कुलभूषण जाधव- ICJ ने भारत की दलील क्यों मानी? अब आगे क्या?

  • 18 मई 2017
इमेज कॉपीरइट EPA

अंतरराष्ट्रीय न्यायालय ने पाकिस्तान की जेल में बंद कुलभूषण जाधव की फांसी पर अंतरिम रोक लगा दी है.

भारत ने विएना कनवेनशन के तहत काउंसुलर एक्सेस नहीं दिए जाने का हवाला दिया था और पाकिस्तान ने इस मामले के कोर्ट के अधिकार क्षेत्र से बाहर होने की दलील दी थी.

लेकिन अंतरराष्ट्रीय अदालत ने कहा कि उसे इस मामले में सुनवाई करने का अधिकार है.

अंतरराष्ट्रीय अदालत ने जाधव की मौत की सज़ा पर रोक लगाई

जाधव जैसे मामलों में ICJ के फ़ैसलों की अनदेखी होती रही है

हरीश साल्वे- वो वकील जिसने कुलभूषण का मृत्युदंड रुकवाया

बीबीसी से बातचीत में अंतरराष्ट्रीय लॉ कमिशन के प्रमुख रहे नरिंदर सिंह ने फ़ैसले के अहम बिंदुओं के बारे में बताया:

इमेज कॉपीरइट ICJ
  • अदालत ने भारत की सभी दलीलों स्वीकार किया है. अदालत ने कहा कि उसके पास इस मामले को सुनने का अधिकार है. अदालत ने ये भी स्वीकार किया कि भारत- पाकिस्तान के बीच विवाद है, उसे सुनने का अधिकार अदालत को है.
  • अदालत ने माना कि कौन्सुलर एक्सेस के मामले में 2008 के समझौते के बावजूद पाकिस्तान ने भारत को कौन्सुलर एक्सेस नहीं दिया, इसलिए अदलत को अंतरिम फ़ैसला देने का हक़ है.
  • भारत ने कहा है कि ये मानवाधिकार का मामला है, जिस पर अब अदालत मामले के मेरिट पर फ़ैसला करेगी.
  • कुलभूषण का मामला भारत के लिए अलग है जिसमें समय काफ़ी कम था. मोदी सरकार ने अंतरराष्ट्रीय न्यायलय में ये मामला इसलिए उठाया क्योंकि पाकिस्तान इस पर टाल मटोल कर रहा था.
  • अदालत का फ़ैसला आने के बाद पाकिस्तान का रुख़ बदल सकता है, जिसके आसार दिख रहे हैं.
  • अदालत ने कहा है कि पाकिस्तान अभी कुलभूषण पर कोई कार्रवाई नहीं करे और पाकिस्तान के लिए ये फ़ैसला मानना ज़रूरी है.
  • पाकिस्तान को ये भी बताना होगा कि इस फ़ैसले पर क्या कदम उठाए गए हैं.
  • अंतरराष्ट्रीय अदालत ने फिलहाल ये नहीं देखा कि पाकिस्तान की अदालत का फांसी पर फ़ैसला सही है या नहीं.
  • अब अदालत देखेगी कि विएना संधि के तहत कौन्सुलर एक्सेस न देने से कुलभूषण के मामले में बचाव का सही मौका मिला या नहीं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे