भारत में सेक्स टॉय का कारोबार कितना आसान?

सेक्स
Image caption भारत में आसान नहीं है सेक्स से जु़ड़े उत्पादों की बिक्री

भारत में कई चीज़ों का लोग इस्तेमाल तो करते हैं लेकिन उसे खुलेआम ख़रीदने से बचते हैं. लोग इन चीज़ों पर बात करने में भी लज्जा महसूस करते हैं.

भारत में सेक्स हमेशा से वर्जना की तरह रहा है. ऐसे में लोग सेक्स से जुड़ी चीज़ों को लेकर बात करने पर भी शर्म महसूस करते हैं. यहां कंडोम लेने के लिए लोग कोड वर्ड का इस्तेमाल करते हैं ऐसे में सेक्स टॉय तो दूर की बात है.

सेक्स को हमेशा पर्दे के पीछे ही क्यों रखा गया?

सेक्स के प्रति बढ़ती अरुचि- आख़िर क्यों?

सेक्स सेल से चलता है कुदरत का कारोबार

Image caption 'दैट्स पर्सनल' कंपनी के संस्थापक समीर सरैया

बीबीसी ने भारत में इन चीज़ों के व्यापार और लोगों के व्यवहार को लेकर एक पड़ताल की है.

मुंबई में 'दैट्स पर्सनल' नाम की एक कंपनी है जो भारतीयों में सेक्स और उससे जुड़े उत्पादों को लेकर शर्म और वर्जना को ख़त्म करने की कोशिश कर रही है.

'टैबू को ख़त्म करना होगा'

'दैट्स पर्सनल' कंपनी के संस्थापक समीर सरैया का दावा है कि वह भारतीयों के बीच इस लज्जा को ख़त्म करने की कोशिश कर रहे हैं.

दैट्स पर्सनल कंपनी एडल्ट्स गेम, वाइब्रेटर्स समेत ऐसे कई उत्पादों को बेचती है. समीर ने कहा कि वह भारतीय बाज़ार में दुनिया के बेहतरीन उत्पादों को मुहैया कराने की कोशिश कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि कई भारतीय लोग तो कंडोम मांगने में भी शर्म महसूस करते हैं.

समीर ने कहा, ''यहां लोगों को कंडोम लेना होता है तो काउंटर पर आकर वो कहते हैं कि उन्हें 'एक्स' चाहिए. लोग कंडोम मांगने के लिए एक्स को कोड वर्ड के रूप में इस्तेमाल करते हैं. लोग कंडोम को ब्लैक प्लास्टिक में ले जाते हैं ताकि कोई देख न ले.''

क़ानून का चक्कर

इन उत्पादों को लेकर भारतीयों के ऐसे व्यवहार के बीच बिज़नेस करना कितना आसान है? समीर का कहना है कि भारत का क़ानून बहुत जटिल है. हमारे पास इन उत्पादों का एक छोटा सबसेट होता है जो भारत में वैध है.

उन्होंने कहा, ''दूसरी बात यह कि ये उत्पाद भारत में कभी उपल्ब्ध नहीं रहे हैं. ऐसे में लोगों को हमें समझाने में कड़ी मेहनत करनी पड़ती है कि इसके क्या फ़ायदे हैं.''

समीर ने कहा, ''इस सामानों को बेचने में काफी मुनाफ़ा होता है, ऐसे में हम इस बिज़नेस के साथ बने हुए हैं.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे