झारखंड: दाल में काला है, कौन सा नमक डाला है

  • 8 मई 2017
इमेज कॉपीरइट Ravi Prakash

झारखंड सरकार इन दिनों नमक को लेकर परेशान है. इस 'झारखंड नमक' के कारण लोगों की दाल काली हो जा रही है.

शिकायतों से तंग आकर सरकार ने इसकी जांच के आदेश दिए हैं. अफसर अब यह जांचने में लगे हैं कि इसके डालते ही दाल और सब्जियां काली क्यों हो जा रही है. कहीं इस नमक में कोई गड़बड़ी तो नहीं.

बूचड़खाने बंद, आदिवासियों को खाने के लाले

क्या कभी झारखंड में भी थे डायनासोर?

झारखंड के खाद्य व आपूर्ति मंत्री सरयू राय ने बीबीसी से बातचीत में स्वीकार किया कि इस नमक के कारण लोगों की दाल काली हो जा रही है.

उन्होंने बताया कि शिकायतों के बाद इसकी आपूर्ति पर रोक लगा दी गयी है. अब हम पुराना नमक ही भेज रहे हैं, जिसमें सिर्फ़ आयोडिन है.

मंत्री सरयू राय ने कहा, "मैंने विभागीय सचिव को कहा है कि वे नए सिरे से टेंडर निकालें. यह देखा जाए कि नमक के फोर्टिफिकेशन में तय मानदंडों का पालन किया गया है या नहीं. इस नमक में आयरन भी मिलाया गया है. ताकि बीपीएल परिवार की गर्भवती महिलाओं व बच्चों में आयरन की कमी दूर की जा सके. अंत्योदय कार्डधारी परिवारों को यह नमक सिर्फ़ एक रुपये प्रति किलो की दर से दिया जाता है."

नमक का गुजरात कनेक्शन

जब मैंने उनसे पूछा कि इसकी आपूर्ति किन कंपनियो ने की थी. सरयू राय ने कहा- "पांचों प्रमंडलों के लिए अलग-अलग कंपनियों से नमक की खऱीदारी की गई. यह विभागीय अफसरों के जिम्मे है कि वे कंपनी का चयन कर उससे खरीदारी करें."

इमेज कॉपीरइट Ravi Prakash

हालांकि, झारखंड नमक के पैकेट पर जिस कंपनी का नाम अंकित है, वह गुजरात की है.

सरकारी स्तर पर रोक के बावजूद राशन दुकानदारों के पास बड़ी मात्रा में पुराना स्टॉक पड़ा है. टांगर (चान्हो) के सरकारी राशन डीलर नीतेश कुमार भी इनमें शामिल हैं.

इमली, महुआ पर टिकी जिंदगी में अब रेशमी बहारें

एक नई जंग लड़ रही हैं ये आदिवासी लड़कियां

उन्होंने बताया कि नए नमक की आपूर्ति नहीं होने के कारण वे लोगों को पुराना वाला पैकेट ही दे रहे हैं. बकौल नीतेश, उन्हें लोगों ने बताया है कि वे इस नमक का उपयोग पालतू पशुओं के खाने में कर रहे हैं.

जुबां पर नहीं लागा...

इमेज कॉपीरइट Ravi Prakash

टांगर की बल्की उराइन ने बताया कि उन्होंने इस नमक का उपयोग करना छोड़ दिया है. उन्होंने बीबीसी से कहा, "डर लगता है कि इससे कही तबीयत न ख़राब हो जाए. जब पहले इससे खाना बनाए तो दाल और सब्जी सब काली हो गई."

इसी गांव की गंगी देवी ने बताया कि नमक को पानी में डालने से शीशे के महीन टुकड़े भी निकलते हैं. अब वे बाजार से 10 रुपये प्रति किलो वाला नमक ख़रीद रही हैं.

35 लाख बीपीएल परिवार

2012-13 में तत्कालीन योजना आयोग की रिपोर्ट के मुताबिक़ झारखंड में 35 लाख परिवार गरीबी रेखा से नीचे जीवन बसर करते हैं. यह संख्या राज्य के कुल 69 लाख परिवारों की आधी से थोड़ी अधिक है.

इमेज कॉपीरइट Ravi Prakash

इन्हीं 35 लाख बीपीएल परिवारों के लिए सरकार 'झारखंड नमक' बनवा रही है. इसके डबल फोर्टिफिकेशन के बाद इसमें आयरन की मात्रा 850 पीपीएम से अधिक है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे