सिंधु जल संधि की भरपाई पर पीएम मोदी ने दिया आश्वासन- महबूबा

  • 24 अप्रैल 2017
इमेज कॉपीरइट EPA

जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने कहा है कि सिंधु जल समझौते से जम्मू कश्मीर को होने वाले नुकसान की भरपाई करने का प्रधानमंत्री मोदी ने भरोसा दिलाया है.

भारत प्रशासित कश्मीर में कई हफ़्तों से जारी तनाव के बीच सोमवार को मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाक़ात की.

महबूबा सरकार की अलगाववादियों से गुहार

कश्मीर के अख़बारों में भारत के रवैये की निंदा

मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा, "मैंने प्रधानमंत्री पर दबाव डाला कि सिंधु नदी जल समझौते से राज्य को जो 20 हज़ार करोड़ का नुकसान हो रहा है उसकी भरपाई के लिए केंद्र क़दम उठाए."

उन्होंने कहा कि 'प्रधानमंत्री ने इस बारे में क़दम उठाने का आश्वासन' दिया है.

सोशल मीडिया पर लगाम

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मुख्यमंत्री मुफ़्ती ने कहा कि घाटी में बातचीत को पटरी पर लाने को लेकर प्रधानमंत्री सहमत हैं और हालात सामान्य होने पर बातचीत शुरू की जाएगी.

क्या टूटने वाला है पीडीपी और बीजेपी का गठबंधन?

पत्थरबाजों को उकसाने वाले कई व्हाट्स ऐप ग्रुपों की जानकारी सामने आने के सवाल पर उन्होंने कहा कि मंगलवार को यूनिफ़ाइड कमांड की बैठक में व्हाट्स ऐप और फ़ेसबुक के माध्यम से बाहर से हिंसा भड़काने की घटनाओं पर चर्चा होगी.

उन्होंने कहा कि 'पत्थरबाजी में शामिल नौजवानों में कुछ ऐसे नौजवान भी हैं जिनमें हालात को लेकर गुस्सा है. दूसरे वे हैं जिन्हें जानबूझकर उकसाया जाता है.'

वाजपेयी से आगे बढ़ना होगा

बातचीत में हुर्रियत को शामिल किया जाएगा या नहीं, इस सवाल पर मुफ़्ती का कहना था कि वाजपेयी के शासन में भी बातचीत हुई थी और बाद के दौर में भी.

उन्होंने कहा कि बातचीत ही एकमात्र हल है, 'वाजपेयी जी ने इस मुद्दे को जहां छोड़ा था वहीं से इसे ले जाना पड़ेगा नहीं तो कश्मीर के हालात को सुधारा नहीं जा सकता.'

हुर्रियत से भी बात की जाए: महबूबा मुफ़्ती

उन्होंने दावा किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी वाजपेयी की कश्मीर नीति से इत्तेफ़ाक जताते रहे हैं.

उन्होंने कहा कि 'पत्थरबाजी और गोली के माहौल में बातचीत नहीं हो सकती इसलिए माहौल को ठीक करने के लिए हमें थोड़ी मोहलत चाहिए.'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे