छत्तीसगढ़ का सुकमा: क्या कभी बदलेंगे हालात?

  • 27 अप्रैल 2017
छत्तीसगढ़ इमेज कॉपीरइट Alok Putul

छत्तीसगढ़ के सुकमा में हर तरफ सन्नाटा और खौफ पसरा है. जो अब लंबा खिंचता चला जा रहा है.

वजह ये है कि बस्तर में नक्सली हिंसा की जितनी भी बड़ी वारदातें हुई हैं वो इसी इलाके में हुई हैं.

ये वो इलाका है जहां सुरक्षा बलों ने सबसे ज्यादा नुकसान उठाया है. सबसे ज्यादा जवान हताहत हुए हैं.

बात अगर नक्सलियों की हो तो साल 2010 में जब सुकमा के ही ताड़मेटला में सीआरपीएफ के 76 जवानों की मौत हुई थी तब से लेकर आज तक जवाबी कार्रवाई में सुरक्षा बलों को नक्सलियों के खिलाफ कभी कोई बड़ी सफलता नहीं मिली.

कब और कैसे रुकेंगे सुकमा जैसे नक्सली हमले?

सीआरपीएफ़ यदि अहम तो मुखिया बगैर क्यों?

इमेज कॉपीरइट Alok Putul

नक्सलियों का आत्मसमर्पण

बीते तीन सालों में इस इलाके में कई जगहों पर नक्सलियों के आत्मसमर्पण के कई समारोह आयोजित हुए जिनमें दावा किया गया कि नक्सली विचारधारा से अलग होकर अब मुख्यधारा में जुड़ रहे हैं.

पिछले दो सालों में अनुमान के अनुसार तीन सौ लोगों का ये कहते हुए आत्मसमर्पण कराया गया कि ये नक्सलियों के कैडर थे.

लेकिन, ऐसे कार्यक्रमों में कथित कैडर ने कभी बड़े हथियारों के साथ आत्मसमर्पण नहीं किया.

जिससे ये जानकारी होती है कि जो माओवादियों के छापामार दस्ते हैं, वो अब भी सक्रिय हैं और इस इलाके में अपना दबदबा बनाए रखने में कामयाब भी हैं.

यहां पर बड़े पैमाने पर केंद्रीय सुरक्षा बलों की भी तैनाती की गई है. अब इन सुरक्षा बलों के जवानों से सड़क निर्माण कार्य की सुरक्षा कराई जा रही है.

'बउवा ज़िंदा रहता तब न फ़ोन रिसीव करता'

कार्टून: नक्सलवाद से राहत की दवा

इमेज कॉपीरइट Alok Putul

दंतेवाड़ा ज़िला

बीते सोमवार को चिंतागुफा के पास हुए नक्सली हमले के बाद दोरनापाल से लेकर जगरगुंडा तक की सड़क के निर्माण का काम फिलहाल बंद पड़ा है.

अधिकारियों का दावा है कि सुरक्षा बलों को सुदूर जंगलों में चलाए जा रहे कॉम्बिंग ऑपरेशन में इस्तेमाल किया जा रहा है.

सुकमा का इलाका बीते कई सालों से विकास से दूर है.

जब ये इलाका दंतेवाड़ा ज़िले का हिस्सा था तब भी पिछड़ा हुआ था और अब अलग ज़िला बनने के बाद भी यहां कुछ खास विकास नहीं हुआ है.

केंद्र सरकार ने नक्सल प्रभावित इलाकों के विकास के लिए एक इंटीग्रेटेड एक्शन प्लान की घोषणा की.

जिसके तहत विभिन्न योजनाओं के लिए 70 से 80 करोड़ रुपये की राशि नक्सल प्रभावित ज़िलों को मिलती है.

नक्सलवाद के ख़िलाफ़ रणनीति की समीक्षा होगी: राजनाथ

माओवादियों ने हाल के वर्षों में किए ये हमले

इमेज कॉपीरइट Alok Putul

सरकारी आंकड़ें

लेकिन सरकारी आंकड़े बताते हैं कि सुकमा के कोंटा ब्लॉक में, जहां चिंतागुफा, जगरगुंडा, काकेरलंका और चिंतलनार जैसे इलाके हैं, जहां पर प्लान की राशि का इस्तेमाल न के बराबर हुआ है.

सिर्फ सुकमा जिले को नेशनल रूरल हेल्थ मिशन के मद में नौ करोड़ रुपये, मनरेगा के मद में 10 करोड़ रुपये, इंटीग्रेटेड एक्शन प्लान के तहत 20 करोड़ और विभिन्न अन्य योजनाओं के तहत 10 करोड़ रुपये हर साल आवंटित किए जाते हैं.

कोंटा ब्लॉक में इंटीग्रेटेड एक्शन प्लान के तहत पिछले चार सालों में सिर्फ छह से सात करोड़ रुपये ही खर्च हो सके और ये आरोप है कि बाकी राशि का इस्तेमाल अधिकारियों के बंगलों और कार्यालयों पर किया गया.

हालांकि, इस रकम को खर्च किए जाने के दिशा निर्देश भी तय हैं.

सुकमा जैसे बड़े नक्सली हमले क्यों हो जाते हैं ?

माओवादी हमले में सीआरपीएफ़ के 25 जवान मारे गए

इमेज कॉपीरइट Alok Putul

सीआरपीएफ़ जवान

लेकिन ये आरोप है कि उसके बाद भी यहां पर तैनात जिलाधिकारियों ने अपने हिसाब से इस राशि को शहर की सड़कों और अपने बंगलों पर खर्च किया.

इस आवंटन के बाद भी पिछले कई सालों से सुकमा से लेकर कोंटा तक की सड़क और दोरनापाल से लेकर जगरगुंडा तक की सड़क बन नहीं सकी है.

सीआरपीएफ के जवानों का इस्तेमाल सड़क के निर्माण कार्यों की सुरक्षा के लिए किया तो जा रहा है लेकिन रणभूमि बन चुके इस इलाके में यहां तैनात होने वाले जवानों पर हमला होने की स्थिति में उन तक मदद वक्त पर नहीं पहुंच पाती है.

इसकी वजह ये है कि ये इलाका अब भी दुर्गम है और यहां तक पहुंच आसान नहीं है.

'सुकमा के शहीदों की क़ुर्बानी बेकार नहीं जाएगी'

छत्तीसगढ़ में जनधन खातों की हक़ीक़त

इमेज कॉपीरइट CRPF

सुकमा के हालात

इसके कई उदाहरण भी हैं. कई बार ऐसी घटनाओं की स्थिति में मदद पहुंचने में पांच घंटे तक का वक्त लग गया है.

इस इलाके में सुरक्षा बलों पर हमला नई बात नहीं है लेकिन इस बार नक्सलियों के हमले में 25 जवानों की मौत हुई है.

और इस इलाके की स्थिति एक बार फिर राष्ट्रीय स्तर पर गंभीर बहस का मुद्दा बन गई है.

लेकिन क्या इस बार बहस से कोई ऐसा नतीजा निकलेगा जिससे सुकमा की स्थित बदल सके. यहां की मुख्य चिंता फिलहाल यही है.

बस्तर: 'यहाँ आम लोगों का आना मना है'

माओवादियों को मिलता है सरकार का 'झुनझुना'

क्या नक्सली सचमुच कमज़ोर हो रहे हैं?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे