धोनी की तरह धुनाई करना चाहती है कश्मीरी लड़की

  • 2 मई 2017
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
मिलिए कश्मीर की महिला क्रिकेटर रूबिया से

वो महेंद्र सिंह धोनी की फ़ैन हैं और उन्हीं की तरह छक्के लगाना चाहती हैं.

धोनी का चिर-परिचित हेलिकॉप्टर शॉट उनका पसंदीदा शॉट है. मिलिए 21 साल की रूबिया सईद से जो भारत-प्रशासित कश्मीर के ज़िला अनंतनाग के बदसगाम गांव की रहने वाली हैं.

हाल ही में उन्होंने बीसीसीआई की ओर से आयोजित राष्ट्रीय ज़ोन टूर्नामेंट में हिस्सा भी लिया था.

मुंबई में खेले गए इस टूर्नामेंट में उत्तर भारत से रूबिया सईद को खेलने के लिए चुना गया था.

रूबिया कश्मीर की महिला अंडर -23 टीम की कप्तान भी हैं.

वह भारत की क्रिकेट टीम में शामिल होना चाहती हैं और कुछ बेहतरीन करना चाहती हैं.

इमेज कॉपीरइट Majid Jahangir

रूबिया कई टूर्नामेंट्स में हिस्सा ले चुकी हैं जैसे अमृतसर में वीमेन अंडर-23, 2016 में ही टी-20 सीनियर वीमेन टूर्नामेंट और 2015 में ही रांची में टी-20 टूर्नामेंट.

रूबिया ने क्रिकेट खेलने की शुरुआत अपने गांव के लड़कों के साथ की थी.

उन्होंने कहा, "मैं तब बहुत छोटी थी आठ या नौ साल की. मैं हर समय क्रिकेट खेलने के जुनून में रहती थी. हमारे गांव में लड़के खेलते थे तो मैं भी उनके साथ जाती और खेलती थी. लड़कों की टीम जब एक गांव से दूसरे गांव में खेलने जाती तो मुझे भी साथ ले जाती थी. मैं हर मैच में अच्छा प्रदर्शन करती. इस वजह से भी मुझ में एक भरोसा पैदा हुआ कि मैं कुछ बेहतर कर सकती हूँ. फिर आहिस्ता-आहिस्ता मैंने स्कूल स्तर पर खेलना शुरू किया. 2011 में मुझे पहली बार रांची में खेलने का मौका मिला."

इमेज कॉपीरइट Majid jahangir

लड़कों के साथ क्रिकेट खेलने पर रूबिया ने कहा, "मुझे कभी इस बात का अहसास नहीं होता है कि मैं लड़कों के साथ खेलती हूँ."

वह बताती हैं, "हर जगह दो किस्म के लोग होते हैं. कोई आपका हौसला बढ़ाता है तो कोई तोड़ता है. लेकिन मेरे गांव में मुझे हमेशा प्यार मिला. कभी मैंने ये नहीं सोचा कि कौन क्या कह रहा है."

यहाँ तक आने का रास्ता रूबिया के लिए इतना आसान भी नहीं रहा है.

इमेज कॉपीरइट Majid jahangir

उनके पिता एक दर्ज़ी हैं. उन्हें हर समय पैसों की मुश्किल का सामना करना पड़ा.

रूबिया कहती हैं, "एक बार हमारे सर ने हमें फ़ोन करके श्रीनगर बुलाया. वहां रांची में होने वाले एक टूर्नामेंट के लिए सेलेक्शन होना था. हम तीन चार दोस्त थे और हमारे पास कुल 30 रुपए थे. गाड़ी का किराया 40 रुपए था. हम फिर रेल में गए. मुझे अभी भी याद है कि हम ने कई जगहों पर टिकट भी नहीं लिया."

रूबिया ने बल्लेबाज़ी और गेंदबाज़ी दोनों में ही बेहतरीन प्रदर्शन किया है.

इस समय रूबिया 12वीं की पढ़ाई कर रही हैं.

रूबिया के साथ खेलने वाले उनके गांव के लड़के इस बात पर गर्व महसूस कर रहे हैं कि उनके गांव की लड़की राष्ट्रीय स्तर पर खेल रही है जो कभी उनके साथ टूटी-फूटी लकड़ी के बल्ले बनाकर खेलती थी.

इमेज कॉपीरइट Majid jahangir
Image caption आरिफ शेख

गांव के रहने वाले आरिफ शेख़ कहते हैं, "हम बहुत छोटे थे तब स्कूल से आते ही रूबिया लड़कों के साथ क्रिकेट खेलने लगती थी. कभी ऐसा नहीं लगा कि लड़की हमारे साथ खेल रही है. हमें बहुत अच्छा लगता था. आज जब वह आगे बढ़ गई है तो और भी खुशी होती हैं. जब भी रूबिया कहती थी कि हम क्रिकेट खेलेंगे तो हम कभी इनकार नहीं करते थे."

रूबिया के पिता 58 साल के गुलाम क़ादिर शेख़ बेटी के बचपन को याद करते हुए कहते हैं, " रूबिया घर पर बहुत ही कम बैठती थी. जब देखो वह लकड़ी तोड़ती और उस का बल्ला बनाती. हम कभी-कभी ये समझाने की कोशिश करते थे कि ज्यादा घर से बाहर मत रहा करो, लेकिन वह अपनी दुनिया में गुम रहती थी. खेत पर काम करने ले जाते थे तो वह काम छोड़कर श्रीनगर क्रिकेट खेलने पहुंच जाती थी."

इमेज कॉपीरइट Majid jahangir
Image caption रूबिया सईद अपने पिता और बहन के साथ

गुलाम क़ादिर बताते हैं कि उनके पास इतना पैसा नहीं होता था कि वो अपनी बेटी की जरूरतों को पूरा कर सके.

रूबिया के गांव में आज भी क्रिकेट खेलने के लिए कोई ग्राउंड नहीं है.

रूबिया की माँ हाजरा बेगम अपनी बेटी को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलते हुए देखना चाहती हैं.

रूबिया के कोच एजाज़ अहमद का कहना है कि रूबिया तमाम मुश्किलों का सामना करते हुए क्रिकेट खेलने श्रीनगर आती थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे