इस भारतीय सज्जन के लिए नवाज़ शरीफ़ ने तोड़ा क़ानून..

इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारतीय कारोबारी सज्जन जिंदल की पाकिस्तान यात्रा को लेकर पाकिस्तान में ख़ासा विवाद देखने को मिल रहा है.

26 अप्रैल को हुई इस मुलाकात के बारे में कहा गया कि वे भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संदेश लेकर नवाज़ शरीफ़ से मिले.

सज्जन ज़िंदल के पास लाहौर और इस्लामाबाद जाने का ही वीज़ा था, लेकिन वे पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ के निजी निवास मरी में जाकर मिले. भारत और पाकिस्तान में एक दूसरे के नागरिकों को शहर के हिसाब से ही वीज़ दिया जाता है.

मीडिया में ये भी कयास लगाए जा रहे हैं कि भारत-पाकिस्तान के तनाव भरे रिश्ते और कुलभूषण जाधव को मौत की सजा सुनाए जाने के बाद ये शायद ट्रैक-2 पॉलिसी हो सकती है.

सज्जन जिंदल, भारत में स्टील के सबसे बड़े कारोबारी घराने जिंदल समूह के वारिस हैं और कांग्रेसी सांसद रहे नवीन जिंदल के बड़े भाई हैं.

जिंदल की शरीफ़ से मुलाक़ात पर पाक में चर्चा गर्म

अकबर के ज़माने में प्राइवेट टीवी चैनल होते तो

सज्जन के पिता ओम प्रकाश जिंदल हरियाणा कांग्रेस के बड़े नेता रहे और उन्होंने ही जिंदल स्टील की स्थापना की. ओम प्रकाश के निधन के बाद सज्जन की मां सावित्री जिंदल भी हरियाणा सरकार में मंत्री रही हैं.

सज्जन का जन्म 5 दिसंबर, 1959 को कोलकाता में हुआ था, उन्होंने बैंगलोर यूनिवर्सिटी से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में बैचलर की डिग्री हासिल की और उसके बाद 1983 से जिंदल स्टील के कारोबार को संभालने में लग गए.

सुर्खियों से दूर

इमेज कॉपीरइट Getty Images

नवीन जिंदल के मुक़ाबले भले सज्जन जिंदल की चर्चा कम होती रही है तो इसकी एक बड़ी वजह उनका दक्षिण भारतीय राज्य कर्नाटक और महाराष्ट में रहना भी रहा है.

अब वे मुंबई के सबसे महंगे इलाकों में शामिल पेडर रोड पर जिंदल मैनशन से कारोबार संभालते हैं.

नवाज़ शरीफ़ का परिवार पाकिस्तान के सबसे बड़े स्टील कारोबारियों में शामिल है.

कुछ साल पहले उन्होंने मुंबई के समुद्री तट पर एक बंगला खरीदा था, तब सुर्खियों में ज़रूर आए थे. जुलाई, 2011 में नेपियन सी रोड पर तीन मंजिला घर लिया था जिसकी कीमत 400 करोड़ रुपये बताई गई थी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

नवाज़ शरीफ़ से ताज़ा मुलाकात को लेकर पाकिस्तान में ख़ूब आशंकाएं ज़ाहिर की गईं हैं. इन आशंकाओं के चलते ही नवाज़ शरीफ़ की बेटी ने ट्वीट करके कहा कि ये कोई गुप्त मुलाकात नहीं थी, बल्कि सज्जन जिंदल परिवार के पुराने दोस्त हैं.

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ केवल वीकएंड में मरी जाते हैं, लेकिन पाकिस्तानी मीडिया की ख़बरों के मुताबिक शरीफ़-सज्जन की मुलाकात वर्किंग डे के दौरान हुई थी.

पाकिस्तानी समाचार पत्र डॉन के मुताबिक, "जिंदल और उनके प्रतिनिधियों का बेनज़ीर भुट्टो इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर बुधवार को स्वागत किया गया, जहां नवाज़ के बेटे हुसेन नवाज़ और मरियम नवाज़ के दामाद मौजूद थे."

इमेज कॉपीरइट Twitter

इस मुलाकात पर पाकिस्तानी पीपल्स पार्टी के नेता शैरी रहमान ने पाक मीडिया से कहा, "विदेश विभाग की जानकारी के बिना एक और मुलाकात. पाकिस्तान के लोगों को ऐसी बैठकों की बातचीत के बारे में जानने का समय आ गया है."

पाकिस्तान में विपक्ष नवाज़ शरीफ़ के ख़िलाफ़ इस मुद्दे पर सीनेट में स्थगन प्रस्ताव ला चुका है.

मोदी-नवाज़ के करीबी ?

इमेज कॉपीरइट Twitter

डॉन अख़बार के मुताबिक सज्जन उस दिन भी लाहौर में मौजूद थे, जब भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिसंबर, 2015 में नवाज़ शरीफ़ से मिलने लाहौर में उतर गए थे. अख़बार के मुताबिक सज्जन नवाज़ की पोती की शादी में भी मेहमान थे.

इतना ही नहीं, पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ जब अगस्त, 2014 में भारत आए थे उनके दल के लिए लंच का आयोजन भी सज्जन जिंदल की ओर से किया गया था.

भारत की दूसरी सबसे बड़ी स्टील उत्पादन करने वाली कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर सज्जन की पत्नी संगीता एक गैर सरकारी संगठन चलाती हैं और उनकी दो बेटियां और एक बेटा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे