माओवादियों ने हाल के वर्षों में किए ये हमले

जवान इमेज कॉपीरइट CRPF

छत्तीसगढ़ के सुकमा में माओवादियों ने सीआरपीएफ के जवानों की एक टोली पर हमला किया है.

इस हमले में अब तक 26 जवानों की मौत होने की पुष्टि हुई है. हाल के माओवादी हमलों पर एक नज़र.

आइए जानें हाल में हुए माओवादी हमलों के बारे में...

सुकमा हमला - तारीख 24 अप्रैल, 2017

छत्तीसगढ़ के सुकमा ज़िले में माओवादियों के हमले में केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल (सीआरपीएफ़) के 26 जवान मारे गए हैं.

पुलिस के अनुसार चिंतागुफा के बुर्कापाल इलाके में सीआरपीएफ़ के जवानों का एक दल रोड ओपनिंग पार्टी के तौर पर इलाके में गश्त पर था.

इस इलाके में सड़क बनाई जा रही थी, जिसकी सुरक्षा के लिए जवानों का दल निकला था.

उसी समय माओवादियों ने पहले से घात लगा कर हमला किया. मारे गए सभी जवान सीआरपीएफ की 74वीं बटालियन के थे.

सुकमा हमला - तारीख 11 मार्च, 2017

सुकमा ज़िले में 11 मार्च को माओवादियों के साथ मुठभेड़ में सीआरपीएफ के 11 जवान मारे गए थे.

इसके अलावा कम से कम पांच जवान गंभीर रूप से घायल हुए थे. माओवादियों ने ये हमला रास्ता खोलने वाली आरओपी टीम पर किया था.

बस्तर के प्रभारी आईजी सुंदरराज पी के अनुसार, "सीआरपीएफ की 219वीं बटालियन के जवान रोड खुलवाने के लिए भेज्जी थाना इलाके में निकले हुए थे. यहीं कोत्ताचेरु के पास पहले से घात लगाए माओवादियों ने उन पर हमला बोला था."

इमेज कॉपीरइट CRPF

दंतेवाड़ा - तारीख 25, मई 2013

25 मई को छत्तीसगढ़ की दरभा घाटी में माओवादियों के हमले में आदिवासी नेता महेंद्र कर्मा, कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नंद कुमार पटेल, पूर्व केंद्रीय मंत्री विद्याचरण शुक्ल समेत 30 लोगों को मौत हो गई थी.

दंतेवाड़ा - तारीख 6 अप्रैल, 2010

माओवादियों ने अब तक के अपने सबसे बड़े हमले में सीआरपीएफ की 62वीं बटालियन और छत्तीसगढ़ पुलिस के जवानों की टुकड़ी पर हमला किया.

इस हमले में 75 सीआरपीएफ जवान मारे गए थे.

दंतेवाड़ा - तारीख 17 मई, 2010

दंतेवाड़ा में 17 मई 2010 को दंतेवाड़ा से सुकमा जा रहे सुरक्षाबल के जवानों पर माओवादियों ने बारूदी सुरंग लगा कर हमला किया था.

इस हमले में सुरक्षाबल के 36 लोग मारे गए थे. मारे जाने वालों में 12 आदिवासी एसपीओ भी शामिल थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे