नज़रिया- जो ख़ुद को हिंदू न माने उसे नक्सली माना जाए?

  • 16 मई 2017

पाखंड कोई करना चाहता नहीं है, लेकिन संविधान और कानून के कारण करना पड़ता है जिसने लोकतंत्र में सबके अधिकार और कर्तव्य तय किए हैं.

बिना दोहरे-तिहरे पैमाने अपनाए जातिवाद और धर्मांधता का मध्ययुगीन एजेंडा आगे बढ़ा पाना संभव नहीं है.

सहारनपुर ग्राउंड रिपोर्ट: दलित-राजपूत टकराव

'ख़ौफ़ देखा है मैंने अपने दोनों बच्चों की आंखों में'

इसे इन दिनों चर्चा में आए दलित युवाओं के नए संगठन भीम आर्मी और जाति-धर्म की आग में झुलसते सहारनपुर की दो घटनाओं के जरिए समझा जा सकता है.

अंबेडकर जयंती 14 अप्रैल को होती है लेकिन सहारनपुर के सांसद राघव लखनपाल शर्मा और सत्ताधारी भाजपा के कई विधायकों ने अंबेडकर शोभा यात्रा 20 अप्रैल को निकाली.

इमेज कॉपीरइट Pti
Image caption (फ़ाइल फ़ोटो)

नेता ही ले रहे क़ानून हाथ में

मुस्लिम बहुल इलाकों से बिना प्रशासन की अनुमति के निकाले गए अंबेडकर जयंती जुलूस में 'जय श्रीराम' और ...'योगी योगी कहना होगा' के नारे लग रहे थे, यह अंबेडकर को हिंदुत्व की श्रद्धांजलि थी.

दोनों पक्षों के बीच पत्थरबाज़ी और आगज़नी के बाद प्रशासन ने जुलूस को रोका तो भाजपा सांसद की अगुवाई में सीनियर एसपी के बंगले पर तोड़फोड़ हुई.

'हमें तो ये हिंदू ही नहीं मानते वरना ऐसा बर्ताव करते'

'एसएसपी के मकान पर हमला, पुलिस के मनोबल का क्या'

इस कांड के ठीक पहले यूपी के मुख्यमंत्री योगी ने पार्टी के सांसदों-विधायकों से कानून हाथ में न लेने को कहा था जिसे उन्होंने एक कान से सुना दूसरे से निकाल दिया.

शायद वे जानते थे कि मुख्यमंत्री की पृष्ठभूमि को देखते हुए उनकी सलाह को कितनी गंभीरता से लेने की ज़रूरत है.

भीम आर्मी पर एनएसए लगाने की तैयारी

दूसरी घटना शब्बीरपुर में 5 मई को महाराणा प्रताप जयंती के जुलूस के दौरान हुई.

बड़े पैमाने पर हिंसा हुई, दलितों के बीसियों घर जला दिए गए, मंदिर में रखी संत रविदास की मूर्ति तोड़ दी गई.

इस हिंसा में एक राजपूत युवक की मौत हो गई जिसकी मौत का कारण पोस्टमार्टम रिपोर्ट में दम घुटना बताया गया है.

बताया जा रहा है कि अब प्रशासन भीम आर्मी पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) लगाने की तैयारी में है और उसके नक्सली संबंधों की जांच की जा रही है क्योंकि उसके तौर-तरीके नक्सलियों से मिलते-जुलते बताए जा रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Pti
Image caption सहारनपुर का शब्बीरपुर गांव

पीड़ितों पर ही कार्रवाई

यहां गौर किया जाना चाहिए कि पांच घंटे तक पुलिस की मौजूदगी में शब्बीरपुर में नंगी तलवारें भांजने वालों और पेट्रोल बम लेकर दलितों के घर जलाने वालों से तो मानो राष्ट्रीय सुरक्षा को कोई खतरा नहीं है?

मुख्यमंत्री की हिदायत के बावजूद कार्यकर्ताओं को साथ एसपी के बंगले पर आक्रमण कर उसके बीबी-बच्चों को गौशाला में छिपने के लिए मजबूर कर देने वाले भाजपा सांसद की छापामार शैली क्या नक्सलियों से नहीं मिलती है?

लेकिन ये क़ानून भीम आर्मी पर आज़माए जाने की संभावना है जिसने किसी के घर तोड़फोड़ नहीं की, बल्कि उन्हीं के घर जलाए गए थे.

यहाँ प्रशासन का जातीय पूर्वाग्रह और सत्ताधारी पार्टी की चुप्पी सामने आती है.

सभी जानते हैं कि यूपी प्रशासन की जातीय लॉबियों को सत्ताधारी दल अपने लिए मुफीद जातीय समीकरणों के हिसाब से ताश के पत्तों की तरह फेंटते और इस्तेमाल करते रहते हैं.

यही कारण है कि हर बिरादरी अपने कलेक्टर और थानेदारों की संख्या को प्रशासन में भागीदारी का पैमाना मानने लगी है.

पहली बार'फ़ाइट बैक'

अब तक दलित जातीय संघर्ष की घटनाओं में पीड़ित और फरियादी के रूप में ही दिखाई देते रहे हैं, लेकिन पहली बार वे आश्चर्यजनक रूप से संगठित होकर लड़ते दिखाई दिए.

पहली बार एक संगठन 'गर्व से कहो हम चमार हैं' का नारा बुलंद कर रहा है, वरना दलितों की पार्टी बसपा (जिसने भीम आर्मी से दूरी बना ली है) अब तक इसे अपमानजनक जाति सूचक शब्द मानने, न मानने की बहस में उलझी है.

इसके नेता चंद्रशेखर ने हिंदुओं से अलगाव दिखाने के लिए अपना उपनाम 'रावण' रखा है और उनका कहना है कि आरएसएस राष्ट्रविरोधी है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

उधर मुख्यमंत्री योगी ताल ठोंक रहे हैं कि राणा प्रताप को महान मानना होगा, अकबर को नहीं.

इन सब बातों से एक सूत्र निकलना लाज़िमी है कि जब दलित खुद को हिंदू मानने से इनकार करते हैं तो वे नक्सलियों जैसे दिखने लगते हैं.

भीम आर्मी बसपा की सियासी तिकड़मों से नाराज़ नौजवानों की आवाज़ है.

मीडिया कहां बिज़ी है?

पाखंड की संस्कृति के कारण राजनीतिक पार्टियां यह नहीं कह पा रही हैं कि अंबेडकर दरअसल हिंदुत्व विरोधी थे, उन्होंने हिंदू धर्म में मौजूद छुआछूत के विरोध में बौद्ध धर्म अपना लिया था.

इसी तरह महाराणा प्रताप सिर्फ़ ठाकुर होने के कारण वीर नहीं थे, उनकी जिंदगी भीलों और मुसलमानों के समर्थन और बहादुरी पर निर्भर थी.

मुसलमान हकीम ख़ान सूर राणा प्रताप के सिपहसालार थे और अकबर की लड़ाई असल में राजपूत मान सिंह लड़ रहे थे.

ये बातें मीडिया बता सकता था, लेकिन जिन दिनों सहारनपुर जल रहा था वह पॉप सिंगर जस्टिन बीबर की अदाएं दिखाने में व्यस्त था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे