राजकुमार राव के नए लुक के पीछे की कहानी

  • 5 मई 2017
फ़िल्म 'राब्ता' इमेज कॉपीरइट dirty hands studio
Image caption फ़िल्म 'राब्ता' में राजकुमार राव का लुक

फ़िल्म 'अलीगढ़' से अपने अभिनय का लोहा मनवा चुके अभिनेता राजकुमार राव एक बार फिर चर्चा में हैं.

इस बार वो फ़िल्म 'राब्ता' में 324 साल के एक शख़्स का क़िरदार निभा रहे हैं और उन्होंने सोशल मीडिया पर इस क़िरदार की एक तस्वीर पोस्ट की है उसे देखकर लोग हैरान हैं.

अगर पता न हो तो इसे देखकर कोई ये नहीं कह सकता कि ये राजकुमार राव ही हैं.

असल में फ़िल्मों में इस तरह के मेकअप को प्रोस्थेटिक्स कहा जाता है, जिसे चेहरे पर एक प्रकार के गोंद का इस्तेमाल करते हुए लगाया जाता है.

ऐसा इसलिए किया जाता है कि क़िरदार रियलिस्टिक यानी हक़ीकत में लगे.

इमेज कॉपीरइट dirty hands studio

लेकिन प्रोस्थेटिक्स का इस्तेमाल इतना आसान भी नहीं है. इसके लिए अभिनेताओं को घंटों बिना हिले-डुले बैठे रहना पड़ता है.

अपने से दस गुना उम्र के क़िरदार में आने के लिए 33 साल के राजकुमार बताते हैं, "मुझे 5 से 6 घंटे लगते थे प्रोस्थेटिक्स लगाने में. उसके बाद जब मैं शूटिंग शुरू करता था तो प्रोस्थेटिक्स के अंदर पसीने से लथपथ हो जाता था."

वो कहते हैं, "इसके लिए आपमें बहुत सहन शक्ति होनी चाहिए. हालांकि मुझे ये करने मे बहुत मज़ा आया."

प्रोस्थेटिक्स के सहारे किसी को उम्र को छोटा या बड़ा, हमशक्ल या फिर प्रेगनेंट दिखाना काफी आसान हो गया है.

ये मेकअप से काफी अलग है. मेकअप लुक्स को निखारता है, वहीं प्रोस्थेटिक्स सितारों को क़िरदार में ढालने में मदद करता है.

इमेज कॉपीरइट dirty hands studio
Image caption फ़िल्म 'कट्टी बट्टी' में कंगना रानौत का लुक

जहाँ पहले इक्का-दुक्का फ़िल्मों में ही इसका उपयोग होता था, वहीं अब इसका चलन बहुत बढ़ गया है.

बिग बी ने 68 साल की उम्र में फ़िल्म 'पा' में प्रोजेरिया बीमारी के शिकार 12 साल के बच्चे का क़िरदार निभाया.

ये प्रोस्थटिक्स के इस्तेमाल से ही संभव हो पाया था.

ओरो के लुक के लिए विदेश से मशहूर प्रोस्थटिक्स मैन स्टीफ़न डूपवी को भारत बुलाया गया था.

साल 2016 मे शाहरुख ख़ान की फ़िल्म 'फ़ैन' में आर्यन खन्ना के फ़ैन के क़िरदार गौरव के लिये प्रोस्थेटिक्स का इस्तेमाल किया गया.

विदेश से आई ग्रेग कोनम और उनकी टीम ने शाहरुख के आइकनिक 'डिम्पल' के साथ छेड़छाड़ न करते हुए भरा चेहरा दिखाने के लिए प्रोस्थेटिक्स का इस्तेमाल किया.

प्रोस्थेटिक्स और वीएफ़एक्स की सहायता से तैयार हुआ 'फ़ैन' फ़िल्म के 'आर्यन खन्ना' का फ़ैन 'गौरव'.

इस लुक मे लिए शाहरुख ख़ान को 4 से 5 घंटा तैयार होने में जाता था.

इस लुक के साथ उन्हें 8 से 10 घंटा शूट भी करना होता था.

इमेज कॉपीरइट dirty hands studio

'राब्ता' में राजकुमार राव हों, फ़िल्म 'कट्टी बट्टी' में कंगना का बोल्ड लुक या फिर 'गैंग ऑफ़ वासेपुर' में रिचा चड्ढ़ा का प्रेगनेंट दिखने वाला फ़िगर, कई तरह के प्रोस्थेटिक्स तैयार करने वाली कंपनी 'द डर्टी हैण्ड' स्टूडियो से जुड़ी झुबी ज़ोहेल कहती हैं, "ये कलाकार के लिए बहुत थका देने वाला होता है."

वो कहती हैं, "कलाकार को इस दौरान बिल्कुल हिलना-डुलना नहीं होता. ये प्रोस्थेटिक एक खास किस्म के गोंद के सहारे चेहरे पर चिपका होता है, इसलिए इसके लगने के बाद अधिकतर लिक्विड डाइट या खाने के छोटे-छोटे टुकड़े ही खाए जा सकते हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे