मिलिए इस यूट्यूब परिवार से

इमेज कॉपीरइट Narendra Kaushik

श्रुति अर्जुन आनंद के परिवार को यूट्यूब परिवार कहना ग़लत ना होगा. ये परिवार आधा दर्जन यूट्यूब चैनल चलाता है. जिनमें औरतों को सजने संवरने से लेकर नए-नए पकवान बनाने तक की विधि सिखाई जाती है.

31 साल की श्रुति के अलावा उनके पति अर्जुन साहू, भाभी निशा तोपवाल, निशा की बेटी अनत्या आनंद, निशा की चचेरी बहिन प्रिया माल, उनका चचेरा भाई पंकज तोपवाल, अर्जुन के चचेरे भाई विक्रम सिंह और विशाल वैश हैं. इस परिवार में औरतें कैमरे के आगे हैं तो मर्द कैमरे के पीछे.

आपकी भाषा में बोलेगा यूट्यूब

श्रुति, निशा (34 साल), प्रिया (23 साल) अनत्या (सात साल) चैनलों के चेहरे और आवाज़ हैं जबकि अर्जुन (35 साल), पंकज (25 साल), विक्रम और विशाल (दोनों 27) कैमरे के पीछे रहकर काम करते हैं और पोस्ट प्रोडक्शन का काम संभालते हैं. इन छह चैनलों के कुल मिलाकर 15 लाख के करीब सब्सक्राइबर्स हैं.

इमेज कॉपीरइट Narendra Kaushik
Image caption बाएँ से पंकज, प्रिया, श्रुति, निशा, अनंत्या और अर्जुन

इनमें श्रुति अर्जुन आनंद का उनके नाम का चैनल सबसे पुराना और मशहूर चैनल है. यह चैनल वैसे तो बाल संवारने, मेक अप करने और त्वचा की देखभाल करने के नुस्खे बयां करता है लेकिन कभी-कभी श्रुति इसमें अपने परिवार की शादियों, अपनी खरीदारी और ट्रेन यात्राओं के ब्लॉग पोस्ट करना भी नहीं भूलती.

यूट्यूब के वीडियो कैसे डाउनलोड करें

श्रुति के चैनल की शुरुआत वाशिंगटन से मार्च 2011 में हुई. उस समय उनके पति अर्जुन जो आईआईटी दिल्ली से पढ़े हुए केमिकल इंजीनियर हैं, वहां कार्यरत थे. तब उनकी शादी को दो साल भी नहीं हुआ था. वो कहती हैं, "तब मेरा यूट्यूब चैनल शुरू करने का मक़सद महज़ कुछ दोस्त बनाना था."

श्रुति भी कंप्यूटर इंजीनियर हैं. शुरुआत में उनके वीडियोज़ को अच्छी प्रतिक्रियाएं नहीं मिलीं. उनके वीडियोज़ को गैर पेशेवर कह कर आलोचना की गई. लेकिन धीरे-धीरे लोग उनके चैनल को देखने लग पड़े.

जब अप्रैल 2013 में अर्जुन और श्रुति भारत लौटे तो श्रुति के चैनल के के करीब 50 हज़ार सब्सक्राइबर्स हो चुके थे और यूट्यूब ने उनसे अपनी कमाई शेयर करनी भी शुरू कर दी थी.

इमेज कॉपीरइट Narendra Kaushik
Image caption निशा अपनी बेटी अनंत्या आनंद के साथ.

देश लौटने के बाद इस दम्पति ने MyMissAnand के नाम से दूसरा चैनल शुरू किया. इस पर वो अनंत्या आनंद के माध्यम से अलग-अलग हेयरस्टाइल, फैशन और फन वीडियो शेयर करते हैं. अक्टूबर 2015 में अर्जुन ने 'श्रुति मेक अप और ब्यूटी प्राइवेट लिमिटेड' के नाम से अपनी कंपनी का रजिस्ट्रेशन भी कराया.

यूट्यूब की एक प्रवक्ता इस कंपनी को भारत में अपनी तरह की एक अदिव्तीय घटना बताती हैं.

वो कहती हैं, "भारत के सभी हिस्सों से कंटेंट बनाने वाले लोग अपने जुनून को पाने के लिए यूट्यूब को अपना रहे हैं, और यह परिवार एक उदहारण है इस बात का कि किस तरह भारत में चीज़ें बदल रही हैं."

इमेज कॉपीरइट Narendra Kaushik
Image caption प्रिया, श्रुति, निशा और अनंत्या

पिछले साल मार्च में अर्जुन ने NIIT में अपनी नौकरी छोड़ दी जिससे वो सालाना 30 लाख रूपए कमा रहे थे.

नवंबर में कंपनी ने PrettyPriyaTV के नाम से नया चैनल लांच किया. आज इस चैनल के 6,86,518 सब्सक्राइबर्स हैं.

इस पर निशा की चचेरी बहन प्रिया सुन्दरता के लिए घरेलू नुस्खे बताती हैं.

एक महीने बाद CookWithNisha शुरू किया गया. निशा अपने चैनल पर बुन्देलखंडी (उनकी ससुराल) और गढ़वाली (उनका मायका) व्यंजन बनाने की विधि के बारे में बताती हैं.

तीन महीने पहले कंपनी ने ViralHairstyle और ViralMehndi नाम से दो और चैनल शुरू किये हैं.

इमेज कॉपीरइट Narendra Kaushik
Image caption श्रुति आनंद और अनंत्या आनंद

अर्जुन और श्रुति कंपनी में डायरेक्टर्स हैं और बाकी सभी कर्मचारी. यूट्यूब की पेमेंट के अलावा कंपनी ब्रांड इंगेजमेंट से भी पैसा कमाती हैं. दूसरे शब्दों में कंपनी ब्यूटी ब्रांड्स का प्रयोग करने के एवज़ में भी मोटी फीस वसूल करती है.

अर्जुन कंपनी की आय का खुलासा करने से कतराते हैं लेकिन वो और उनके कर्मचारी जिनमें से अधिकतर ने यूट्यूबर परिवार का हिस्सा बनने से पहले दूसरी नौकरियां छोड़ी, उनको कोई पछतावा नहीं है.

विशाल उर्फ़ विक्की जो इंदौर में मेडिकल प्रतिनिधि थे कहते हैं, "अभी पहले से अच्छा है."

इमेज कॉपीरइट Narendra Kaushik

प्रिया पहले लैब तकनीशियन की नौकरी करती थीं. वो कहती हैं, "लैब तकनीशियन होने के नाते मुझे ह्यूमन एनाटोमी के बारे में पता है इससे सुन्दरता के लिए घरेलू नुस्खे बनाने में सहायता हो जाती है."

एक किराए के घर में वीडियो फिल्माने से लेकर एडिटिंग और प्लानिंग का काम होता है. कंपनी एक सप्ताह में 18 वीडियो अपलोड करती है जो अत्याधुनिक कैमकोर्डर पर फिल्माए जाते हैं.

अपने प्रचार के लिए यह फेसबुक, Instagram और WhatsApp का भी प्रयोग करती हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे