कपिल मिश्रा 'खोलेंगे राज़', कुमार विश्वास बोले 'डरा' नहीं हूं

कपिल मिश्रा इमेज कॉपीरइट Getty Images

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपने मंत्रिमंडल से जल एवं पर्यटन मंत्री कपिल मिश्रा को हटा दिया है.

शनिवार को बीबीसी हिंदी से बातचीत करते हुए कपिल मिश्रा ने बताया, "मुझे ये जानकारी मीडिया से मिल रही है. अब तक मुझे कुछ कहा नहीं गया है."

वहीं दूसरी ओर दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने मीडिया के सामने आकर कहा, "जल प्रबंधन का काम बढ़िया नहीं है. कपिल मिश्रा ने काफ़ी कोशिश की है. केजरीवाल ने कपिल मिश्रा की जगह कैलाश गहलोत को मंत्री बनाया है."

कपिल मिश्रा को कुमार विश्वास का करीबी माना जाता है. कुमार विश्वास भी पार्टी नेतृत्व से नाराज़ चल रहे हैं.

कुमार विश्वास मेरा छोटा भाई है: अरविंद केजरीवाल

अमानतुल्लाह निलंबित, कुमार विश्वास राजस्थान के प्रभारी

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कपिल मिश्रा को मंत्री पद से हटाने के बाद कुमार विश्वास ने भी अप्रत्यक्ष रूप से आप नेतृत्व पर निशाना साधा है. उन्होंने ट्वीट कर कहा, ''एक आंदोलन और सही. न थके हैं, न डरे हैं. सत्ता के किसी घड़े का बूँद भर जल भी नहीं चखा, इसलिए अभी तक जंतर-मंतर की आग बाक़ी है. साथियो आश्वस्त रहो.''

उन्होंने अगला ट्वीट किया, ''देश और कार्यकर्ताओं को भरोसा दिलाता हूँ कि हम भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ अंदर और बाहर आवाज़ उठाना जारी रखेंगे, परिणाम चाहे कुछ भी हो! भारतमाता की जय.''

कुमार विश्वास के इस ट्वीट को कपिल मिश्रा ने रिट्वीट किया किया है. रविवार को पूरे विवाद को लेकर कपिल मिश्रा राजघाट पर प्रेस कॉन्फ्रेंस करने वाले हैं.

इमेज कॉपीरइट Twitter

मनीष सिसोदिया की घोषणा पर कपिल मिश्रा ने कहा, "अगर काम की बात है तो पिछले एक महीने के केजरीवाल जी और सिसोदिया जी के इंटरव्यू देख लें या फिर बीते दो साल के बयान को देख लें. या तो वो तब झूठ बोल रहे थे या फिर अब किसी चीज़ को पर्दे में रखने की कोशिश हो रही है."

इमेज कॉपीरइट Twitter

ऐसे में कपिल मिश्रा को पद से हटाने की क्या वजह हो सकती है, इस सवाल के जवाब में कपिल मिश्रा कहते हैं, "शनिवार को अरविंद केजरीवाल जी के घर पर मुलाकात की थी. मैंने उनसे कहा था कि एक साल पहले मैंने जल बोर्ड की रिपोर्ट बनाकर दी थी और इतना टाइम हो गया है. डिले हो गया. इसके अलावा भ्रष्टाचार के कुछ मामलों की चर्चा की थी. मैंने उन्हें बताया कि टैंकर घोटाले की जांच में देरी किन-किन लोगों की वजह से हुई है."

पार्टी के भीतर लड़ूंगा

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कपिल मिश्रा ये भी दावा करते हैं इन नामों को सामने लाने की वजह से ही उन्हें पद से हटाया गया है. यही वजह है कि रविवार को टैंकर घोटाले की जांच को प्रभावित करने वाले लोगों के नाम मीडिया के सामने रखेंगे.

उनके दावे के मुताबिक इन नामों के सामने आने के बाद ये अपने आप साबित हो जाएगा कि उन्हें मंत्री पद से क्यों हटाया गया. कपिल मिश्रा ये भी बताते हैं कि वह आम आदमी पार्टी को छोड़कर कहीं नहीं जा रहे हैं, क्योंकि वे पार्टी के संस्थापक सदस्यों में रहे हैं और वे अपनी लड़ाई पार्टी के भीतर ज़ोरदार तरीके से लड़ेंगे.

उन्होंने बताया, "मैं 2004 से आंदोलनों से जुड़ा रहा हूं. लाठी डंडे सब खाए हैं. इंडिया अगेंस्ट करप्शन के समय से पार्टी का काम कर रहा हूं. पार्टी का कार्यकर्ता हूं. ये लड़ाई लड़नी है. पार्टी के अंदर उपयुक्त फोरम पर अपनी बात रखूंगा. कूड़ा हटाना ही हटाना है. झाड़ू चलानी ही चलानी है."

विनाश काले विपरीत बुद्धि

इमेज कॉपीरइट Getty Images

आम आदमी पार्टी को हाल ही में कुमार विश्वास की नाराज़गी झेलनी पड़ी है. अरविंद केजरीवाल और मनीष सिसोदिया को उन्हें मनाने में काफ़ी मशक्कत करनी पड़ी. कपिल मिश्रा को भी कुमार विश्वास का क़रीबी माना जाता रहा है.

ऐसे में क्या पार्टी एक मुश्किल से दूसरी मुश्किल में फंसती दिख रही है, इस सवाल के जवाब में कपिल कहते हैं, विनाश काले विपरीत बुद्धि.

उधर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने नजफ़गढ़ के विधायक कैलाश गहलोत को जल मंत्री बनाया है, उनके अलावा राजेंद्र पाल गौतम को भी मंत्रिमंडल में शामिल किया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे