्याल उन्हें तब आया जब कुछ महीने पहले अमरीका में एक सेमिनार के दौरान किसी ने उन्हें लगातार कुकिंग करने वाले अमरीकी शख़्स के वर्ल्ड रिकॉर्ड के बारे मे बताकर तंज़ कसा था, तभी उन्होंने ठान लिया था कि कुकिंग में ऐसा रिकॉर्ड बनाएँगे जिसे तोड़ना मुश्किल होगा.

उन्होने फ़ैसला किया कि वो तय समय में सबसे ज़्यादा व्यंजन बनाने का वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाएंगे.

इमेज कॉपीरइट Sanjay Ramakant Tiwari

गिनीज़ बुक है लक्ष्य

विष्णु मनोहर के बड़े भाई और मुख्य आयोजकों में से एक प्रवीण मनोहर ने बताया, ''गिनीज़ बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स को आवेदन करने के बाद पिछले महीने उनका अनुमति पत्र और रजिस्ट्रेशन नंबर आया. निर्धारित समय पर यह प्रयास करना था. लेकिन विष्णु का आगे का शेड्यूल टाइट होने से नागपुर में भीषण गर्मी के बावजूद हमने इसी महीने इसे आयोजित किया.''

इमेज कॉपीरइट Sanjay Ramakant Tiwari

प्रवीण ने बताया, ''अलग-अलग ऐंगल्स को फ़ोकस करते हुए बारह कैमरे लगाए गए जो लगातार रिकॉर्डिंग करते रहे. डिजिटल वीडियोग्राफ़ी के तमाम हार्ड डिस्क गिनीज़ बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकार्ड्स के दफ्तर भेजे जाएंगे जहाँ बारीक जांच के बाद 3 महीने में नया रिकॉर्ड स्वीकृत हो पाएगा. यहाँ हर डिश के बनाने के बाद उसका वज़न किया जाता है जो 80 ग्राम से 130 ग्राम के बीच होना चाहिए. इसकी भी वीडियोग्राफ़ी और फ़ोटोग्राफ़ी होती है. पूरा आयोजन टैम्पर प्रूफ़ है, गड़बड़ी की कोई संभावना नहीं है. गिनीज़ के नॉर्म्स के अनुसार टाइम कीपर्स और विटनेसेस हैं. हर रेसिपी को कितना समय लगा, यह टाइम कीपर्स चेक करते रहे.''

इमेज कॉपीरइट Sanjay Ramakant Tiwari

घंटों रसोई में रहना एक चुनौती

विष्णु मनोहर के बैक किचन की एक अहम सदस्या माधवी पाटिल का कहना है, ''इस आयोजन के पीछे काफी पूर्व तैयारी की गई है. हम महिलाएँ एक या दो घंटे में किचन से परेशान हो जाती हैं. ऊपर से अगर मेहमान घर पर आ जाएं तो हमारा हाल पूछिए मत. झंझट लगती है. लेकिन वो पुरुष होकर इतनी शिद्दत से ये सब कर रहे हैं. वो ग्रेट हैं.''

प्रवीण मनोहर ने बताया कि गिनीज़ के नियमों के हर एक घंटे के बाद पांच मिनट का ब्रेक दिया जा सकता है. विष्णु ने 8 घंटे के बाद 40 मिनट का आराम किया. फ़्रेश होना, मसाज लेना और कुछ मिनटों की एक झपकी इसमें शामिल थी.

इमेज कॉपीरइट Sanjay Ramakant Tiwari

जब विष्णु ब्रेक लेते तब डॉ. पिनाक दंदे की टीम उन पर काम शुरू कर देती.

डॉ. दंदे बताते हैं "एक महीने से विष्णु मनोहर को तनावमुक्त रहने और साांस संबंधी क्रियाएं सिखाई जा रही थीं. कुकिंग मैराथन में ब्रेक के दौरान ब्लड प्रेशर, ब्लड ग्लूकोज़ लेवल्स, ऑक्सीजन लेवल्स को लगातार मॉनिटर किया गया.''

इमेज कॉपीरइट Sanjay Ramakant Tiwari

हालांकि विष्णु मनोहर की तरफ़ से सबसे कम समय में सबसे ज़्यादा शाकाहारी व्यंजन बनाने के रिकॉर्ड का दावा पेश कर दिया गया है, लेकिन गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड के तमाम पैमानों पर खरा उतरने के बाद ही ये रिकॉर्ड आधिकारिक तौर पर उनके नाम होगा जिसमें तीन महीने तक का वक़्त लग सकता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे