मंच पर हत्या के अभियुक्त की मौजूदगी और योगी आदित्यनाथ का क़ानून राज?

  • 30 अप्रैल 2017
इमेज कॉपीरइट Pti
Image caption मंच पर योगी आदित्यनाथ के पैर छूते हुए निर्दलीय विधायक अमनमणि त्रिपाठी

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को गोरखपुर में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि राज्य में क़ानून और व्यवस्था में परिवर्तन दिखा है और अगले एक महीने में राज्य में ये परिवर्तन और तेज़ दिखाई देगा.

योगी आदित्यनाथ ने अपने संबोधन में ये भी कहा, "जिन्हें क़ानून के राज में विश्वास नहीं है, वे लोग उत्तर प्रदेश अवश्य छोड़ दें. उनके दिन अब लद चुके हैं."

इस संबोधन के ठीक बाद गोरखपुर विश्वविद्यालय परिसर में योगी आदित्यनाथ के साथ मंच पर निर्दलीय विधायक अमनमणि त्रिपाठी नज़र आए. वे मंच पर योगी आदित्यनाथ के पांव छूते दिखे और पूरे कार्यक्रम के दौरान वे मुख्यमंत्री के साथ स्टेज पर मौजूद थे.

सहारनपुर जैसी घटना दोहराने की कोई हिम्मत नहीं करेगा- पुलिस प्रमुख

पदोनों बच्चों की आंखों में ख़ौफ़ देखा है: एसएसपी की पत्नी

अमनमणि त्रिपाठी महाराजगंज के नौतनवां से निर्दलीय विधायक हैं और उनपर अपनी ही पत्नी की हत्या करने का आरोप है. इस आरोप के अलावा उन पर अपहरण और मारपीट के मामले भी चल रहे हैं. उनकी मंच पर मौजूदगी के दौरान योगी आदित्यनाथ ने राज्य में क़ानून व्यवस्था को सुधारने की बात दोहराई.

बीजेपी का दोहरा मापदंड

मुख्यमंत्री के बयान और स्टेज पर अमनमणि त्रिपाठी की मौजूदगी पर समाजवादी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने बीबीसी से कहा, "ये भारतीय जनता पार्टी की सरकार का दोहरा मापदंड है. राज्य की जनता ये देख रही है कि मुख्यमंत्री एक ओर क़ानून व्यवस्था की बात करते हैं तो दूसरी तरफ़ हत्या के आरोपी के साथ मंच शेयर करते हैं."

इस मसले पर योगी आदित्यनाथ सरकार के ऊर्जा मंत्री और बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा ने बीबीसी से कहा, "हमारी सरकार पहले दिन से कह रही है कि अपराधियों को या तो अपराध छोड़ना होगा या प्रदेश. जहां तक राजनीतिक पृष्ठभूमि से जुड़े लोगों पर चल रहे मामलों की बात है, उसकी सुनवाई हम फास्टट्रैक कोर्ट में कराने जा रहे हैं. इसमें जो दोषी होंगे वो जेल भेजे जाएंगे, जो निर्दोष निकलते हैं उनको आज़ादी मिलेगी."

इमेज कॉपीरइट Facebook

अमनमणि त्रिपाठी पर भी पत्नी सारा की हत्या का आरोप है और सीबीआई मामले की जांच कर रही है. इस मामले में अमनमणि की गिरफ्तारी भी हो चुकी है. इस वजह से समाजवादी पार्टी सहित दूसरी पार्टियों ने चुनाव से पहले उनसे दूरी बनाई थी. हालांकि पहले वे समाजवादी पार्टी में रहे हैं.

हिंदुस्तान टाइम्स के लखनऊ संस्करण की संपादक सुनीता एरॉन कहती हैं, "योगी आदित्यनाथ तो अब तक अपनी ओर से अच्छा संदेश देने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन अमनमणि त्रिपाठी के साथ मंच शेयर करने से लोगों में अच्छा संदेश नहीं गया है."

सरकार की नाकामी

सपा के राजेंद्र चौधरी ये भी आरोप लगाते हैं कि भारतीय जनता पार्टी के सांसद, विधायक से लेकर आम कार्यकर्ता तक क़ानून व्यवस्था को अपने हाथ में ले रहे हैं और सरकार कुछ भी नहीं कर रही है.

इमेज कॉपीरइट RAGHAV LAKHANPAL SHARMA FACEBOOK
Image caption सहारनपुर के सांसद राघव लखनपाल शर्मा

उनके आरोपों में दम इसलिए भी उत्तर प्रदेश के अलग अलग हिस्सों से बीते कुछ दिनों में भारतीय जनता पार्टी के सांसद, विधायक और समर्थकों द्वारा क़ानून व्यवस्था को हाथ में लेने की ख़बरें लगातार आ रही हैं.

सहारनपुर के स्थानीय सांसद राघव लखनपाल शर्मा के नेतृत्व में ज़िले के तत्कालीन एसएसपी लव कुमार के घर पर हमला हुआ और उसके बाद कुछ ही दिनों के अंदर लव कुमार का ट्रांसफर हो गया.

'एसएसपी के मकान पर हमला, पुलिस के मनोबल का क्या'

हालांकि राज्य के पुलिस महानिदेशक सुलखान सिंह ने बीबीसी से बताया था कि इस मामले में इतनी कड़ी कार्रवाई की जाएगी कि ऐसी घटना रिपीट नहीं होगी.

लेकिन राघव लखनपाल शर्मा पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई और एसएसपी का ट्रांसफ़र हो गया.

इमेज कॉपीरइट TWITTER @LUCKNOWPOLICE

इन सबसे क़ानून व्यवस्था की राज की छवि कैसे बनाई जा सकती है, इस सवाल पर श्रीकांत शर्मा कहते हैं, "किसी को भी क़ानून हाथ में लेने का अधिकार हमारी सरकार नहीं दे रही है. सहारनपुर मामले में जो भी लापरवाही हुई है, उसकी जांच की जा रही है. कोई भी पुलिस अधिकारी अगर चीज़ों को संभालने में सक्षम नहीं होता है तो उसपर भी कार्रवाई हो रही है."

लेकिन मामला केवल सहारनपुर भर का नहीं है. बीते 20 अप्रैल को बरेली के सीतापुर में स्थानीय बीजेपी विधायक महेंद्र यादव के काफिले को जब टोलकर्मी ने रोका तो विधायक के समर्थकों ने उसकी कथित तौर पर जमकर पिटाई की.

'कहने को कुछ नहीं होगा, सिवाए कि सब देश प्रेमी हैं'

'सॉफ़्ट हिंदुत्व अपनाने के विचार को ख़ारिज करना होगा'

आगरा में भी बजरंग दल के समर्थकों ने 23 अप्रैल को पुलिस स्टेशन पर हमला कर दिया और पुलिस के गाड़ी जला दी. 27 अप्रैल को बरेली नवाबगंज से बीजेपी विधायक केसर सिंह के स्थानीय ग्रामीण बैंक के मैनेजर से मारपीट और उन्हें कई घंटे तक बंधक बनाने की ख़बरें आईं थीं.

कहां है क़ानून का राज?

27 अप्रैल को ही बराबंकी से बीजेपी की स्थानीय सांसद प्रियंका रावत ने एडिशनल एसपी कुंवर ज्ञानंजय सिंह को भ्रष्ट क़रार देते हुए खाल खिंचवाने की धमकी दी.

राजेंद्र चौधरी के मुताबिक ऐसे मामले लगातार सामने आ रहे हैं और राज्य की जनता ख़ुद को ठगा हुआ महसूस कर रही है. वे कहते हैं, "जनता को उम्मीद होती है कि सरकार कानून के मुताबिक काम करेगी. लेकिन योगी सरकार ने जो दिशा तय की है, वो स्वस्थ लोकतंत्र के लिए ख़तरा है. लोगों के साथ धोखा किया जा रहा है. कहां है क़ानून का राज?"

इमेज कॉपीरइट PTI

सुनीता एरॉन इसे योगी आदित्यनाथ सरकार के लिए बहुत बड़ा संकट मानती हैं. उन्होंने कहा, "योगी आदित्यनाथ बेहतर क़ानून व्यवस्था के नाम पर चुनाव जीतकर आए हैं. लेकिन उनकी सरकार और पार्टी के लोग विरोधाभाषी संकेत दे रहे हैं. यूपी के इतिहास में शायद पहली बार किसी एसएसपी के घर पर हमला हुआ है और जगह-जगह क़ानून व्यवस्था को हाथ में लेने की ख़बरें आ रही हैं."

श्रीकांत शर्मा के मुताबिक उनकी सरकार लगातार कोशिश कर रही है ऐसी स्थिति नहीं आए और पार्टी के लोगों पर भी अनुशासनात्मक कार्रवाई की जा रही है. लेकिन वे इसे राज्य सरकार की छवि के लिए बड़ा संकट नहीं मानते.

श्रीकांत विपक्ष की आलोचना को भी बहुत तूल नहीं देते. वे कहते हैं, "आलोचना कौन लोग कर रहे हैं. ये देखिए. डायल 100 की बात करने वालों की सरकार में बलात्कार के आरोपी मंत्री थे. हमारी सरकार की छवि आम लोगों की नज़रों में बहुत बेहतर है."

यूपी के पुलिस महानिदेशक की क्यों लगी क्लास

लेकिन राजेंद्र चौधरी कहते हैं कि बीजेपी सरकार और उनके समर्थकों को ये नहीं भूलना चाहिए कि 60 फ़ीसदी से ज़्यादा लोगों ने उन्हें अपना वोट नहीं दिया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे