असमः 'गाय चोरी' के आरोप में दो युवकों की हत्या

  • 1 मई 2017
इमेज कॉपीरइट AFP

असम के नगांव जिले के कासामारी इलाके में रविवार को कथित तौर पर 'गाय चोरी' करने के आरोप में ग्रामीणों की भीड़ ने दो युवकों को पीट-पीट कर मार डाला.

मरने वाले दोनों युवक मुस्लिम समुदाय के थे जिस कारण क्षेत्र में तनाव है.

पुलिस के अनुसार भीड़ में शामिल लोगों का कहना था कि दोनों युवक कासामारी के पास आरक्षित चरागाह से गाय चोरी करके ले जा रहे थे.

कार्टूनः गाय की पेंशन और कतार की टेंशन

कार्टून: गाय के लिए वृद्धावस्था पेंशन योजना

नगांव के पुलिस अधीक्षक देबराज उपाध्याय ने बताया कि जब पुलिस मौके पर पहुंची तो भीड़ दोनों युवकों को लाठी से पीट रही थी.

उन्होंने बताया, "पुलिस उन्हें इलाज के लिए फौरन अस्पताल ले गई लेकिन गंभीर रूप से घायल दोनों युवकों ने दम तोड़ दिया."

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि भीड़ ने उन्हें डेढ़ किलोमीटर तक अर्थात नगांव थाना क्षेत्र के कासीमारी से लेकर जाजोरी पुलिस थाना क्षेत्र तक भगाया और पीछा किया.

क्या है गाय पर अजमेर दरगाह के विवाद की जड़?

'तो अंतरिक्ष मिशन पर भागवत गाय ही भेजेंगे'

मरने वाले युवकों की शिनाख्त अबू हनीफा और रियाजुद्दीन अली के तौर पर की गई हैं. दोनों की उम्र 20 से 22 साल के आसपास बताई जा रही हैं.

असम में इस तरह की यह पहली घटना बताई जा रही है जिसमें गाय चोरी के आरोप में किसी भीड़ ने युवकों को पीट-पीटकर मार डाला.

मरने वाले युवकों के परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया हैं. हालांकि मामले में अभी तक किसी की गिरफ्तारी की कोई सूचना नहीं है.

इमेज कॉपीरइट Dilip Kumar Sharma
Image caption बीएसएफ ने हाल ही में तस्करी कर बांग्लादेश भेजी जा रही कई गायों को ज़ब्त किया था.

पुलिस अधीक्षक ने मामले में निष्पक्ष जांच का आश्वासन दिया है.

पुलिस के अनुसार इस घटना में अबतक गौरक्षक संगठनों से जुड़े किसी भी व्यक्ति का नाम सामने नहीं आया हैं.

पुलिस का कहना है कि पिछले कुछ दिनों में नगांव थाने में गाय चोरी की कई शिकायतें दर्ज की गई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे