मेरे ख़िलाफ़ भड़काने पर भी नहीं भड़के विनोद: शत्रुघ्न सिन्हा

  • 27 अप्रैल 2017
इमेज कॉपीरइट EPA

साल 1971 में गुलज़ार की 'मेरे अपने' से विनोद खन्ना की अभिनय क्षमता को लोगों ने पहचाना. इसी फ़िल्म से उनकी दोस्ती हुई शत्रुघ्न सिन्हा से.

विनोद खन्ना के निधन पर बीबीसी से बात करते हुए शत्रुघ्न ने कहा, "मैं और विनोद फ़िल्मों और राजनीति दोनों में लगभग साथ-साथ आए. मेरे अपने हम दोनों की काफ़ी अच्छी फ़िल्म थी और इसके बाद हम दोनों ही रातोंरात स्टार बन गए. सच्चे मायनों में वो हमेशा मेरे अपने रहे."

नहीं रहे बॉलीवुड के 'दयावान' विनोद खन्ना

नरेंद्र मोदी ने दी विनोद खन्ना को श्रद्धांजलि

शत्रुघ्न सिन्हा ने आगे कहा, "जिस दिन मैं मंत्री बना उसी दिन विनोद खन्ना भी मंत्री बने. अटल बिहारी की सरकार में मैं केंद्रीय मंत्री बना और वो राज्य मंत्री बने. कई लोगों ने उन्हें भड़काने की कोशिश की कि आपको राज्य मंत्री बनाया और शत्रुघ्न को केंद्रीय बनाया गया है तो उन्होंने कहा कि तो क्या हुआ वो राजनीति में मुझसे सीनियर हैं, हम भी किसी दिन कैबिनेट मंत्री बन जाएंगे.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

शत्रुघ्न बताते हैं कि 80 के दशक में जब विनोद खन्ना अचानक ओशो के आश्रम चले गए तो उनकी छोड़ी हुई दो फिल्मों में उन्होंने काम किया था.

विनोद खन्ना ने अपने शुरुआती सालों में कई फ़िल्मों में विलेन के रोल निभाए.

'क़ुर्बानी' और 'दयावान' विनोद खन्ना की दो चर्चित फ़िल्में रहीं जिसमें उन्होंने फ़िरोज़ ख़ान के साथ काम किया.

ये एक संयोग ही है कि दोनों सितारों की मौत एक ही तारीख को, एक ही उम्र में और एक ही बीमारी से हुई. बस साल अलग रहा.

फ़िरोज़ ख़ान का निधन 70 साल की उम्र में 27 अप्रैल 2009 को कैंसर की बीमारी से हुआ था. विनोद खन्ना का निधन भी 27 अप्रैल को 70 साल की उम्र में कैंसर की बीमारी की वजह से हुआ.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)