अंडा, ऑमलेट लाने पर स्कूल से निकालने का फ़रमान

  • 29 अप्रैल 2017

"छात्र सिर्फ़ शाकाहारी खाना लाएं, अंडा, ऑमलेट या कोई भी नॉन वेज डिश ना लाएं. अगर ऐसा किया तो स्कूल से निकाल दिया जाएगा और कानूनी कार्रवाई की जाएगी. इतना ही नहीं सभी छात्रों को योगी आदित्यनाथ जैसी स्टाइल के बाल कटवाने का आदेश दिया गया."

ये सब हुआ मेरठ के ऋषभ एकेडमी स्कूल में, जहां स्कूल प्रशासन ने छात्रों को ये निर्देश दिया.

प्रेस रिव्यू: 'सीएम योगी की स्टाइल में बाल रखने का फरमान'

जब अभिभावकों ने हंगामा मचाया तो ज़िला मजिस्ट्रेट समीर वर्मा ने ज़िला विद्यालय निरीक्षक से मामले की रिपोर्ट मांगी है. स्कूल में कक्षा एक से 12वीं तक के क़रीब 2 हजार 800 बच्चे पढ़ रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Kamran Zuberi

स्कूल में पढ़ने वाले अल्पसंख्यक बच्चों और उनके अभिभावकों ने आरोप लगाया कि प्रबंधन विशेष वर्ग के बच्चों को निशाना बनाते हुए दाख़िला नहीं देना चाहता और इसी वजह से प्रतिबंध के ऐसे हथकंडे अपनाए जा रहे हैं. ख़ास तौर पर अभिभावक इस बात से नाराज थे कि बच्चों को खास तरीक़े से बाल कटाने को कहा जा रहा है जो उन्हें मंज़ूर नहीं.

इस मामले में स्कूल प्रबंधन ने कहा है कि बेहतर माहौल और अनुशासन बनाये रखने के लिए ये क़दम उठाए जा रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

प्रबंध समिति के सचिव रंजीत जैन ने कहा, "लंबे बाल और नॉनवेज खाने पर रोक लगाने के फ़ैसले के बाद छात्र हमें ही धमकी दे रहे हैं. इसकी शिकायत हम ज़िला मजिस्ट्रेट और एसएसपी से भी करेंगे. छात्रों की हरकतें सीसीटीवी कैमरे में कैद हैं और अब उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई की जाएगी."

रंजीत जैन ने कहा, "जिन छात्रों को स्कूल में रहना है उन्हें नियमों का कड़ाई से पालन करना होगा. जो नहीं कर सकते वो स्कूल से नाम कटा सकते हैं. छात्रों को अभी से बाल बढ़ाने व दाढ़ी रखने की भी इजाज़त नहीं है."

वहीं मेरठ के ज़िला मजिस्ट्रेट समीर वर्मा ने कहा कि मामले सामने आने के बाद जांच करवाई जा रही है और रिपोर्ट मिलने के बाद कानून के अनुसार कार्रवाई की जाएगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे