प्रेस रिव्यू: 'जिहाद के नाम पर आतंकवाद फैला रहे हाफ़िज़ सईद'

हाफ़िज़ सईद इमेज कॉपीरइट Getty Images

टाइम्स ऑफ़ इंडिया के मुताबिक पाकिस्तान सरकार ने माना है कि 'लश्कर ए तैयबा' के प्रमुख हाफ़िज़ सईद जिहाद के नाम पर आतंकवाद फैला रहे हैं.

अख़बार के मुताबिक़ हाफ़िज़ सईद और उसके चार साथियों को नज़रबंद करने को लेकर हुई सुनवाई में पाकिस्तान के गृह मंत्रालय ने न्यायिक समीक्षा बोर्ड से ये बातें कहीं.

हाफ़िज सईद शनिवार को बोर्ड के समक्ष पेश हुए थे.

उनकी दलील थी कि कश्मीर मुद्दे पर आवाज़ उठाने के लिए उन्हें हिरासत में लिया गया है, लेकिन अख़बार के मुताबिक पाकिस्तानी गृह मंत्रालय ने उसकी दलीलों को ख़ारिज करते हुए तीन सदस्यीय बोर्ड से कहा कि सईद और उसके चार साथियों को जिहाद के नाम पर आतंकवाद फैलाने के लिए हिरासत में लिया गया है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक पश्चिम बंगाल में सात नगर निकायों के चुनाव में रविवार को कुछ जगहों पर हिंसा हुई और मतदान केंद्रों पर कब्जा किए जाने की घटनाएं हुईं.

राज्य में विपक्षी दलों ने चुनाव रद्द करने की मांग की है.

पुलिस और ज़िला प्रशासन सूत्रों ने बताया कि दार्जीलिंग पहाड़ी क्षेत्र में चार निकायों का चुनाव शांतिपूर्ण रहा, वहीं दक्षिण 24 परगना जिले में पुजाली सहित तीन शहरों में हिंसा हुई.

विपक्षी दलों ने आरोप लगाया कि तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ता हिंसा और मतदान केंद्र पर कब्जा करने की घटनाओं में शामिल थे.

तृणमूल कांग्रेस ने आरोपों से इंकार किया और हिंसा के लिए भाजपा को दोषी ठहराया.

इमेज कॉपीरइट Reuters

द हिंदू के मुताबिक पाकिस्तानी सैनिकों ने रविवार को लगातार दूसरे दिन जम्मू और कश्मीर के राजौरी ज़िले में नियंत्रण रेखा के पास के इलाकों में भारी गोलाबारी की.

इस गोलीबारी से इमारतों को भारी नुकसान पहुंचा और सीमावर्ती इलाकों में रहने वाले 1000 लोगों को वहां से जबरन निकाला गया.

द हिंदू के मुताबिक़ मौसम विभाग ने रविवार को जानकारी दी है कि दक्षिण-पश्चिम मॉनसून अपने आगमन के तय कार्यक्रम से तीन दिन पहले ही निकोबार द्वीप समूह और समूचे दक्षिण अंडमान सागर तक पहुंच चुका है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के अंडमान निकोबार द्वीप समूह पहुंचने की सामान्य तारीख़ 17 मई है.

मौसम विभाग के महानिदेशक केजी रमेश ने कहा कि यह अनुमान लगाना बहुत जल्दबाज़ी होगी कि मॉनसून केरल तट पर तय कार्यक्रम से पहले दस्तक देगा या नहीं.

केरल में मॉनसून के दस्तक देने की सामान्य तारीख़ एक जून है, जिसे भारत में मॉनसून के आधिकारिक रूप से आगमन की तारीख़ माना जाता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे