'...तो देशभर में करोड़ों लालू खड़े हो जाएंगे, भाजपा में हिम्मत नहीं कि आवाज़ दबा सके'

  • 16 मई 2017
लालू यादव इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

आयकर विभाग की छापेमापी के बाद राजद मुखिया लालू प्रसाद ने कहा है कि 'बीजेपी में हिम्मत नहीं कि लालू की आवाज़ को दबा सके.'

उन्होंने ट्वीट कर कहा है, "बीजेपी को नया गठबंधन पार्टनर मुबारक हो. लालू प्रसाद झुकने और डरने वाला नहीं है. जब तक आख़िरी साँस है फासीवादी ताक़तों के ख़िलाफ़ लड़ता रहूँगा."

हालांकि इसके तुरंत बाद उन्होंने रीट्वीट किया, "ज़्यादा लार मत टपकाओ. गठबंधन अटूट है. अभी तो समान विचारधारा के और दलों को साथ जोड़ना है. मैं बीजेपी के सरकारी तंत्र और सरकारी सहयोगियों से नहीं डरता."

नज़रिया: लालू की मुश्किल से नीतीश की चांदी?

चारों पीठों के शंकराचार्यों की नियुक्ति में आरक्षण की मांग

लालू ने ट्वीट में कहा है, "लालू की आवाज दबाएंगे तो देश भर में करोड़ों लालू खड़े हो जाएंगे. मैं गीदड़ भभकी से डरने वाला नहीं हूं. आरएसएस-बीजेपी को लालू के नाम से कंपकंपी छूटती है."

उन्होंने लिखा है, "पूंजीपतियों के सरगनाओं सुनो, ग़रीबों का समर्थन मेरे साथ है."

इमेज कॉपीरइट Twitter

मंगलवार को दो विपक्षी नेताओं के ठिकानों पर इनकम टैक्स और सीबीआई के छापे मारे गए.

एक तरफ लालू यादव से जुड़े कथित बेनामी सौदों की जांच के सिलसिले में आयकर विभाग ने देश भर में 22 जगहों पर छापा मारा तो दूसरी तरफ़ सीबीआई ने पी चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति चिदंबरम से जुड़ी कई जगहों पर तलाशी ली.

लालू ने ट्वीट कर पूछा है, "वो कौन से 22 ठिकाने हैं जिस पर छापेमारी की ख़बर मीडिया चला रहा है? बीजेपी समर्थित मीडिया और उसके सहयोगी घटकों (सरकारी तोतों) से लालू नहीं डरता."

उन्होंने लिखा है कि 'जबतक आख़िरी साँस है फासीवादी ताक़तों के ख़िलाफ़ लड़ता रहूँगा.'

बेनामी संपत्ति को लेकर छापेमारी

इमेज कॉपीरइट Twitter

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, आयकर विभाग ने दिल्ली, मुंबई, रेवाड़ी और कई जगहों पर कुछ प्रमुख कारोबारियों के ठिकानों पर मंगलवार तड़के छापे मारे.

एक सीनियर अधिकारी ने बताया, "लालू यादव और उनके परिवार से जुड़े जमीन के सौदों के सिलसिले में कुछ लोगों और कारोबारियों की तलाशी ली जा रही है. तकरीबन 1000 करोड़ रुपए के बेनामी सौदों और उससे जुड़ी टैक्स चोरी के आरोप हैं."

पिछले हफ्ते ही बीजेपी ने लालू यादव, उनकी सांसद बेटी मीसा भारती और बिहार सरकार में दोनों मंत्री बेटों पर 1000 करोड़ रुपए के बेनामी सौदों में शामिल होने का आरोप लगाया था और केंद्र सरकार से इसकी जांच कराने की मांग की थी.

इमेज कॉपीरइट RAVEENDRAN/AFP/Getty Images

चिदंबरम के यहां छापा

केंद्रीय जांच ब्यूरो ने पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के सीनियर लीडर पी चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति चिदंबरम से जुड़े कई जगहों पर मंगलवार सुबह तलाशी ली.

सीबीआई प्रवक्ता आरके गौड़ ने एक बयान जारी कर कहा है कि एफ़आईपीबी की मंज़ूरी में आपराधिक ग़लती के सिलसिले में कार्ति चिदंबरम के घर समेत मुंबई, दिल्ली, गुरुग्राम और चेन्नई में छापे मारे गए हैं.

सीबीआई की छापेमारी के बाद पी चिदम्बरम ने एक बयान जारी कर कहा, "एफ़आईपीबी की मंज़ूरी सैंकड़ों मामलों में दी जाती है. सरकार के पांच सचिव इसका हिस्सा होते हैं और उनमें से किसी के ख़िलाफ़ कोई आरोप नहीं है. मेरे ख़िलाफ़ भी कोई आरोप नहीं हैं. हर मामले का निपटारा नियमों के मुताबिक किया गया है."

बयान में आगे कहा गया है, "सरकार सीबीआई और दूसरी एजेंसियों के ज़रिए मेरे बेटे और उसके दोस्तों को निशाना बना रही है. सरकार का मकसद मेरी आवाज़ को खामोश कर देना और मुझे लिखने से रोकना है. जैसा कि विपक्षी नेताओं, पत्रकारों, स्तंभकारों, गैर सरकारी संगठनों और नागरिक संगठनों के मामलों में उसने करने की कोशिश की है. और मैं ये कहना चाहता हूं कि मैं बोलना और लिखना जारी रखूंगा."

चिदंबरम के ख़िलाफ़ जाँच से सीबीआई

इमेज कॉपीरइट Twitter @KartiPC
Image caption सीबीआई ने कार्ति चिदंबरम के घर पर छापा मारने की बात मानी है

समाचार एजेंसी पीटीआई ने चेन्नई में एक सीनियर पुलिस अधिकारी के हवाले से बताया कि चेन्नई के नुंगमबक्कम में चिदंबरम के घर में भी छापेमारी की गई है.

अपुष्ट सुत्रों का कहना है कि चिदंबरम के होम टाउन करैकुडी में भी रेड पड़े हैं.

जांच एजेंसी ने हाल ही में एफ़आईपीबी मंजूरी में कथित अनियमितता को लेकर केस दर्ज किया है. कथित अनियमितता के ये मामले चिदंबरम के वित्त मंत्री रहते हुए थे.

पूर्व वित्त मंत्री भाजपा के नेतृत्व वाली मौजूदा केंद्र सरकार के मुखर आलोचक रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट CBI
Image caption इस मामले में कार्ति चिदंबरम के साथ अन्य अभियुक्तों के नाम

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे